Type Here to Get Search Results !

हिन्दी भाषा का परिचय,जन्म,इतिहास कालखंड और लेख

  हिन्दी भाषा के इतिहास लिखनेवाले अनेक विद्वानों ने हिन्दी का जन्म - काल संवत 700 के लगभग माना है ।

हिन्दी भाषा का परिचय,जन्म,इतिहास कालखंड और लेख , इसकी पुष्टि में वे पुष्प नामक एक कवि का उल्लेख करते हैं , जिसने दोहों में अलंकार - विषयक एक ग्रन्थ की रचना की थी ।

हिंदी भाषा का उद्भव और विकास,हिंदी भाषा का विकास,हिंदी भाषा के विकास का सामान्य परिचय दीजिए
हिन्दी भाषा का परिचय,जन्म,इतिहास कालखंड और लेख 

 खेद है , यह ग्रन्थ अब नहीं मिलता किन्तु हमारे विचार में , जिस भाषा में यह ग्रन्थ लिखा गया होगा , उसे ' अपभ्रंश ' कहना अधिक युक्ति - युक्त होगा क्योंकि पुष्प कवि ने प्रसिद्ध राजा भोज के पूर्व - पुरुष राजामान से अलंकारशास्त्र ' का ज्ञान प्राप्त किया था ।

Next Read : - 

 राजा भोज के चाचा मुञ्ज ने अपने भाई अर्थात् भोज के पिता की हत्या करके सिंहासन हड़प लिया था । यह वाक्पतिराज मुज - जैसा पराक्रमी था वैसा हो उच्चकोटि का कवि भी था ।

 इसकी कविता के कुछ उदाहरण आगे दिये गये हैं । ' अनहिलवाड़े ' के महाराज सिद्धराज जयसिंह के यहाँ आश्रय पानेवाले आचार्य हेमचन्द ने , जिनका जन्म संवत्  1145 (११४५) में हुआ था , अपने प्राकृत व्याकरण में , 

जो संवत् 1168 में लिखा गया है , अपभ्रंश- भाषा के जो उदाहरण दिये हैं , उनमें ' मुज ' की भी रचना है

 जब संवत् 1025 के पीछे की मुञ्ज की रचना अपभ्रंश में समझी जाती है तब उससे 300 वर्षों पहले की पुष्प की रचना भी अपभ्रंश ही में क्यों न समझी जाए ?

 उस समय अपभ्रंश का दौर भी था यद्यपि पीछे से यही अपभ्रंश - भाषा पुरानी हिन्दी में बदल गयी ।

 प्रथम हिन्दी - साहित्य सम्मेलन के सभापति के रूप में महामना मदनमोहन मालवीय ने संवत् 1167 में जो वक्तव्य दिया था , उसमें उन्होंने संवत् 802 में होनेवाले किसी कवि के विषय में कहा था परन्तु उसका नाम तथा उसके ग्रन्थ के विषय में कुछ भी ज्ञात नहीं है ।

Next Read ; - 

 इसके बाद खुमानरासो का विवरण मिलता है । यह संवत् 890 के पूर्व की कृति हो सकती है क्योंकि चित्तौड़ के रावल खुमान का राज - काल संवत् 866 से 890तक है । खेद है , 

यह ग्रन्थ भी अनुपलब्ध है किन्तु पूर्व में बताये कारणों से इसका भी अपभ्रंश में ही होना अधिक सम्भव है ।

 संवत् 990 के लगभग देवसेन सूरि ने नय चक्र नाम का ग्रन्थ दोहों में लिखा तद्पश्चात् माइल्ल धवल नाम के एक और विद्वान् ने प्राकृत में रचना की ।यह भी हमारी समझ में अपभ्रंश में ही रचा गया होगा । 

विक्रम संवत् से कोई 500 वर्षों पहले मगध में प्रसेनजित् नाम का एक राजा था , जिसकी राजधानी राजगृह में थी । 

किसी कवि ने अपभ्रंश भाषा में उसका चरित्र लिखा है , जिसमें से कितने ही दोहे शुभशील गणि ने अपने कथा - कोष में , जो उन्होंने संवत्1059 में लिखा था , दिये हैं । उनमें से केवल एक दोहा उदाहरण के लिए यहाँ दिया गया है ।

 राजा ने सभा में अपने पुत्र को किसी बात पर अप्रसन्न होकर कुछ कठोर वचन कह दिये थे , जिससे रूठकर वह घर से निकल गया और कहीं जाकर किसी का घर - जमाई होकर रहने लगा । 

राजा ने उसे बुलाने के लिए श्लेष युक्त एक दोहा लिखा था । पुत्र ने उसका उत्तर दिया । राजा ने फिर दो दोहे लिखे , जिनमें से एक अनलिखित है ,

" जे मि सभा मह वोलिऊँ ते अपमान कि मान 

  सोजि सँभारि बिचारि करितो आरोग उधान । "

 इसमें पुरानी हिन्दी का ही नहीं , और भी कितनी ही प्रान्तीय बोलियों का स्वरूप स्पष्ट झलक रहा है । मुज्ज के विषय में आपको बताया जा चुका है । 

उसका शासन काल विक्रम की ग्यारहवीं शताब्दी के प्रथम चरण के अन्त में अनुमान किया जाता है । अन्तिम युद्ध में वह कल्याण के सोलंकी राजा तैलप द्वितीय के हाथों कैद कर लिया गया ।

 कैद में तैलप की बहन मृणालवती से उसका प्रेम हो गया और उसने सुरंग में होकर निकल कर भागने की जो युक्ति सोची थी , वह मृणालवती को बता दी ।

