जूस जैकिंग क्या है ?| juice jacking in Hindi | juice jacking फ्रॉड

0

 Juice Jacking: साइबर अटैक केवल एक लिंक पर क्लिक करने से ही नहीं बल्कि मोबाइल चार्ज करने के दौरान भी हो सकता है । कैसे , जानिए .....

हैकिंग का तरीका है जूस जैकिंग ,जूस जैकिंग क्या है और इससे कैसे बचा जा सकता है?,जूस जैकिंग क्या है और कैसे काम करता है?

हैकिंग का तरीका है ' जूस जैकिंग '

फ़र्ज़ कीजिए आप कहीं फंस गए हैं और आपके मोबाइल की बैटरी ख़त्म होने के क़रीब है । इस स्थिति में आप क्या करेंगें ? 

चार्जर होगा , तो चार्जिंग के लिए प्वाइंट खोजेंगे । अगर प्वाइंट नहीं मिलता है , तो कोशिश करेंगे कि आपको यूएसबी केबल लगी हुई मिल जाए जिससे आप अपना फोन चार्ज कर सकें । पर क्या आप जानते हैं कि ऐसे किसी भी पोर्ट में यूएसबी लगाकर फोन चार्ज करना आपके लिए कितना ख़तरनाक हो सकता है । यह आपके लिए केवल फोन चार्ज करने का ज़रिया होगा , लेकिन इससे आपका डेटा चोरी हो सकती है या आपका बैंक खाता भी खाली हो सकता है । साइबर अटैक के इस तरीके को कहते हैं ' जूस जैकिंग फ्रॉड ' । 

क्या है जूस जैकिंग ?what is juice jacking? 

जूस जैकिंग फॉड उपभोक्ता को यूएसबी चार्जिंग पोर्ट के जरिए शिकार बनाता है । आपने छोटे रेस्त्रां , होटल या बस स्टैंड , रेलवे जैसे सार्वजनिक स्थानों पर ऐसे यूएसबी चार्जिंग पोर्ट देखे होंगे ताकि आते - जाते लोग अपना मोबाइल चार्ज कर सकें । पर कुछ निजी स्थानों पर ये केवल फोन चार्ज करने का काम नहीं करते , बल्कि मोबाइल का डाटा चुराने के काम में आते हैं । जिस केबल से आप फोन चार्ज कर रहे होते हैं , जालसाज या हैकर्स उसी केबल से डाटा कॉपी कर लेते हैं ।

जूस जैकिंग कैसे काम करता है ?How juice jacking works? 

दरअसल , स्मार्टफोन के यूएसबी से फोन चार्ज होता है और डाटा भी ट्रांसफर हो जाता है । यहीं पर हैकर्स इसका फायदा उठाते हैं । हैकर्स यूएसबी पोर्ट से छेड़छाड़ कर उसे अपनी डिवाइस से जोड़ लेते हैं । - 

  • जब कोई व्यक्ति इस पोर्ट में अपना फोन चार्ज करने के लिए लगाता है , तो उसी वक़्त हैकर्स फोन से डाटा भी कॉपी कर लेते हैं या फिर मालवेयर इंस्टॉल कर देते है और डेटा कॉपी कर लेते हैं । - 
  • कॉन्टैक्ट , फोटो गैलरी , मैसेज , फाइल जैसा डाटा कॉपी कर लिया जाता है । यहां तक कि बैंक खाता भी खाली हो सकता है ।

जूस जैकिंग ऐसे सुरक्षित रखें डाटा ... 

  • सार्वजनिक स्थानों पर अनजान केबल से फोन चार्ज नहीं करें।अगर फोन चार्ज करना भी है तो पहले फोन की पावर ऑफ़ करें और उसके बाद चार्ज करें। कोशिश करें की किसी के यूएसबी केबल से फ़ोन चार्ज करना ही न पड़ें।  
  • पावर बैंक साथ लेकर चलें ताकि जरूरत पड़ने पर कहीं भी और कभी भी अपना फोन चार्ज कर सकें । घर से निकलने से पहले पावर बैंक और फोन दोनों को पूरी तरह से चार्ज कर लें । 
  • मोबाइल के अलावा एक अतिरिक्त मोबाइल फोन घर पर मौजूद है , तो उसे चार्ज करके साथ में रखें । अगर कभी फोन की बैटरी खत्म हो गई और चार्ज करने के लिए पावर बैंक भी नहीं है , तो इस स्थिति में उसका इस्तेमाल कर सकते हैं । 
  • आप जिस स्थान पर है,वहाँ प्लग मौजूद है,तो खुद के एडेप्टर के जरिये फोन चार्ज करें। किसी भी अन्य के लेपटॉप ,कंप्यूटर,केबल से मोबाइल चार्ज करने से बचें। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
एक टिप्पणी भेजें (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top