Type Here to Get Search Results !

कम प्रयास में ज्यादा परिणाम पाने के 3 नियम | Deepak Chopra motivational speech in hindi

Deepak Chopra motivational speech in hindi; मानव का स्वभाव है कि वह अपने सपनों को मूर्त रूप में साकार करे , वह भी आसानी से और बिना प्रयास के । - दीपक चोपड़ा , विख्यात लेखक

Deepak Chopra motivational speech in hindi; मानव का स्वभाव है कि वह अपने सपनों को मूर्त रूप में साकार करे , वह भी आसानी से और बिना प्रयास के । - दीपक चोपड़ा , विख्यात लेखक

3 rules for getting more results with less effort(कम प्रयास में ज्यादा परिणाम पाने के 3 नियम)

अगर अगर आप प्रकृति को अपना काम करते देखें तो पाएंगे कि वहां प्रयास न्यूनतम किया जा रहा है ना के बराबर । उगने के लिए घास कोई प्रयास नहीं करती , वह तो उग आती है । तैरने के लिए मछली कोई प्रयास नहीं करती हैं , वे तो बस तैरने लगती हैं । यह करना उनका सहज ,जन्मजात गुण हुआ करता है । बच्चों का यह सहज स्वभाव होता है कि वे आनंद की अवस्था में रहते हैं । और यह मानव का स्वभाव है कि वह अपने सपनों को मूर्त रूप में साकार करे , वह भी आसानी से और बिना प्रयास के । 


यह भी पढ़े-Elon Musk: आलोचना से न डरें , मजबूत लोग इसी से प्रगति करते हैं

सफलता कोई लक्ष्य नहीं हो सकता , यह तो प्रक्रिया है


भारत के वैदिक ज्ञान में इस सिद्धांत को बिन प्रयास वाला सिद्धांत कहा गया है । इसमें , आप उस अवस्था तक पहुंच जाते हैं जहां आप करते कुछ नहीं हैं लेकिन पा सब कुछ लेते हैं । प्रयास तब न्यूनतम ही तो होता है जब आपके कार्य प्रेम से प्रेरित होते हैं । जब आप दूसरों पर अधिकार जमाने की कोशिश करते हैं , तब अपनी ऊर्जा व्यर्थ गंवाते हैं ।इस सिद्धांत को लागू करने के लिए आपको तीन काम करने हैं । 

पहला है स्वीकार करना । स्वीकार करने का सीधा - सा अर्थ है आपको संकल्प करना है- ' आज मैं लोगों , स्थितियों , परिस्थितियों और घटनाओं को यथावत स्वीकार करूंगा । ' यानी मैं यह स्वीकार करके चलूंगा कि प्रत्यक्ष पल वैसा ही है जैसा कि इसे होना था । इस सिद्धांत का दूसरा नियम है- जिम्मेदारी लेना । मतलब अपनी किसी भी स्थिति का , और स्वयं का भी , दोष किसी दूसरे के मत्थे न मढ़ना । 

न्यूनतम प्रयास के सिद्धांत का तीसरा घटक है अपना बचाव न करना । इसका अर्थ है कि आप अपने बचाव में , यानी अपने दृष्टिकोण के बचाव में , वादविवाद न करने के प्रति हमेशा सजग रहें । और बहस में पड़ना छोड़ दें कि दूसरे लोग आपके दृष्टिकोण को , आपकी बात को माने ही मानें । - सफलता के सात आध्यात्मिक सिद्धांत से साभार

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Hollywood Movies