 मृणालवती ने मुञ्ज का मंसूबा अपने भाई से कह दिया , जिससे मुञ्ज पर और भी कड़ाई होने लगी ।

 इस दोहे में जो उदाहरण दिये गये है वे ' मुञ्ज ' की उसी समय की रचनाएँ हैं

 " जा मति पच्छड़ संपज्जइ सा मति पहिली होइ 

    मुंज भणइ मुणालवइ बिघन न बेढइ कोइ ।

 ' अर्थात् जो बुद्धि पीछे से , यानी कुछ खोकर , पैदा होती है , वह यदि पहले से हो जाए तो सुज्ञ कहता है- हे मृणालवती ! कोई विघ्न न पड़े ।

 कहा जाता है कि संवत्1080 के लगभग जब महमूद ग़ज़नवी ने कालिंजर के राजा नन्द पर चढ़ाई करने का विचार किया था तब राजा नन्द ने एक छन्द लिखकर सुलतान के पास भेजा , जिसका अर्थ जान - समझकर वह इतना प्रसन्न हुआ कि उसने न केवल कालिंजर पर चढ़ाई करने का विचार छोड़ दिया बल्कि 15 क़िले राजा को और दे दिये ? खेद है , वह छन्द देखने में नहीं आता ।

 आचार्य हेमचन्द के सम्बन्ध में अनहिलवाड़े महाराज सिद्धराज जयसिंह के नाम का उल्लेख किया जा चुका है । 

उनके शासन काल में कुतुब अली नाम का एक मुसलमान कवि था , जिसकी मस्जिद कुछ लोगों ने खोद डाली थी । इस पर कुतुब अली ने महाराज से छन्दबद्ध प्रार्थना की थी ।

 महाराज ने प्रसन्न होकर न केवल मस्जिद फिर से बनवा दी थी बल्कि मस्जिद खोदनेवालों को उचित दण्ड भी दिया । खेद है , कुतुब अली की भी कोई रचना नहीं मिलती । वैसे यह घटना संवत्1150 से 12०० तक के बीच में कभी घटी होगी क्योंकि उन महाराज का शासन - काल यही माना जाता है ।

 संवत् 1180 के लगभग साद का बेटा मसऊद भी हिन्दी का कवि था । खेद है , उसकी रचना भी नहीं मिलती । 

बीकानेर के साईंदान - चारण - द्वारा संवत् 1191 में लिखे गये समन्त सार नाम के ग्रन्थ का पता चलता है । डीडवाणा ( मारवाड़ ) के अकरम फ़ैज़ का जन्म संवत् 1179 में हुआ था ।

 कहा जाता है , वे जयपुर के महाराज माधव सिंह के आश्रित थे । उन्होंने वर्तमाल काव्य की रचना की और वृत्तरत्नाकर का अनुवाद किया था । 

यद्यपि इस समय की भी कितनी ही रचना अपभ्रंश ( जिसको उस समय पुरानी चाल की हिन्दी समझा जाता रहा होगा ) में मिलती हैं तथापि हमारी राय में तब तक हिन्दी को स्वतन्त्र रूप प्राप्त हो गया था ।

 चन्द और जगनिक की रचनाओं पर ध्यान देने से इस अनुमान के सत्य होने में तनिक भी सन्देह नहीं रहता । 

चन्द का जन्म संवत् 1183 में लाहौर में हुआ था । वे पृथ्वीराज के आश्रित थे । उनका समकालीन जगनिक महोबे के परमाल राजा का आश्रित था । चन्द की रचना

में सभी प्रान्तीय भाषाओं की झलक दिखायी देती है । उन्होंने फारसी और अरबी के भी शब्दों का वेधड़क प्रयोग किया है । पृथ्वीराज रासो की भाषा के विषय में वह स्वयं कहता है , 

" उक्तधर्मविशालस्य राजनीति नर्स रसम्

   पभाषा पुराणं च कुरान कथितं मया ।

 " यहाँ कुरान से मतलब अरबी - फारसी के शब्दों से है । चन्द के पहले तथा उसके समय में भी कितने ही और कवि रहे होंगे परन्तु खेद है , दो - एक को छोड़कर बाकी का पता नहीं चलता । 

पृथ्वीराज का जन्म संवत् 1205 में हुआ था और संवत् 1248 में वे मोहम्मद गोरी - द्वारा मारे गये थे । 

कहा जाता है . चन्द की मृत्यु भी उन्हीं के साथ हुई । उस समय भी कोई - कोई कवि अपभ्रंश भाषा में रचना करते थे किन्तु उनकी भाषा भी पुरानी हिन्दी से बहुत कुछ मिलती - जुलती है । 

उदाहरण के लिए , अनहिलवाड़े के सोमप्रभ सूरि के लिखे कुमारपाल - प्रतिबोध का नाम लिया जा सकता है . जो संवत् 1249में रचा गया था ।

 उसमें से केवल एक उदाहरण दिया गया है ।इसे समझने का प्रयास करें ,

 " अम्हे थोड़ा रिउ बहुय इयु कायर चिन्तन्ति 

   मुद्धि निहालहि गयण यलु कह उज्जोउ करन्ति । " 

अर्थात् “ हम थोड़े हैं , रिपु बहुत है " , यो कायर सोचते हैं । हे मुग्धे ! देख , आकाश में कितने ( नक्षत्र ) है , जो उजाला करते है ।

 चन्द ने रासों में जिन छ : भाषाओं के व्यवहार करने की बात कही है , उससे और उनकी रचना देखकर भी यही प्रतीत होता है कि उस समय तक थोड़ा - बहुत भेद रखनेवाले हिन्दी के कितने ही रूप प्रचलित हो गये थे , 

