Motivational speech: गुस्सा करिए लेकिन कड़वाहट मत लाइए

Motivational speech: गुस्सा करिए , लेकिन कड़वाहट मत लाइए: गुस्सा आना चाहिए , लेकिन उसमें कड़वाहट नहीं होनी चाहिए । ये कैंसर की तरह होती है । ये इंसान

Maya Angelou Motivational Speech: गुस्सा करिए, लेकिन कड़वाहट मत लाइए गुस्सा आना चाहिए, लेकिन उसमें कड़वाहट नहीं होनी चाहिए। ये कैंसर की तरह होती है। ये इंसान को निगल लेती है।-माया एंजेलो, अमेरिकी लेखक 

Maya Angelou Motivational Speech,motivational speech in hindi , गुस्से पर कट्रोल कैसे करें ?,

गुस्सा करिए लेकिन कड़वाहट मत लाइए Maya Angelou Motivational Speech

अगर आपके अंदर गुस्सा नहीं है, मतलब आप पत्थर हैं। आपको गुस्सा आना चाहिए, लेकिन उसमें कड़वाहट नहीं लानी चाहिए। कड़वाहट कैंसर की तरह होती है। ये इंसान को निगल लेती है। जब मैं साढ़े सात साल की थी, मेरे साथ दुष्कर्म हुआ। ज्यादती करने वाला व्यक्ति परिवार के करीब था। मुझे हॉस्पिटल में भर्ती करने की जरूरत पड़ी। उसे जेल हुई और उसी दिन किसी कारण से उसकी मौत हो गई।

Read More: जेन गुडाल: Everything You do Makes a Difference

उस छोटी से उम्र में अपनी तकलीफ के बाद भी मुझे लगा कि मैं उसकी मौत के लिए जिम्मेदार हूं, क्योंकि मैंने उसका नाम पुलिस के सामने लिया था। उस मनोस्थिति में मैंने बात करना बंद कर दिया। और पांच सालों तक खामोश रही। 

लेकिन उन पांच सालों में मैंने लाइब्रेरी में रखी लगभग हर किताब पढ़ डाली। मुझे शेक्सपीयर के सारे नाटक याद हो गए। ढेर सारे लेखकों का काम, कविताएं स्मृतियों में कैद हो गई। जब मैंने बोलने के बारे में सोचा, मेरे पास कहने के लिए बहुत कुछ था। और जो कहना चाहती थी, उसे बयां करने के भी कई तरीके मेरे सामने थे। 

Read More: जिंदगी में संतुलन से खुशी का राज बता रहे हैं अभिनेता रॉबर्ट डाउनी जूनियर

शारीरिक प्रताड़ना, वो भी कम उम्र में न सिर्फ शरीर बल्कि मन को भी तोड़कर रख देती है। जीवन के प्रति निराशा भर जाती है। इससे ज्यादा त्रासद और कुछ नहीं हो सकता, क्योंकि कम उम्र का पीड़ित कुछ नहीं जानने वाली स्थिति से किसी पर भी विश्वास नहीं करने वाली स्थिति में पहुंच जाता है। 

मेरे मामले में, मेरी खामोशी ने मुझे बचा लिया। और मैं इंसान के विचारों से लेकर इंसान की मायूसी और खुशी की कल्पना करने लगी थी। मैं जितना मुमकिन हो हमेशा हंसती-मुस्कुराती रहती हूं। 

जो लोग हंसते नहीं और गंभीर होने का दिखावा करते हैं, मैं उन पर भरोसा ही नहीं कर पाती। मेरा मानना है कि अगर आप गंभीर हैं, तो कुछ बदलने की कोशिश कर रहे हैं। अगर आप उस हालात को पसंद नहीं करते, तो उसे बदलने की कोशिश करते हैं। 

Read More: सकारात्मक कल्पनाएं ऊर्जा प्रदान करती हैं 

इसे बदलने के लिए जो भी करना चाहें, करें। और अगर आपका हर काम सपाट रूप से मुंह के बल गिरता है और कुछ भी नहीं बदल पाते। तब इसके बारे में अपने सोचने का तरीका बदलें। हालातों को देखने का नजरिया बदलें ।

इस दौरान शायद चीजें बदलने का कोई नया रास्ता मिल जाए! अक्सर लोग आपको वैसी ही प्रतिक्रिया देने की कोशिश करते हैं, जिस सीमा या स्तर तक जाकर आप उन्हें सम्मान देते हैं या बात करते हैं। इसलिए अगर आप कहते हैं कि क्या आप खूबसूरत नहीं है ? आप सुंदर हैं । 

आप काफी खुशमिजाज हैं। ऐसे में भले ही वे ऐसे ना हों, लेकिन आपके लिए वो उस स्तर तक आकर प्रतिक्रिया देते हैं। दूसरी ओर अगर आप किसी को कमतर कहते हैं। आज नहीं तो कल, वो व्यक्ति भी आपको वैसी ही ठंडी प्रतिक्रिया देता है। विभिन्न भाषणों से

Read More: 

Motivational thought | वो चार सलाह जो आगे बढ़ने से रोकेंगी उन्हें जान लीजिए

 वो चार सलाह जो आगे बढ़ने से रोकेंगी उन्हें जान लीजिए

Benjamin Franklin: हमें बोलने की बजाय सुनने पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए

Muhammad Ali: जिंदगी को हिस्सों में बांटकर उसका आकलन कर सकते हैं

Thanks for Visiting Khabar's daily update for More Topics Click Here

Rate this article

एक टिप्पणी भेजें