Type Here to Get Search Results !

रसोई घर जहां बच्चे सीखेंगे भी और बढ़ेंगे भी ।

The kitchen is the place where children will learn and grow:- रसोई घर स्त्रियों के लिए एक प्रयोगशाला है , जहां वे नित स्वाद के नए प्रयोग करती रहती हैं । इस प्रयोगशाला को बच्चों की क्लास भी बना लीजिए , जहां बच्चे सीखेंगे भी और बढ़ेंगे भी । जहां खेलें भी , खाएं भी एक क्लास बड़े मज़े की। 

रसोई घर स्त्रियों के लिए एक प्रयोगशाला है , जहां वे नित स्वाद के नए प्रयोग करती रहती हैं । इस प्रयोगशाला को बच्चों की क्लास भी बना लीजिए , जहां बच्चे सीखेंगे भी और बढ़ेंगे भी । जहां खेलें भी , खाएं भी एक क्लास बड़े मज़े की।

जिस उम्र में बच्चों का दिमाग़ तेजी से विकास कर रहा होता है , अगर उस समय उन्हें कुछ सिखाया जाए , या उनकी रुचि को तराशा जाए , तो वे ना सिर्फ तेज दिमाग इंसान बनेंगे बल्कि नए प्रयोगों को करने में उनकी रुचि भी बनेगी । यह वे गुण हैं , जो जीवन में उनके बहुत काम आएंगे । रसोई घर में काम करके उन्हें यह सहजता से मिल जाएंगे । सामान्य ज्ञान , विज्ञान की समझ , गणित को बुनियादी मजबूती तो मिलेगी ही । 

अगर आप हैरान हैं , तो जानें कि 3 से शुरु करके बच्चों के साथ अभिभावक हफ्ते में एक या दो बार अगर रसोई के कामों में मदद लें , तो इन लक्ष्य को पाया जा सकता है । आकार- स्वाद की समझ रोटी गोल होती है और समोसा त्रिकोण होता है , ये आकार बच्चा रसोई घर में आसानी से सीख सकता है । तीखा क्या है , मीठा क्या है , ये भी जानेगा । 

खाना बनाते हुए आकार के नाम लें , जैसे गोल रोटी , चौकोर पराठा आदि । इसके अलावा भिंडी गोल या लंबी , आलू मोटा या छोटा काटते हुए आकार समझाए जा सकते हैं । शब्द और भाषा का विकास 6-8 साल की उम्र से बच्चा जब व्यंजन विधि पढ़ता है और बारी - बारी क्या करना है , यह बताता जाता है , तो उसे वस्तुओं के बारे में जानकारी मिलती है । 

सामग्रियों के बीच अंतर पहचानकर उनके नाम और अंतर याद रखता है , जैसे कि सफ़ेद नमक और काले नमक के बीच का अंतर । इससे बच्चा नए शब्द भी सीखता है । वहीं जब रेसिपी की हर स्टेप पढ़कर खाना बनाने में मदद करता है , तो उसकी भाषा का विकास होता है । जब बच्चे के साथ खाना बनाएं , तो उससे पूछें कि अगला क़दम क्या होगा । 

इस तरह वह योजना बनाना , समय का सही इस्तेमाल और व्यंजन विधि का सही अनुपालन करना सीखेगा । जब तक खाना बन नहीं जाता , तब तक धैर्य भी रखना होगा । इससे ध्यान और सब दोनों गुणों का विकास होगा ।

फाइन स्किल्स बेहतर होंगे दस साल से बड़ी उम्र के बच्चों के लिए सामग्रियां मिलाना , आटे की लोइयों को बेलना बच्चों के हाथों को मजबूत और नियंत्रित करता है , जैसे वो जानेगा कि हाथों का कितना जोर लगाकर बेलना है और सही आकार कैसे लाना है । आंखों और हाथों का समन्वय कौशल किसी चीज को बेलने , मिलाने और फैलाने से विकसित होते हैं । अंकों का ज्ञान नाप - तौल सीखना तो स्वाभाविक ही है । 

आप जब बच्चे से आटा बोल में डालने के लिए कहें , तो साथ में कप की गिनती भी करें । हर बार जब आप कप या चम्मच से सामग्री निकालें तो जोर से गिनें । 5 साल से ऊपर के बच्चे को शुरुआती जोड़ - घटाना समझा सकते हैं । थोड़े बड़े बच्चे नापकर व्यंजन बनाने के स्वाद पर असर को समझ जाएंगे ।

जो पसंद है वही कराए आमतौर पर बच्चों को चीजों को काटना और गैस जलाने जैसे काम ही पसंद आते हैं । अगर बच्चा किसी जिद का बहाना बनाकर रसोई से जाने का रास्ता ढूंढे , तो उसे उसकी दिलचस्पी का काम दे दें , जैसे कि बिस्किट केक बनाना । बच्चे के साथ उनका पसंदीदा भोजन बनाएं । उनसे कहें कि अगर तुम्हें ये खाना है , तो अंत तक ध्यान देना होगा । 

भावनात्मक विकास हाथों से खाना पकाने की गतिविधियां बच्चों में भरोसा और कौशल पैदा करने में मददगार होती हैं । रेसिपी सीखने से बच्चों को स्वतंत्र बनने की भी प्रेरणा मिलती है । इससे उन्हें निर्देशों पर अमल करने और समस्या सुलझाने की क्षमता विकसित करने की भी सीख मिलती है । दूसरों के लिए खाना बनाने से उनके प्रति प्रेम भाव भी विकसित होगा ।

Thanks for visiting  Khabar daily update. For more लाइफस्टाइल, click here


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Hollywood Movies