जैसा कि आजकल भी देखने में आते हैं किन्तु जो रूप , कुछ विशेष कारणों से ऊपर आ गये , वे आ गये ; शेष इस जीवन - संघर्ष में या तो लुप्त हो गये अथवा दब गये ।

 चन्दने पृथ्वी - राज रासो ' लिखा अथवा नहीं और यदि लिखा तो कितना लिखा , इस विषय में विद्वानों में मतभेद है । कुछ का मत है कि उसमें बहुत सामग्री बाद में जोड़ी गयी हैं ।

 जो हो , उनको रचनाओं में से कितनी ही ऐसी रचनाएँ हैं , जो अपभ्रंश रचनाएँ , राजस्थानी तथा अपभ्रंश और ब्रज - भाषा के बीच के गड्ढे को भरती हुई , इतिहास - प्रेमियों के लिए गवेषणा की प्रचुर सामग्री प्रस्तुत करती हैं ।

 आगे उनकी कृति में से केवल दो उदाहरण दिये जाते हैं , जिनसे आप स्वयं अनुमान कर लेंगे कि उन्होंने किस प्रकार कहीं तो कितनी ही भाषाओं की चटनी कर दी और कहीं शुद्ध ब्रजभाषा में लिखा , 

" खुरासान मुलतान खंधार मीरं

 बलक सोवल तेग अच्चूक तीरं

                 रुहंगी फिरंगी हलबी समानी

                    ठटी ठट्ट बल्लोच ढालं निसानी

 मँजारी चखी मुक्ख जंबक्क लारी

 हजारी हजारी इकें जोध भारी

                         तिनं पप्पर पीठ हय जीन सालं 

                            फिरंगी कती पास सुकलात लाल "

अब आजभाषा का शुद्ध रूप समलिए ,

"पूरन  सकल  विलास रस सरस पुत्र फलदा,

  अन्त होय सहगामिनी.नेह नारि को मान।"

                        समदरसी ते निकट है भुगति  मुकति भरपूर,

                    विषम दरस वा नरन ते सदा सरबदा दूर।

पर योषित परसें नहीं ते जीते बीच 

         परतिय तक्कत रैनदिन ते हारे जग नीच।"

 इसमें  तक्कत को छोड़कर और सब शुब ब्रजभाषा में हैं ।

 इस समय अपभ्रश की भाँति किसी एक भाषा का साम्राज्य न होने पर भी भिन्न - भिन्न राज्यों बोली जानेवाली भाषाली में बहुत समता पायी जाती है ।

 इसका कारण उन सबका एक ही घर को बेटियां अगवा भतौजिया होना है । कहावत है , " हर बारह कोस ( भाषा बदल जाती है किन्तु रूप - रंग को समता देखकर पहचाना जा सकता है कि कौन किस कुटुम्ब की है ।

ऊपर दिए गए उदाहरणों को ध्यान से देखने पर अनुमान लगाया जाता है कि हिन्दी के भिन्न - भिन्न रूपों का ढाँचा विक्रम की तेरहवीं शताब्दी से पहले ही तैयार हो गया था । अब हिन्दी के उस रूप के विषय का अध्ययन करना युक्तियुक्त होगा , जिसमें यह पुस्तक लिखो गया है ।

 यह रूप आगरा , दिल्ली , मेरठ , सहारनपुर आदि के आस - पास भाषाओं के उसी तुमुल युद्ध के समय से प्रचलित है , जब वे अपभ्रंश से अलग हुई थीं ।

 चन्द की कविता में इसकी झलक दिखायी देती है किन्तु सबसे पुरानी क्रमबद्ध रचना , जो इसमें मिलती है , अमीर खुसरो की है । संवत् 1312 में अमीर खुसरो का जन्म हुआ था । वे फारसी के अतिरिक्त हिन्दी के भी विद्वान् दे और बड़े मनचले थे ।

 उनकी रचना पढ़ने से सहज में ज्ञात है कि उनके समय तक हिन्दी का यह रूप कहाँ तक विकसित और स्वतन्त्र हो चुका था ।

 अमीर खुसरो की रचना के कुछ नमूने यहाँ दिये गये हैं समझने का प्रयास कीजिए-

" एक थाल मोती से भरा सबके सिर पर औंधा धरा ,

 चारों ओर वह थाली फिर मोती उससे एक न गिरे ।

 यह आकाश की पहेली है ।

 " बाला था जब सबको भाया बढ़ा हुआ कुछ काम न आया ,

 खुसरी कह दिया उसका नाम अर्थ करो नहीं छोड़ो गाम । " 

 " यह दीये की पहेली है । 

ससे प्रमाणित होता है कि इस भाषा का नाम ' हिन्दी ' खुसरो के समय तक पड़ चुका था । वैसे ' हिन्दू ' , ' हिन्द ' आदि शब्द बहुत पुराने हैं । फारसवालों ने सिन्ध देश का हिन्ध नाम रख लिया था । 

यहाँ स का ह में बदल जाना , तुलनात्मक शब्द - शास्त्र के एक व्यापक नियम के अनुसार हुआ , जिसके अनुसार संस्कृत का सप्त फ़ारसी में हफ़्त और सप्ताह को हफ़्ता कहा जाता है ।

Hindh का हिन्द हो जाना साधारण बात है । हिन्द के रहनेजाले हिन्दू अपया हिन्दी कहलाये और उनमें जो भाषा सबसे अधिक व्यापक थी , वह अन्त में हिन्दी भाषा कहलायी । यह नाम मुसलमानों के यहाँ पधारने से कहीं पहले का है ।

