Type Here to Get Search Results !

वर्तमान शक्तिशाली है इसे आप अपना शत्रु ना समझे

Thought of the Day:  वर्तमान शक्तिशाली है इसे आप अपना शत्रु ना समझे ,जो आप कर रहे हैं उसके प्रति क्या आपमें अप्रसन्नता , झुंझलाहट , झल्लाहट कुढ़न रहती है ? वह आपका रोजगार भी हो सकता है या कोई ऐसा काम हो सकता है जिसके लिए पहले तो आप सहमत हो गए हों और उसे कर भी रहे हों , लेकिन आपके मन का कोई हिस्सा है जो उसके प्रति अच्छा महसूस न कर रहा हो और उसे करने से रोक रहा हो । 

वर्तमान शक्तिशाली है इसे आप अपना शत्रु ना समझे

क्या आप मन में किसी नजदीकी व्यक्ति के लिए कुढ़न पाले हुए हैं ? क्या यह बात आप जानते हैं कि इस तरह जो ऊर्जा आप रिलीज कर रहे होते हैं वह इतनी हानिकारक होती है कि आपको भी प्रभावित कर रही होती है और आसपास वालों को भी । अपने भीतर अच्छी तरह देखिए । क्या वहां अप्रसन्नता , झुंझलाहट , कुढ़न , नाराजगी , रोष , अनिच्छा है ? 

अगर है तो मानसिक व भावनात्मक दोनों ही स्तरों पर उसे ध्यान से देखिए । आपके मन का वह कौन सा विचार है जो इस स्थिति को पैदा कर रहा है ? उन विचारों की शरीर पर होने वाली प्रतिक्रिया को गौर से देखिए । उस भावना को महसूस कीजिए । को रच हो सकता है कि आपका फायदा उठाया जा रहा हो , जिस काम में आप लगे हों वह नीरस व ऊबाऊ हो , आपका कोई निकटस्थ संगी साथी बेईमान हो , चिड़चिड़ाहट पैदा करने वाला या लापरवाह हो , लेकिन इन सब बातों का उन बातों से कोई संबंध नहीं है । 

अपनी इन स्थितियों के बारे में आपके विचार और भावनाएं उचित हैं या नहीं , इससे कोई फर्क नहीं पड़ने वाला । तथ्य तो यह है कि वर्तमान पल को आप एक शत्रु समझ रहे हैं । आप अप्रसन्नता को , अरुचि , रोष व कुढ़न रहे आप भीतर और बाहर के बीच द्वंद्व को , टकराव को पैदा कर रहे हैं । 

सच तो यह है कि अधिकांश मामलों में मन आपको इसी दशा में अटकाए रखता है और असल बदलाव को रोके रखता है । जो कुछ भी नकारात्मक ऊर्जा से किया जाता है वह नकारात्मकता से दूषित हुए बिना नहीं रहता और आगे चल कर अधिक पीड़ा , अधिक अप्रसन्नता ही पैदा करता है । 

इसके अलावा , नकारात्मक आंतरिक अवस्था संक्रामक भी होती है । यानी अप्रसन्नता , अरुचि , रोष व कुढ़न किसी शारीरिक रोग की तुलना में अधिक आसानी से , अधिक तेजी से फैलती है । इसका हल यह है कि जिस व्यक्ति के प्रति रोष है उससे बात करें । इस भावना को दूर करें । ' शक्तिमान वर्तमान से साभार

यह भी पढ़ें - Motivational thought | वो चार सलाह जो आगे बढ़ने से रोकेंगी उन्हें जान लीजिए

अच्छी आदतें डालना मुश्किल होता है, पर उसके साथ जीना आसान

ज्ञान हासिल करना सही मायनों में सीखना नहीं है

Thanks for Visiting Khabar Daily Update for More Motivational Thoughts Click Here .

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Hollywood Movies