Type Here to Get Search Results !

हिन्दू धर्म क्या है ?hindu dharm ka asli naam kya hai

Hindu dharm : हिन्दू धर्म न केवल उसके कटु आलोचकों के लिए , अपितु उसके स्वयं के समर्थकों के लिए भी , सदैव से एक रहस्यमयी पहेली रहा है । यह आश्चर्यजनक नहीं है , क्योंकि इसकी लपेट में हजारों वर्ष तक का एवं करोड़ों लोगों के धर्म और दर्शन का विकास समाया हुआ है । 

hindu dharm , sanatan dharm ke bare me bataye ,

यदि अद्वैत दर्शन की उच्चतम उड़ाने हमारी श्रद्धा एवं आश्चर्य की वस्तु हैं तो हिन्दुओं के कुछ वर्ग के भयंकर अंध - विश्वास और जादू - टोना के कृत्यों की गहराई हमें घृणित मालूम होती है । कारण सीधा है । हिन्दू धर्म उस अर्थ में धर्म नहीं है जिस अर्थ में यहूदी या अरबों का धर्म है । यह एक आन्दोलन है मानव का , निम्न स्तर से उच्चतम स्तर तक के अध्यात्म का , जो इसमें निहित है । 

यह भी पढ़ें - Hindu dharm में क्या सूर्य देव ही रविवार के देवता माने गए हैं?

इस आन्दोलन की टेढ़ी - मेढ़ी धाराओं से अपरिपक्व मानव गुजरता है , कहीं रास्ते सीधे हैं तो कहीं टेढ़े , जब तक कि वह ज्ञान - भक्ति के युगल प्रस्तर राजमार्ग तक नहीं पहुँचता । चूँकि इस आन्दोलन में मानव के समस्त अनुभव सहज रूप से समाये हैं , अतएव मानवीय पक्ष का कोई विचार- व्यक्तिगत , सामाजिक , राजनैतिक , आर्थिक और पर्यावरण से सम्बन्धित भी- हिन्दू धर्म की विशिष्टताओं से अछूता नहीं है । 

यह भी पढ़ें - पवित्र और प्रामाणिक माने गये अन्य धर्मग्रन्थ भी है ?

इस विचार के अज्ञान से या उसकी अधूरी जानकारी से कई समस्याओं का जन्म हो जाता है जिससे सामाजिक - आर्थिक उथल - पुथल हो जाती है और इसका कुश्रेय हिन्दू धर्म पर थोप दिया जाता है ।

हिंदू धर्म क्या है ,hindu dharm kya hai hindi me,hindu dharm kya hai bataiye?

 हिन्दू धर्म क्या है ?hindu dharm ka arth kya hota hai?

पुराणी फारसी  मैं "स " का उच्चारण "ह " हो जाता है । अतः फारस के निवासियों ने सिंधु नदी के भूभाग को हिन्दुस्तान या हिन्दू देश,यहाँ के निवासियों को हिन्दू  और उनके धर्म को हिन्दू हिन्दू धर्म नामों से पुकारा था । 

यह भी पढ़ें -  यज्ञ के सम्बन्ध में अनेक प्रांत धारणाएँ हैं । उन आपत्तियों का सुविचारित तर्कसंगत निरसन संभव है ?

इस दृष्टि से देखने पर भारत मैं प्रचलि सभी धर्म ,चाहे वह जैन धर्म हो ,बौद्ध धर्म हो या सिख धर्म हो,हिन्दू धर्म के अलग-अलग पहलु मने जा सकते है ।  

लेकिन हिन्दू की परिभाषा के अंतर्गत वही धर्म है जो वेदों पर आधारित और आर्य जाति द्वारा आचरित रहा है ।  परम्परा मैं इसका नाम' सनातन- धर्म'।  चल पड़ा है पड़ा है और यह ठीक भी है । 

 यह अत्यंत प्राचीन भी है और इसमें शास्वत मूल्यों की अवधारणा भी है ।   'सनातन' शब्द  का अर्थ है 'शास्वत 'और 'प्राचीन'है ।  धर्म शब्द  की व्युत्पत्ति ' धृ ' से है ।  इसका अर्थ है विश्व को धारण करने वाला है।  

गौण अर्थ मैं धर्म आध्यात्मिक अनुशासन वह पथ भी होता है जो इस्रानुभूति की और हमें ले जाता है ।  अत्यंत प्राचीन काल से आज तक हिंदी धर्म मैं स्वीकृत आध्यत्मिक अनुसासन के सभी पंथों का निष्ठापूर्ण अनुसरण इस्रानुभूति से प्रेरित रहा है । 

भविष्य मैं भी उनसे प्रेणा अवश्य मिल सकती है । अतः 'सनातन-धर्म' नाम ही ठीक है

इसका उदगम कब और किसने किया? 