" पच्च खाना: सप्त मीरा नव साहा महाबला:,

 हिन्दूधर्मप्रलोप्तारों जायन्ते चक्रवर्तिनः ।"

 ( २ )

 " हिन्दूधर्म प्रलोप्तारों भविष्यन्ति कलीयुगे।"

  " क्रमश : मेरुतन्त्र और शिवरहस्य के इन श्लोकों को पीछे से मिलाये गये भी मान लिये जाएँ तो भी ईसा मसीह से बहुत पहले फारस में लिखी गयी 

दसातीर नामक पारसी धर्मपुस्तक में जो अकनू बिरहमने व्यास नाम अज़ हिन्द आमद बसदाना के अकिल चुनानस्त और चूं व्यास हिन्दी बलख आमद लिखा है , वहीं हिन्दी शब्द की प्राचीनता के प्रमाण में यथेष्ट है ।

 अमीर खुसरो के अतिरिक्त और भी मुसलमान लेखकों ने इस शब्द का प्रयोग किया है । 

किसी मुसलमान लेखक ने धार्मिक विषय को लेकर नूरनामा नाम की पुस्तक पहले कभी तैयार की थी । उसमे उसने उस भाषा को भी हिन्दी ही बताया है , जिसको आजकल उर्दू कहते हैं ।देखिए,

 " जुवाने अरब में य ' था सब कलाम,

 किया नज्म हिन्दी में मैंने तमाम ।

 अगरचे था अफ़सः वो अरबी जुबाँ ,

व लेकिन समझ उसकी थी बस गिराँ ।

 समझ उसकी हरहक को दुशवार थी,

 कि हिन्दी ज़बा याँ तो दरकार थी।

 इसी के सबब मैंने कर फ़िक्रो गौर ,

 लिखा नूरनामे को हिन्दी के तौर ।

 " मलिक मोहम्मद जायसी ने शेरशाह के समय में पद्मावत नामक एक प्रसिद्ध काव्य ग्रन्थ की रचना की थी । उसमें उन्होंने कहा है , 

" तुरकी अरबी हिन्दवी भाषा जेतो आहि , 

  जामें मारग प्रेम का सबै सराहें ताहि । " 

जटमल ने संवत् १६८० में जो गोरा - बादल की कथा लिखी है , उसमें ' हिन्दवी ' शब्द लिखा है । इन सब बातों से सूचित होता है कि उस समय तक हिन्दी के अरबी - फारसी मिश्रित रूप का नाम ' उर्दू ' नहीं पड़ा था ।

 प्राकृत अथवा संस्कृत से भेद प्रकट करने के लिए हिन्दी को ' भाषा ' भी कहा जाता था । आज भी ' भाषा - टीका - सहित ' पुस्तकों के विज्ञापन देखने में आते हैं ।

 पहले गद्य होता है तब पद्य । यह बात दूसरी है कि पुस्तकें पद्य में लिखी जाएँ । 

जब तक कोई भाषा बोल - चाल में न आये तब तक उसमें कोई कैसे काव्य - रचना कर सकता है ? खुसरो की रचना उस समय की बोल - चाल की भाषा का सुन्दर और स्वच्छ स्वरूप दिखा रही है । 

परन्तु प्रसिद्ध विद्वान् डॉक्टर सर जॉर्ज ग्रियर्सन , जिनके ऋण से हिन्दी - संसार कभी उऋण नहीं हो सकता , कहते हैं कि 

गिल क्राइस्ट की प्रेरणा से फ़ोर्ट विलियम कॉलेज में लल्लूजी लाल ने बोल - चाल हिन्दीकी भाषा में से अरथी फारसी के शब्द हटाकर और उनकी जगह ' इण्डो - आर्यन ' शब्द रखकर मयो भषा गढ़ ली । 

पहले तो लल्लूजी लाल की रचना - शैली ही इस बात का अकाट्य प्रमाण है कि उन्होंने कोई नयी भाषा नहीं गढ़ी , केवल आगरा की बोली में- 

जिसको उन्होंने , ब्रजभाषा अरबी फारसी के शब्द मिली हुई बोली से , जो उस समय रेख्ते की बोली कहलाती थी , भेट बताने के लिए खड़ी बोली कहा है - पुस्तक लिखी लालचन्द्रिका में अपना हाल देते हुए लल्लूजी लाल स्वर्ग कहते हैं ,

इसमें जो पोथियाँ ब्रजभाषा औ खड़ी बोली औ रेखते की बनाई सो सब प्रसिद्ध " दूसरे , उनको शैली में कहीं कहीं ब्रज - भाषा का पुट दिखता है , जिसका होना , अगर केवल शब्दों में हेर - फेर करके वह पुस्तक लिखी जाती तो , असम्भव था ।

 खुसरो ने जिस भाषा में और जिस ढंग से रचना की है , उससे प्रकट होता है कि भाषा का वह रूप उससे पहले भी बोल - चाल में पर्याप्त आता था और उसमें पद्य - रचनाएँ भी होती थी ।

 खुसरो की भाषा में नयेपन अथवा फ़ौजीपन का नाम भी नहीं है । उसमें , वह स्वतन्त्रता और सामर्थ्य दिखायी देती है , जो किसी ठेठ भाषा में होनी चाहिए ।

 जिस समय लल्लूजी लाल ने फ़ोर्ट विलियम कॉलेज में प्रेमसागर की रचना की थी , उसी समय सदल मिश्र ने नासिकेतोपाख्यान और मीर अम्मन ने उर्दू में बागोबहार की रचना की थी ।

