-->

Notification

Iklan

Iklan

Heart Disease (दिल को खतरा): शरीर के 5 संकेत जो आपको जानने चाहिए

शुक्रवार, जुलाई 23 | जुलाई 23, 2021 WIB Last Updated 2021-10-06T07:13:50Z

Heart Disease (दिल को खतरा): शरीर के 5 संकेत जो आपको जानने चाहिए:- heart risk  पैरों में सूजन , थकान जैसे लक्षणों को हल्के में मत लीजिए

Faces से मिलता है दिल की बीमारी का संकेत,हार्ट अटैक के लक्षण बताएं,heart risk ,Heart Disease
Heart Disease  | दिल को खतरा : शरीर के 5 संकेत जो आपको जानने चाहिए

Heart Disease (दिल को खतरा): शरीर के 5 संकेत जो आपको जानने चाहिए

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार पिछले 20 सालों में दुनिया में होने वाली मौतों का सबसे बड़ा कारण हृदय संबंधी रोग हैं । जब हृदय की मांसपेशियां रक्त को पर्याप्त मात्रा में पम्प नहीं कर पाती हैं तब हृदय संबंधी विकार पैदा होते हैं । 

इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं । जैसे कि रक्त वाहिकाओं का सिकुड़ना , उच्च रक्तदाब , हृदय का धीरे - धीरे कमजोर हो जाना या फिर हृदय का कठोर हो जाना । इससे उसमें न तो पर्याप्त रक्त भर पाता है और न ही वह पम्प कर पाता है । 

ये भी देखें:- मधुमेह रोग के प्रमुख कारण एवं उनके संभावित उपाए और निवारण बताये गए है।

हार्ट फेलियर सोसायटी ऑफ अमेरिका ने हृदय विकार से जुड़े संकेतों को समझने के लिए एक सूत्र FACES ईजाद किया है । यहां F = Fatigue यानी थकान , A = Activity Limitaion यानी शारीरिक गतिविधि में कमी , C = Congestion यानी खून का जमाव , E = Edema or Ankle Swelling यानी पैर में सूजन और S = Shortness of breath का अर्थ सांस लेने में दिक्कत से है । 

हार्वर्ड इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के अनुसार हेल्दी लाइफ स्टाइल को अपनाकर खतरा 50 % तक कम किया जा सकता है । समय रहते इन संकेतों को समझ लिया जाए तो हृदय विकार या हृदयघात से जुड़ी समस्याओं का खतरा काफी कम किया जा सकता है ।

Faces से मिलता है दिल की बीमारी का संकेत

1 Fatigue यानी थकान : रक्त में ऑक्सीजन की कमी 

हृदयरोग से पीड़ित कई महिला मरीजों में पूरे सप्ताह असामान्य थकावट अथवा अनिद्रा रह सकती है । अर्कासस यूनिवर्सिटी के शोध के शोध में पाया गया कि रक्त में ऑक्सीजन की कमी इसका एक कारण है । 

ये भी देखें:- योग भगाये रोग | 12 महत्पूर्ण योगासान| yoga exercise

2 Activity Limitaion यानी गतिविधि में कमीः ब्लॉकेज 

एक्सरसाइज करते समय या शरीरिक गतिविधि के समय ब्लॉकेज के कारण रक्त का प्रवाह सही नहीं रह पाता । इससे सीने में दर्द अथवा दिल पर अतिरिक्त दबाव महसूस होता है । इससे शारीरिक गतिविधि में कमी हो जाती है

3 Congestion यानी खून का जमाव : वाल्व की समस्या 

दिल में फड़फड़ाहट के साथ सिरदर्द या घबराहट महसूस हो रही हो तो यह वाल्व से संबंधित समस्या के संकेत हो सकते हैं । नॉर्थ कैरोलिना यूनिवर्सिटी का शोध बताता है कि यह ब्लड प्रेशर तेजी से नीचे गिरने के संकेत हैं । समय पर इसे पहचान कर रोग को बढ़ने से रोक सकते हैं । 

 4 Edema यानी पैर में सूजनः कमजोर ब्लड फ्लो

यह इस बात का संकेत हो सकता है कि हृदय ब्लड को ढंग से पंप नहीं कर पा रहा । जब दिल पर्याप्त तेजी से रक्त को पंप नहीं कर पाता तब रक्त वाहनियों में वापस लौट जाता है , जिससे सूजन आ जाती है ।

ये भी देखें:-  weight loss करना चाहते हो तो करो ये चार एक्सरसाइज

5 Shortness of breath यानी सांस में कमी :

वाल्व में कमी यदि कुछ समय से छोटे - छोटे काम में भी सांस फूल रही हो । लेटते समय या फिर आराम करते समय भी सांस लेने में दिक्कत हो तो यह हृदय के वाल्व से जुड़ी समस्या हो सकती है । इसे नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए ।

बचाव के वह तो तरीके जो आप अपना सकते हैं

एक्सरसाइज ब्लड सरकुलेशन बढ़ाती है कैलाश ट्रोल कम करती है

एरोबिक एक्सरसाइज

Heart Disease  | दिल को खतरा : शरीर के 5 संकेत जो आपको जानने चाहिए
रनिंग

जॉन हॉपकिन्स मेडिसिन में एक्सरसाइज फिजियोलॉ ब्रिस्क वॉकजिस्ट केरी जे स्टुअर्ट के अनुसार प्रतिदिन 30 मिनट , सप्ताह में पांच दिन एरोबिक एक्सरसाइज जैसे- , रनिंग , स्विमिंग , साइकिलिंग , रोप जम्पिंग आदि से हार्ट की पम्पिंग सुधरती है । इससे सर्कुलेशन बेहतर होता है । ब्लड प्रेशर कम होता है । हृदय मजबूत होता है ।

रजिस्टेंस ट्रेनिंग 

Heart Disease  | दिल को खतरा : शरीर के 5 संकेत जो आपको जानने चाहिए
पुशअप

अमेरिकन कॉलेज ऑफ स्पोर्ट मेडिसिन के अनुसार सप्ताह में कम से कम लगातार दो दिन रजिस्टेंस ट्रेनिंग जैसे- वेट उठाना , रजिस्टेंस बैंड से अथवा बॉडी वेट एक्सरसाइज जैसे कि पुशअप , चिनअप आदि से बेलीफैट और बॉडी फैट कम होता है , जो हृदयरोग का बड़ा कारण है । इसके साथ ही कोलेस्ट्रॉल बेहतर होता है ।

(2) अच्छी डाइट : पत्तेदार सब्जियों से 16 % और साबुत अनाज से खतरा 22 % तक कम

अच्छी डाइट : पत्तेदार सब्जियों से 16 % और साबुत अनाज से खतरा 22 % तक कम
Heart Disease  | दिल को खतरा : शरीर के 5 संकेत जो आपको जानने चाहिए

 नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिसिन के अनुसार पत्तेदार सब्जियों में प्रचुर मात्रा में विटामिन के और नाइट्रेट्स पाए जाते हैं । जो रक्तवाहिकाओं की रक्षा करने के साथ ब्लड प्रेशर को कम करते हैं । 

भोजन में पत्तेजदार सब्जियों की मात्रा बढ़ाने से दिल की बीमारी का खतरा 16 % तक कम होता है । वहीं साबुत अनाज में उच्च फाइबर पाया जाता है जो बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करता है । 

यदि प्रतिदिन लगभग 150 ग्राम साबुत अनाज भोजन में लिया जाए तो खतरा 22 % तक कम हो जाता है ।

×
Berita Terbaru Update