Type Here to Get Search Results !

क्या हैं साहस की पांच महत्वपूर्ण पहचानें ?| एपीजे अब्दुल कलाम , मिसाइलमैन

 अनंत ऊर्जा ( Infinite Energy)जितना साहस होता है , उसी के अनुपात में जिंदगी सिकुड़ती या फैलती है । क्या हैं साहस की पांच महत्वपूर्ण पहचानें ? - एपीजे अब्दुल कलाम , मिसाइलमैन

क्या हैं साहस की पांच महत्वपूर्ण पहचानें ?| एपीजे अब्दुल कलाम , मिसाइलमैन,साहसी मनुष्य की पहली पहचान क्या है, APJ Abdul Kalam, Missileman
क्या हैं साहस की पांच महत्वपूर्ण पहचानें ?| एपीजे अब्दुल कलाम , मिसाइलमैन
pic source instagram -

क्या हैं साहस की पांच महत्वपूर्ण पहचानें ?| एपीजे अब्दुल कलाम , मिसाइलमैन

 साहस की आवाज है , मैं कल फिर कोशिश करूंगा की पहली और साहस सबसे महत्वपूर्ण पहचान यह है कि डर का अनुभव होने के बावजूद व्यक्ति वह करता है जो उचित है । साहस का अर्थ डर का न होना नहीं , बल्कि डर पर जीत हासिल करना है । 

ये भी देखें - अनंत ऊर्जा:अपने शरीर की कद्र करना जरूरी है | Mr. Bean रोवन एटकिंसन

अगर आप डरे नहीं हैं , तो फिर साहस का सवाल ही नहीं पैदा होता । प्रतिक्रिया करने के बजाय हमारे पास कुछ कर डालने का साहस होना चाहिए । बचपन से ही , मैंने मन में हवा में उड़ान भरने का सपना पाल रखा था । 

लेकिन जब वायु सेना में ' शॉर्ट सर्विस कमिशन ' के इंटरव्यू में कामयाब नहीं हो सका , तो सपना टूटने के बाद हिमालय में ऋषिकेश तक पैदल यात्रा की , और जो कुछ हुआ उसे स्वीकार करने की कोशिश करने लगा । 

हम में से कई लोग जिन चीजों की उम्मीदें संजोते हैं , जब वह नहीं मिल पातीं , तो जिंदगी से हार मान लेते हैं । जिसे हम पूरी शिद्दत से चाहते हों , जिसे हमने लगातार चाहा हो , उसके न मिलने पर भी जिंदगी में आगे बढ़ते जाना ही साहस है ।

ये भी देखें -  अनंत ऊर्जा : जिंदगी को हिस्सों में बांटकर उसका आकलन कर सकते हैं | Muhammad Ali

साहस की दूसरी पहचान है अपने दिल की सुनना । 2006 में राष्ट्रपति पद पर रहते हुए मैंने लाभ के पद ' से सम्बन्धित बिल पर हस्ताक्षर करने से पूर्व 18 दिनों तक अपने पास रोके रखा । काफी आत्म चिन्तन के बाद बिल लौटा दिया । 

साहस की तीसरी पहचान है मुश्किलों का सामना होने पर भी डटे रहना , जुटे रहना । मैंने अपने पिता से सीखा कि साहस ' जीत का सिंहनाद ' नहीं है , बल्कि वह धीमी सी आवाज है जो कहती है कि कल मैं फिर कोशिश करूंगा ।

जो सही है उसका साथ देना साहस की चौथी पहचान है । साहस की पांचवीं पहचान है , दुनिया को युवाओं वाले गुण चाहिए- उम्र विशेष के नहीं , बल्कि वैसी मनः स्थिति , इच्छाशक्ति , कल्पनाशीलता , डर के मुकाबले साहस की प्रधानता , जोखिम उठाने की भूख । जितना साहस होता है , उसी के अनुपात में जिंदगी सिकुड़ती या फैलती है । ' 

आपका भविष्य आपके हाथ में किताब से साभार


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Hollywood Movies