 डॉ ० ग्रियर्सन ने उर्दू और हिन्दी - गद्य के जन्म के विषय में स्वयं ही अपने LinguisticSurvey of india नामक ग्रन्थ में लिखा है ।

 "Urdu prose came into existence at the beginning of the last century in Calcutta. Like Hindi prose it was due to English influence and to the need for textbooks in both forms of Hindustani for the college of Fort William. 

the Bagh O Bahar ' of Mir Amman and the Khirade - Afroze ' of Hafiz - Uddin Ahmad are familiar examples of the earlier of these works in Urdu as the already mentioned Prem Sagar ' written by Lallu Lall is an example of those in Hindi. "

 इसका अर्थ यह है - पिछली शताब्दी के प्रारम्भ में उर्दू - गद्य पहले - पहल कलकत्ते में साहित्य - रचना के काम में लाया गया । 

हिन्दी - गद्य की भांति यह भी अँगरेज़ों के प्रभाव से ही उद्भूत हुआ और इसलिए भी कि ' हिन्दोस्तानी भाषा के दोनों रूपों में पाठ्य - पुस्तकों की आवश्यकता थी . फोर्ट विलियम कॉलेज के लिए ।

 मीर अम्मन का ' बागोबहार ' और हाफिजुद्दीन अहमद का ' खिराद - ए - अफरोज'उर्दू के प्रारम्भिक गद्य के नमूने है ; जैसा कि लल्लू लाल का प्रेमसागर ' हिन्दी गद्य का नमूना है ।

 इससे यह साबित होता है कि हिन्दी और उर्दू - गद्य में पुस्तकें पहले - पहल फ़ोर्ट विलियम कॉलेज में लिखी गयीं ।

 इस मत के विरुद्ध हम मुंशी सदासुख सिंह ( जिनका जन्म संवत् 1803 में दिल्ली में हुआ तथा मृत्यु संवत् 1889 में प्रयाग में हुई थी ) और सय्यद इंशाअल्लाह ख़ाँ ( जो 

दिल्ली के रहनेवाले थे किन्तु वहाँ से लखनऊ के नवाब सआदत अली खाँ के यहाँ जाकर रहे थे और जिनकी मृत्यु संवत् 1874 में हुई थी ) को पेश करते हैं ।

 निश्चित रूप में खड़ी बोली के कई गद्य - लेखक मुंशी सदासुख सिंह से पहले के थे ; सम्भव है , उनकी रचनाएँ खोज में मिलें । 

य्यद इंशाअल्लाह ख़ाँ की पुस्तक रानी केतकी की कहानी को डॉक्टर ग्रियर्सन स्वयं संवत् 1857 के लगभग की अनुमान करते हैं । मुंशी सदासुख सिंह का मानक सामान्य हिन्दी

गद्य अभी कहीं छपा नहीं । हमें पुस्तक का परिचय लाला भगवानदीन और रामदास गौड़ की हिन्दी भाषासार नामक पुस्तक में मिलता है ।

 यहाँ चारों की शैलियों के थोड़े - थोड़े नमुने प्रस्तुत हैं ,

 " कितने जन्मान्ध किसी गाँव में बसते थे । वहाँ हाथी आय निकला । जितने अंधे थे , यह बात सुनकर बहुत फूले और मुदित हुए । 

सब मिलकर कहने लगे कि चलो हाथी देखिए । सब मिलकर आए।आँखों से तो अंधे थे।किसी ने सूड पकड़ी हाथ से , उसने कहा हाथी अजगर के बराबर है " -   मुंशी सदासुख सिंह 

 "एक दिन बैठे - बैठे यह बात अपने ध्यान में चढ़ आई कोई कहानी ऐसी कहिए जिसमें हिन्दुई छुट और किसी बोली की पुट न मिले । तब जाके मेरा जी फूल की कली के रूप में खिले।" - सय्यद इंशाअल्लाह खाँ

 "महाराज , सब रानियाँ तो देवी के द्वार पर धरना दे यों मनाय रही थीं और उग्रसेन बसदेव आदि सब यादव महाचिन्ता में बैठे थे कि इसबीच श्रीकृष्ण अविनाशी द्वारका -वासी हसते - हँसते जामवन्ती को लिए आय राजसभा में खड़े हुए ।" - लल्लूजी लाल 

"इस प्रकार से यमपुरी का दक्षिण द्वार अति डरावना है कि जहाँ दूतों के बस होकर पापी लोग एस महानरक में पड़ते वो नाना भाँति के दुःख को सहते हैं ।"-   सदल मिश्र

 -अब इन चारों उदाहरणों को देखकर पाठक स्वयं ही निश्चित कर सकते है कि पिछले दो उदाहरणों की भाषाएँ फ़ोर्ट विलियम में गढ़ी गयी हैं अथवा उस पुरानी बोली के विकसित रूप है , जिनमें अमीर खुसरो ने रचना की थी ।

 पहले दो उदाहरण पाठकों को अपना मत स्थिर करने में बहुत सहायता करें क्योंकि एक तो उनका फोर्ट विलियम कॉलेज से कोई सम्बन्ध नहीं ; दूसरे , कुछ लोगों की राय में वे इतने पहले के लिखे हुए है , जब उर्दू - गद्य का जन्म भी नहीं हुआ था ।

 डॉ ० ग्रियर्सन उर्दू और हिन्दी ( खड़ी बोली ) गद्य का जन्म एक साथ मानते हैं परन्तु पं ० चन्द्रधर शर्मा ' गुलेरी ' ने पुरानी हिन्दी शीर्षकवाले लेख में कहा है -

