Heart Disease: शरीर के 5 संकेत जो आपको जानने चाहिए

Heart Disease | दिल को खतरा : शरीर के 5 संकेत जो आपको जानने चाहिए :- heart risk पैरों में सूजन , थकान जैसे लक्षणों को हल्के में मत लीजिए
Santosh Kukreti

Symptoms to Heart Disease: शरीर के 5 संकेत जो आपको जानने चाहिए Heart Risk  पैरों में सूजन , थकान जैसे लक्षणों को हल्के में मत लीजिए

Heart Disease: शरीर के 5 संकेत जो आपको जानने चाहिए

Heart Disease शरीर के 5 संकेत जो आपको जानने चाहिए

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार पिछले 20 सालों में दुनिया में होने वाली मौतों का सबसे बड़ा कारण हृदय संबंधी रोग हैं । जब हृदय की मांसपेशियां रक्त को पर्याप्त मात्रा में पम्प नहीं कर पाती हैं तब हृदय संबंधी विकार पैदा होते हैं । 

इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं । जैसे कि रक्त वाहिकाओं का सिकुड़ना , उच्च रक्तदाब , हृदय का धीरे - धीरे कमजोर हो जाना या फिर हृदय का कठोर हो जाना । इससे उसमें न तो पर्याप्त रक्त भर पाता है और न ही वह पम्प कर पाता है । 

ये भी देखें:- मधुमेह रोग के प्रमुख कारण एवं उनके संभावित उपाए और निवारण बताये गए है।

हार्ट फेलियर सोसायटी ऑफ अमेरिका ने हृदय विकार से जुड़े संकेतों को समझने के लिए एक सूत्र FACES ईजाद किया है । यहां F = Fatigue यानी थकान , A = Activity Limitation यानी शारीरिक गतिविधि में कमी , C = Congestion यानी खून का जमाव , E = Edema or Ankle Swelling यानी पैर में सूजन और S = Shortness of breath का अर्थ सांस लेने में दिक्कत से है । 

हार्वर्ड इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के अनुसार हेल्दी लाइफ स्टाइल को अपनाकर खतरा 50 % तक कम किया जा सकता है । समय रहते इन संकेतों को समझ लिया जाए तो हृदय विकार या हृदयघात से जुड़ी समस्याओं का खतरा काफी कम किया जा सकता है ।

Faces से मिलता है दिल की बीमारी का संकेत,हार्ट अटैक के लक्षण बताएं,heart risk ,Heart Disease

Faces से मिलता है दिल की बीमारी का संकेत

थकान : रक्त में ऑक्सीजन की कमी 

हृदयरोग से पीड़ित कई महिला मरीजों में पूरे सप्ताह असामान्य थकावट अथवा अनिद्रा रह सकती है । अर्कासस यूनिवर्सिटी के शोध के शोध में पाया गया कि रक्त में ऑक्सीजन की कमी इसका एक कारण है । 

ये भी देखें:- योग भगाये रोग | 12 महत्पूर्ण योगासान| yoga exercise

गतिविधि में कमीः ब्लॉकेज 

एक्सरसाइज करते समय या शरीरिक गतिविधि के समय ब्लॉकेज के कारण रक्त का प्रवाह सही नहीं रह पाता । इससे सीने में दर्द अथवा दिल पर अतिरिक्त दबाव महसूस होता है । इससे शारीरिक गतिविधि में कमी हो जाती है

खून का जमाव : वाल्व की समस्या 

दिल में फड़फड़ाहट के साथ सिरदर्द या घबराहट महसूस हो रही हो तो यह वाल्व से संबंधित समस्या के संकेत हो सकते हैं । नॉर्थ कैरोलिना यूनिवर्सिटी का शोध बताता है कि यह ब्लड प्रेशर तेजी से नीचे गिरने के संकेत हैं । समय पर इसे पहचान कर रोग को बढ़ने से रोक सकते हैं । 

