बौद्धकथा- वृद्ध का अनुभव

0

 
बौद्धकथा- वृद्ध का अनुभव, bodhkatha,

बौद्धकथा- वृद्ध का अनुभव 

बौद्धकथा:  जर्मनी के सम्राट ज फ्रेडरिक महान यह जानकर बहुत चिंतित हुए कि उनके देश की आर्थिक स्थिति दिनों - दिन खराब होती जा रही है । उन्होंने एक दिन राज्य कर्मचारियों को विचार - विमर्श के लिए बुलाया तथा उनसे पूछा कि राज्य के खजाने की आय कम होने का क्या कारण है ? दरबार में यह प्रश्न उठते ही सन्नाटा छा गया । अचानक दूर बैठे एक वयोवृद्ध नागरिक ने कहा , ' सम्राट की आज्ञा हो तो मैं इस प्रश्न का उत्तर देने को तैयार हूं । ' 

उस व्यक्ति ने मेज पर प्याले में रखे बर्फ के एक टुकड़े को उठाया तथा उसे अपने पास बैठे हुए एक व्यक्ति को देते हुए कहा , ' इसे अपने पास बैठे हुए व्यक्ति को दे दो । एक के के बाद दूसरे के हाथों आगे बढ़ाते हुए इसे सम्राट के पास पहुंचाना है । ' देखते ही देखते बर्फ का टुकड़ा

अनेक हाथों से होता हुआ सम्राट के हाथों में पहुंचा तो उसका आकार चौथाई हो चुका था । 

सम्राट ने पूछा , ' बर्फ का यह टुकड़ा यहां तक आते - आते इतना छोटा कैसे हो गया ? ' वृद्ध ने बताया कि बर्फ के टुकड़े की तरह ही प्रजा से वसूले गए कर की राशि सरकारी कोष में पहुंचते - पहुंचते चौथाई रह जाती है । सम्राट की शंका का समाधान हो गया । उन्होंने उसी समय भ्रष्ट कर्मचारियों की छंटनी कर दी । कुछ ही दिनों में राज्य की आय बढ़ने लगी ।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
एक टिप्पणी भेजें (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top