 " हिन्दी - गद्य की भाषा लल्लू लाल के समय से आरम्भ होती है । उर्दू - गद्य उससे पुराना है । खड़ी बोली - कविता हिन्दी में नई है .... उर्दू पद्य - भाषा उसके बहुत पहले हो गई है । हिन्दू कवियों का यह संप्रदाय रहा है कि हिन्दूपात्रों से प्रादेशिक भाषा कहलवाते थे और मुसलमान पात्रों से खड़ी बोली ।

इसी लेख में एक जगह वे कहते हैं -" मुसलमानों में बहुतों की घर की बोली खड़ी बोली है । "

 भला सोचने की बात है कि जो भाषा विश्व के किसी कोने में बोली ही नहीं जाती थी , उसमें चौदहवीं सदी में पद्य - रचना कैसे कर दी गयी थी ।

 चन्द्रधर शर्मा गुलेरी ' ही के कथनानुसार , चौदहवीं शताब्दी में लिखी गयी ' शार्ङ्गधरपद्धति ' में श्रीकण्ठ के लिखे हिन्दी और संस्कृत के असंगत श्लोक में खड़ी बोली कहाँ से आ घुसी ? वह श्लोक यों है -

 " नूनं बादल छाइ खेह पसरी निःश्राण शब्दः खरः

 शत्रुपाडि लुटालि तोडि हनिसौं एवं भणन्त्युदटाः 

 झूठे गर्व भरा मघालि सहसा रे कन्त मेरे कहे 

कंठे पाग निवेश जाह शरणं श्रीमल्लदेवं विभुम् । "

 इस श्लोक के सम्बन्ध में चन्द्रधर शर्मा ' गुलेरी ' का विचार है ,

" इन अवतरणों से जान पड़ता है कि उस समय हिन्दी के दोनों रूप प्रचलित थे - खड़ा और पड़ा। "  

खड़ी बोली की कविता भी हिन्दी में नयी नहीं साबित होती । सम्भव है , गुलेरी ने अमीर खुसरो को रचना को उनके मुसलमान होने के कारण ही , जर्दू मान लिया हो ; हालांकि उर्दू ' का तब तक कहाँ नामो निशां भी नहीं था 

जिस रचना को स्वयं खुसरो ने हिन्दी बताया है , उसे हिन्दी छोड़कर कुछ और क्यों मान लिया जाए , यह समझ में नहीं आता ।

 उर्दू पद्य भाषा को खड़ी बोली का अरबी फारसी शब्द मिश्रित रूप न बताकर , यह कहना कि उर्दू पद्य - भाषा खड़ी बोली से पहले की है . ऐसा ही है जैसा बेटी की उत्पत्ति माँ से पहले मान लेना ।

 हिन्दी - कवियों ने यदि मुसलमान पात्रों से खड़ी बोली में बातचीत करायी तो क्या इसी से साबित हो गया कि खड़ी बोली मुसलमानी भाषा है , जैसा कि गुलेरी ने कहा है ।

 इसका कारण तो केवल यह था कि यह भाषा आगरा और दिल्ली जैसे शहरों की गो . जो उस समय सभ्यता और वैभव के केन्द्र समझे जाते थे ।

 हिन्दी में अरबी फारसी के शब्द देखकर ही मुसलमानी भाषा ठहराना भी ठीक नहीं क्योंकि इन भाषाओं के शब्द हिन्दी - कवियों की कविता में पाये जाते हैं ; यहाँ तक कि तुलसी और सूर की रचनाओं में भी ऐसे असंख्य शब्द है ।

 यह भी बात नहीं कि खड़ी बोली को मुसलमान पात्रों से ही बुलवाया गया हो । कबीर , नानक , दादू आदि सन्तों की कितनी ही रचनाएँ खड़ी बोली में हैं । 

ब्रज - भाषा के लब्ध प्रतिष्ठ हस्ताक्षर कवि आनन्द घन ने अपनी विरह - लीला खड़ी बोली में ही लिखी है ; और भी कितने ही भक्त कवियों की कविताएँ खड़ी बोली में हैं । इन बातों से गुलेरी की उक्ति की निस्सारता प्रकट हो जाती है ।

 आगे चलकर , गुलेरी का यह कहना कि मुसलमानों में बहुतों के घर की बोली खड़ी बोली है , हमें अचरज में डालता है ।

 आगरा , दिल्ली , मेरठ आदि स्थानों को छोड़कर , जहाँ हिन्दी का यह स्वरूप अपभ्रंश - काल के पीछे से ही प्रचलित है , आप प्रयाग , काशी , पटना चाहे जहाँ निकल जाइए , सभी अपढ़ मुसलमान और कितने ही पढ़े - लिखे मुसलमान भी अपने घरों में राज्यीय भाषा बोलते हैं ।

 हाँ , यह अवश्य कहा जा सकता है कि खड़ी बोली का प्रचार शिक्षा के साथ ही दिन - प्रतिदिन बढ़ रहा है और वह भी दोनों जातियों में प्राचीन भाषाओं के विद्वानों की बोलचाल की हिन्दी को म्लेच्छ - भाषा बताना उतना ही अनुचित है , 

जितना कि हिन्दू - सभ्यता से परिचय प्राप्त करने की चिन्ता न करनेवाले अरबी फारसी के विद्वानों का यह कहना कि हिन्दी तो कोई भाषा ही नहीं है , वह कहीं बोली ही नहीं जाती ।

 वर्तमान युग में कितने ही अँगरेज़ी लिखे - पढ़े व्यक्ति कुछ इस प्रकार की भाषा बोलते हुए सुने जाते हैं - 