 संसार के अन्य धर्मों की बात अलग है ।  किसी एक धर्म दूत या मानवीय इतिहास के कालखंड विशेष मैं हिन्दू धर्म का उद्गम नहीं हुआ । इसकी सबसे बड़ी विशेषता यही है कि धर्मदूत कहलाने योग्य अनगिनत संतों ,ऋषियों और तपसियों की सहजानुभूति और आध्यतमिक साधनों पर आधारित है । 

पकड़ मैं आने योग्य आध्यात्मिक अनुभूतियाँ की पक्की नीव पर टिके  हिन्दू  धर्म की परम्परा युग-युग से गंगा की अविरल धारा की भांति प्रवाहित होती रही है इसलिए इसका नाम 'सनातन-धर्म' पड़ा है । 

हिंदू धर्म की क्या पहचान है?  हिन्दू की उत्पत्ति कैसे हुई? hindu dharm   हिंदू धर्म के संस्थापक कौन है?

हिन्दू धर्म का मूल ग्रंथ क्या है ? आप उसका निचोड़ बता सकते है ?

 वेद ही हिन्दू ग्रन्थ के मूल ग्रन्थ है । 'वेद' वेद शब्द का अर्थ 'ज्ञान ' अथवा 'विवेक' है । इस्वर या परमात्मा  की कृपा से ऋषियों -तपस्वियों  को प्राप्त ज्ञानमूलक अनुभूति की गहराइयों मैं स्वतः स्फृर्त  होने के कारण  वे अपौरूसी  माने जाते है, अर्थात वे मानव रहित नहीं है । 

ऋग्वेद ,यजवर्वेद ,सामवेद ,अथर्वेद ये चार वेद है । इनमें ऋग्वेद ही प्राचीनतम है । उसमें उपलब्ध  ज्योतिशास्त्र के तथ्यों के सहारे लोकमान्य तिलक तथा इतर विद्वान इस निष्कर्ष पर पहुंचे है कि  ऋग्वेद आठ हजार साल पुराना  है। 

ऋग्वेद राचाओं-प्राथनाओं का संकलन है । यजुर्वेद मैं यज्ञ के विधि-विधानों और कर्मकांडों का विवरण है । सामवेद मैं ऋग्वेद की चुनी हुई राचाओं को ही स्व्बध किया गया है । इनका विसिष्ट  योगों  के  अवसर पर स्वर पाठ  होता है । 

सामवेद भारतीय पक्के राग -रागनियों  का उद्गम भी है । अथर्वेद नीति सिद्धांत का संकलन है । उसमें  विज्ञानं की   कुछ शाखाओं ,जैसे आयर्वेद का उल्लेख है जो स्वास्थ्य एवं  आयुविर्धि का विज्ञानं है । 

सुरु से ही प्र्तेक वेद का चार भागों मैं वर्गीकरण हुआ है । जैसे -मन्त्र  या सहिंता , ब्राह्मण , आरण्यक , और उपनिषद । 'सहिंता' इंद्र, वरुण, विष्णु, आदि वैदिक देवताओं के स्तुति-परक मन्त्र है । 

'ब्राह्मण ' यज्ञ-यान के विधि-विधानों  का वर्णन करते है । ब्राह्मण शब्द  ब्राह्मण जाति  का घोतक नहीं है । 

आरण्यक  यज्ञ के कर्मकांडों पर आधारित और वन मैं आचरित विविध ध्यान-सामग्री  का निरूपण  करते है । 

विश्व के मूल मई निहित सत्य क्या है ? मानव का यथार्थ  शरीर  क्या है ? जीवन का लक्ष्य क्या है ? उसे पाने क साधन क्या है ? इन प्रश्नों पर प्रकाश डालने वाले चिंतन का दार्शनिक  प्रतिपादन उपनिषदों  मैं हुआ है । 

Thanks for visiting Khabar daily update. For more सनातनधर्म,click here.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Hollywood Movies