Type Here to Get Search Results !

खुद से ईमानदार हैं तो शोहरत आपको धोखा नहीं देगी | motivational speech | अमरीश पुरी

खुद से ईमानदार हैं तो शोहरत आपको धोखा नहीं देगी | motivational speech | अमरीश पुरी:-आत्मविश्वास होना अच्छी बात है , लेकिन बिना डरे सर्वश्रेष्ठ नहीं दे सकतेगीदड़ काने  शिकार करजाओ , तो भी शेर के शिकार की तैयारी करके जाओ । - अमरीश पुरी , ( 1932-2005 ) , ख्यात अभिनेता

अमरीश पुरी,अमरीश पुरी , ( 1932-2005 ) , ख्यात अभिनेता

 खुद से ईमानदार हैं तो शोहरत आपको धोखा नहीं देगी | motivational speech | अमरीश पुरी

मैंने सिनेमा की दुनिया में जब कदम रखा , तब 40 साल का था । ख्याल आता कि अगर 20-21 साल की उम्र से काम शुरू कर दिया होता , तो शायद अनुभव के कारण काम में और निखार आ जाता ! पर भाग्य अपनी जगह है । 

मेरे नसीब में थिएटर में कड़ा परिश्रम लिखा था । मैंने खुद को एक - एक कदम आगे बढ़ाया । मेरी सोच थी कि अगर आप खुद से ईमानदार बने रहोगे , तो समय और शोहरत भी आपसे धोखा नहीं कर सकती । चीजें उसी तरह होती हैं , जैसे उन्हें होना होता है । 

ये भी देखें:- माइकल फेल्प्स | motivational speech | माइकल फेल्प्स के सूत्र

मैंने हमेशा सिर्फ काम पर ध्यान दिया । कब फिल्में सफल होने लगीं , कब दर्शकों के बीच लोकप्रिय हो गया , पता ही नहीं चला । बॉलीवुड की गलाकाट प्रतिस्पर्धा में मैंने धीरे - धीरे सर्वाइव करना शुरू किया । मेरे लिए सफलता बहुत धीमे - धीमे आई , बिल्कुल मेरी शख्सियत की  तरह । धीमी पर स्थिर और उद्देश्य से भरी हुई । 

असफलता सिखाती है , पर सफलता डराती है । ये सुनने में अजीब लगता है कि कोई सफल भी होना चाहता है और सफलता से डरता भी है । मेरी कोई फिल्म जब भी अच्छा प्रदर्शन करती , तो मेरे अंदर एक तरह की चेतावनी पैदा होती । 

ये भी देखें:- विचार की शक्ति जानें | अनंत ऊर्जा | सकारात्मक मनसे बेहतर हालात

मुझे अहसास होता कि इस गति से सफलता जारी रखने के लिए आगे से मुझे और ज्यादा एकाग्रता की जरूरत होगी । बिना डरे आप अपना सर्वश्रेष्ठ नहीं दे सकते । आत्मविश्वास होना अच्छी बात है , लेकिन डर एक अच्छी निशानी है । गीदड़ का शिकार करने जाओ , तो भी शेर के शिकार की तैयारी करके जाओ । 

क्या पता , कब क्या जरूरत पड़ जाए । जब भी मुझसे पूछा जाता कि मेरे लिए सफलता के मायने क्या हैं ? मैं दोहराता , दिमाग ठिकाने पर है । हमेशा उदार बने रहना जरूरी है । बेहद चर्चित हीरो बनने के अपने सपने को मैंने हमेशा पाला - पोसा लेकिन कभी भी सफलता को दिमाग पर हावी नहीं होने दिया । 

मैंने अपने बंगले को वरदान नाम दिया था । मतलब ईश्वर का आशीर्वाद । आप कभी ये नहीं कह सकते कि मैं अपने काम से संतुष्ट नहीं हूं । क्योंकि फिर आपने अपना पूरा योगदान नहीं दिया ! जहां मेरी कमियां रहीं , उन फिल्मों को मैं नहीं देख सकता । 

ये भी देखें:- नेल्सन मंडेला- Motivational thought | खुद पर काबू रखना अच्छे इंसानों की पहचान है

मैं हमेशा प्रतिभा को तराशने में यकीन करता हूं । मैं इस दर्शन को मानता हूं कि दृढ़ निश्चय हमेशा फल देता है , इसलिए कभी भी खुद के प्रति वफादारी मत छोड़िए । आप अपने पीछे अगर कुछ छोड़ते हैं , तो वो है आपका नाम , आपकी वसीयत और दूसरों के लिए अपने अनुभव । 

मैंने सीखा है कि धैर्य रखने का अभ्यास हर किसी को करना चाहिए । कई बार भले ही अभिनेता या कोई भी बेहद प्रतिभाशाली हो , तब भी दूसरों की नजर में आने के लिए उसे इंतजार करना पड़ता है । 

कई बार ये इंतजार बहुत लंबा हो जाता है । इसलिए धैर्य रखें । -अमरीश पुरी की आत्मकथा ' द एक्ट ऑफ लाइफ ' से साभार

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Hollywood Movies