 " मैं इस पॉइण्ट ( point ) पर ईल्ड ( vield ) नहीं कर सकता , मेरा फुल कन्विक्शन ( full curviction ) है कि मेरा स्टेटमेण्ट ( statement ) टुथ ( truth ) पर बेज्ड ( based ) है । शायद कहीं समथिंग बेटर इन् स्टोर फॉर मी ( something better in store for me ) हो । " 

इधर पढ़े - लिखों का यह हाल है , उधर तकिया और तौलिया बेचनेवाला अंगरेज़ी फ़ौजों में यों कहकर आवाज़ लगाता था - 

" साहब ! पिलुआ , गुदड़ी तौल बाई ( Buy ) ! " 

जवाब में साहब धमकाता था , “ वेल ( Well ) , चला जाओ , अदरवाइज़ ( otherwise ) हम तुमको पुलिस को हैण्ड - ओवर ( handover ) कर देगा ।

हिन्दी को ठीक यही दशा उस समय हुई थी , जब मुसलमानों ने इस देश को जीता और यहाँ अपना प्रभाव फैलाया था । 

हिन्दी का ज्ञान न होने के कारण अपना मतलब समझाने के लिए उन्हें अरबी - फारसी - तुकों आदि के शब्द प्रयोग में लाने पड़ते थे ।

 ठेठ हिन्दी में इन शब्दों के फैल जाने के कारण ही पहले से रेखता को बोली कहा गया । अधिकतर मुसलमान यहाँ फौजियों की हैसियत से आये थे 

इसलिए अरबी - फारसी शब्द मिली हुई हिन्दी को उर्दू हिन्दी अर्थात ' फौजी हिन्दी भी कहते थे , जिस प्रकार बुन्देलखण्डी हिन्दी , वैसवाड़ी हिन्दी , बाबू इंग्लिश आदि कहा जाता है ।

 अब सवाड़ो हिन्दी अथवा बुन्देलखण्डो अथवा राजस्थानी हिन्दी कहने का कष्ट न उठाकर , लोग जैसे बैसवाडी ' , ' बुन्देलखण्डी ' और राजस्थानी कहते हैं । उर्दू के प्रसिद्ध लेखक शम्सुलउलमा मौलाना मोहम्मद हुसेन साहब आज़ाद ने अपनी चर्चित पुस्तक आबेहयात में लिखा है , 

" इतनी बात हर शख्स जानता है कि हमारी उर्दू जुबान ब्रजभाषा से निकली है और ब्रज भाषा वास हिन्दोस्तानी जुबान है ।"

 आजाद की देखा - देखी बाबू बालमुकुन्द गुप्त भी ऐसा ही कहते हैं । सम्भव है , ब्रजभाषा उत्कृष्ट काव्य को देखकर अथवा अपभ्रंश तक पहुंच न होने के कारण मौलाना अबुल कलाम आजाद ने ऐसा लिख दिया हो 

किन्तु बालमुकुन्द गुप्त ने क्यों उनसे सहमत होना उचित समझा , यह समझ में नहीं आता ।

 आधुनिक हिन्दी की उत्पत्ति ' शौरसेनी ' , ' अर्द्धमागधी ' और ' पंजाबी ' के मेल से हुई है इसका ज्ञान आप पिछले पृष्ठों में कर चुके हैं । ब्रजभाषा तो बहुत कुछ शौरसेनी ' का अपभ्रंश है । उससे खड़ी बोली की उत्पत्ति होना असम्भव है ।

 हिन्दी - भाषा पर एक बहुत ही विचारपूर्ण लेख झालावाड़ के विद्वान् महाराणा सर भवानी सिंह ने लिखा है । इधर , मिस्टर क्रीज़ ने हिन्दी साहित्य का छोटा - सा किन्तु श्लाघ्य इतिहास लिखा है ।

 इन विचक्षणों ने जो मत स्थिर किये हैं , उनकी आलोचना के साथ ही हो जाती है । अतएव उनकी अलग से आलोचना भी डॉ ० ग्रियर्सन और गुलेरी के मतों की आलोचना करने की आवश्यकता नहीं ।

 केवल दूसरी भाषाओं के कुछ शब्द आ जाने से किसी भाषा का नाम बदल नहीं सकता । भला सोचने की बात है , ' मोडिक ' भाषा के कुछ शब्द मिलाकर भी पारसी लोग जिस भाषा में बोलते हैं , वह ' गुजराती ' क्यों नहीं कहलाती ? 

भाषा कौनसी है और कौनसी नहीं , इसका ज्ञान उसकी विशेषताओं अथवा उसके व्याकरण के आधार पर किया जा सकता है ।

 कुछ उर्दू - लेखक अरबी - फारसी के शब्दों की भरमार करके और फारसी - व्याकरण तक का कहीं - कहीं अनुकरण करके भाषा के रूप को बिगाड़ने में सदा से तत्पर रहते आये हैं , यह उनकी भूल है । 

उनकी इस कृत्य से हिन्दी की संरचना तनिक भी प्रभावित नहीं हो सकती ।

 वे अपना मन समझाने के लिए इसे भले ही विदेशी आवरण से सजा ले परन्तु शरीर को नहीं बदल सकते । हिन्दी ही उर्दू है , यह बात मैं अपने मन से नहीं कह रहा हूँ ।

 डॉ . राजेन्द्र लाल मित्र और मि ० बीम्स - सरीखे विद्वानों की भी यही राय है । पुराने समय के मुसलमान लेखक भी ऐसा ही मानते रहे हैं , जिसका अध्ययन आप पूर्व में कर चुके हैं । उर्दू नाम पुराना नहीं , नया है ।