पैर में सूजनः कमजोर ब्लड फ्लो

यह इस बात का संकेत हो सकता है कि हृदय ब्लड को ढंग से पंप नहीं कर पा रहा । जब दिल पर्याप्त तेजी से रक्त को पंप नहीं कर पाता तब रक्त वाहनियों में वापस लौट जाता है , जिससे सूजन आ जाती है ।

ये भी देखें:-  weight loss करना चाहते हो तो करो ये चार एक्सरसाइज

साँस फूलना 

यदि कुछ समय से छोटे - छोटे काम में भी सांस फूल रही हो । लेटते समय या फिर आराम करते समय भी सांस लेने में दिक्कत हो तो यह हृदय के वाल्व से जुड़ी समस्या हो सकती है । इसे नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए ।

बचाव के वह तो तरीके जो आप अपना सकते हैं

एक्सरसाइज ब्लड सरकुलेशन बढ़ाती है कैलाश ट्रोल कम करती है

Heart Disease  | दिल को खतरा : शरीर के 5 संकेत जो आपको जानने चाहिए

एरोबिक एक्सरसाइज: जॉन हॉपकिन्स मेडिसिन में एक्सरसाइज फिजियोलॉ ब्रिस्क वॉकजिस्ट केरी जे स्टुअर्ट के अनुसार प्रतिदिन 30 मिनट , सप्ताह में पांच दिन एरोबिक एक्सरसाइज जैसे- , रनिंग , स्विमिंग , साइकिलिंग , रोप जम्पिंग आदि से हार्ट की पम्पिंग सुधरती है । इससे सर्कुलेशन बेहतर होता है । ब्लड प्रेशर कम होता है । हृदय मजबूत होता है ।

Heart Disease  | दिल को खतरा : शरीर के 5 संकेत जो आपको जानने चाहिए

रजिस्टेंस ट्रेनिंग: अमेरिकन कॉलेज ऑफ स्पोर्ट मेडिसिन के अनुसार सप्ताह में कम से कम लगातार दो दिन रजिस्टेंस ट्रेनिंग जैसे- वेट उठाना , रजिस्टेंस बैंड से अथवा बॉडी वेट एक्सरसाइज जैसे कि पुशअप , चिनअप आदि से बेलीफैट और बॉडी फैट कम होता है , जो हृदयरोग का बड़ा कारण है । इसके साथ ही कोलेस्ट्रॉल बेहतर होता है ।

अच्छी डाइट : पत्तेदार सब्जियों से 16 % और साबुत अनाज से खतरा 22 % तक कमनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिसिन के अनुसार पत्तेदार सब्जियों में प्रचुर मात्रा में विटामिन के और नाइट्रेट्स पाए जाते हैं । जो रक्तवाहिकाओं की रक्षा करने के साथ ब्लड प्रेशर को कम करते हैं । 

भोजन में पत्तेजदार सब्जियों की मात्रा बढ़ाने से दिल की बीमारी का खतरा 16 % तक कम होता है । वहीं साबुत अनाज में उच्च फाइबर पाया जाता है जो बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करता है । यदि प्रतिदिन लगभग 150 ग्राम साबुत अनाज भोजन में लिया जाए तो खतरा 22 % तक कम हो जाता है ।

Read More:- 

एक्सरसाइज़ करते हुए म्यूजिक सुनने से दूर होती है मानसिक थकान

प्राणायाम क्या है ? प्राणायाम के प्रकार,लाभ,सावधानियां प्राणायाम करने का सही समय

Fitness Mistakes: एक्सरसाइज करने में ना करें ये गलतियां

Thanks for Visiting Khabar daily update. For More Topics click here.

Getting Info...

एक टिप्पणी भेजें

Cookie Consent
We serve cookies on this site to analyze traffic, remember your preferences, and optimize your experience.
Oops!
It seems there is something wrong with your internet connection. Please connect to the internet and start browsing again.
AdBlock Detected!
We have detected that you are using adblocking plugin in your browser.
The revenue we earn by the advertisements is used to manage this website, we request you to whitelist our website in your adblocking plugin.
Site is Blocked
Sorry! This site is not available in your country.