1673 ई ० में फ्रायर नामक एक विदेशी विद्वान् ने बादशाही दरबार की भाषा को फारसी और सर्वसाधारण की भाषा को इण्डोस्टान बताया है । 

पीट्रोडैलावेल नामक यात्री का यात्रा विवरण1663 ई ० में प्रकाशित हुआ था । उसने एक ऐसी भाषा के विषय में कहा है , जो सम्पूर्ण भारतवर्ष में प्रचलित थी और नागरी लिपि में लिखी जाती थी ।

 वह भाषा हिन्दी के अतिरिक्त और कौन हो सकती है ? जॉन ऑगिलबी ने1673 में एक बड़ी पुस्तक एशिया के सम्बन्ध में लिखी थी , जिसमें उसने नागरी को लिए और भाषा , दोनों बताया है । 

उसने लिखा है कि मधुर हिन्दोस्तानी भाषा बायीं ओर से सीधी और को लिखी जाती है । 

भला सोचने की बात है , क्या वह भाषा हिन्दी के अतिरिक्त कोई दूसरी हो जैसे भी उर्दू की उत्पत्ति शाहजहाँ के समय से मानी जाती है । 

विजेता मुसलमान हमारे चरी से दूर कोठियों में नहीं रहते थे और न वे यहाँ से लौटकर चले जाने की इच्छा से यहाँ आये थे ।

वे हमारे मोहल्लों और गलियों में रहते थे ; बाज़ारों में दूकानें करते थे ; यहाँ के करोड़ों हिन्दुओं ने भी उनका धर्म स्वीकार कर लिया था और उन्हीं में घुल - मिल गये थे ।

 बहुत - से हिन्दुओं ने उनके यहाँ नोकरी कर ली थी ; बहुत - से उनके यहाँ " पिलुआ गुदड़ी तौल बाई ” करने जाया करते थे ।

 इन्हीं सब कारणों से अरबी - फारसी की शब्दवाली हिन्दी की जड़ जम गयीं । अगर अंगरेज़ लोग भी इसी तरह हिन्दुस्तानियों से घुल - मिल जाते तो एंग्लो - हिन्दुस्तानी भाषा की जड़ जमना असम्भव नहीं था , न है ।

 वह उर्दू हिन्दी पहले मुसलमानों और हिन्दुओं में पारस्परिक भाव प्रकट करने के काम में आयो । मनचले लोग इसमें कविता करने लगे । उसमें कुछ ढंग था ; कुछ बात थी ।

 वह कविता पसन्द को जाने लगी । बादशाहों और नवाबों ने उसे अपनाया । उन्नति का अवसर उसके हाथ आया । धीरे - धीरे , उसने साड़ी उतारकर पाजामा पहन लिया । दरबारों में उसका ज़िक्र होने लगा ।

 सचमुच , ऐसा ही फिर हो , यदि अँगरेज़ लोग भी मुसलमानों की तरह यहाँ अपना घर बना लें और एंग्लो - हिन्दुस्तानी की कविता को प्रोत्साहन दें ।

 बोल - चाल को ठेठ भाषा में भी रचना हुई किन्तु उसमें कोई समर्थ कवि नहीं हुआ । हुआ भी तो चमकने न पाया क्योंकि उसकी पहुंच तथाकथित दिग्गजों तक न थी ।

 उस समय नयी अर्थात् अरबी - फारसी शब्दोवालो को यों पूछ हुई , पुरानी का कोई धनी - धोरी न रहा । इसमे सुन्दरता की कमी न थी ; मधुरता बहुत थी ; सोच भी थी किन्तु अवसर न मिला ।

 हाँ , जन - साधारण की भाषा होने के कारण यह जीवित रही । यह रूप अमर है । इतिहास साक्षी है कि अतीव प्राचीन काल में आज की भिन्न - भिन्न जातियों के पूर्वज किसी एक स्थान पर बसते थे 

और वहाँ से तत्कालीन सामाजिक आवश्यकताओं की पूर्ति में वे कई दलों में विभक्त हो भिन्न - भिन्न दिशाओं में रवाना हुए । जहाँ कहीं आराम पाया , वे बस गये ।

 आज उन्हीं के वंशज भारत , फारस , अरब , मलक्का , जावा , स्पेन , फ्रांस , इंग्लैण्ड , स्कैण्डिनेविया , जर्मनी आदि दशों में अनेक जातियों में विद्यमान मिलते हैं । इसके प्रमाण में इतिहासविद् जातीय आकार - स्वभाव आदि की तुलना कर आश्चर्यजनक समानता समुपस्थित करते हैं ।

 तुलनात्मक भाषा - विज्ञान - विज्ञाता भी ऐतिहासिकों के आदिम स्थान - सम्बन्धी सिद्धान्त का समर्थन करते हुए कहते हैं कि सभी जातियों की भाषाओं में एकमूलता विद्यमान है , 

जिसका कारण यही है कि कभी उनके पूर्वजों का मूल स्थान एक ही था उस मूल स्थान की नैतिक आवश्यकताओं के शब्द विभक्त होने पर भी त्यागे नहीं जा सके ।

 इसी कारण पिता - माता , भाई - बहन , एक - दो , लेना देना आदि पदों और धातुओं की तुलना करने से भिन्न भिन्न भाषाओं में पूरा सादृश्य सहस्रों बाद भी बना हुआ । 

यद्यपि पुरातन आदिम स्थान को भूतल पर दृढ़तापूर्वक इंगित करना असम्भव है तथापि मूल स्थान को स्वीकार करने में कोई आपत्ति नहीं हो सकती ।



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Hollywood Movies