Power of positivity: सकारात्मक रहकर तेजी से बदलती है शरीर की कोशिकाएं

0

 Power of positivity: सकारात्मक रहकर तेजी से बदलती है शरीर की कोशिकाएं

Power of positivity: सकारात्मक रहकर तेजी से बदलती है शरीर की कोशिकाएं, positivity thinking, positive thoughts


Power of Positivity : हम लगातार बदलते रहते हैं । ना सिर्फ बाहरी तौर पर , बल्कि अंदरुनी तौर पर भी । आप जिस ' मैं ' को जानते हैं , वह भीतरी तौर पर पल - प्रतिपल बदलती खरबों कोशिकाओं का पुतला है । इन सेल्स में से कुछ सप्ताह भर जीवित रहती हैं , तो कुछ महीनों । 

नए सेल्स का निर्माण शरीर के अंग पर निर्भर करता है । टेस्ट बड्स तो कुछ घंटों तक ही रहती हैं । वाइट ब्लड सेल्स दस दिन रहती हैं । यहां तक कि हड्डियां भी बार - बार नए सिरे से बनती हैं । जब तक आप जीवित रहते हैं , ये चक्र चलता रहता है ।

 वैज्ञानिकों के अनुसार हम अपनी एक फीसदी कोशिकाएं रोज बदलते हैं , मतलब महीने में 30 फीसदी । सेल्स को इस तरह से देखें तो लगभग तीन महीने बाद आप बिल्कुल नए होते हैं । ये भी इत्तेफाक है कि किसी नई आदत को अपनाने या लाइफस्टाइल बदलने में तीन महीने का समय लगता है । पहले वैज्ञानिक मानते थे कि दिमाग के सेल्स नहीं बदलते । 

लेकिन दिमाग के सेल्स भी बदलते हैं , ये निर्भर करता है कि आप क्या काम कर रहे हैं और कितने सकारात्मक हैं । आरामदायक जीवनशैली सेल्स के खराब होने की गति को बढ़ा देती है तो सक्रिय जीवनशैली सेल्स को तेजी से बदलती है । सायकोलॉजी बुलेटिन में प्रकाशित अध्ययन के मुताबिक हमारी भावनाएं सेल्स के लिए संकेतक का काम करती हैं । जहां नकारात्मकता सेल्स खराब करने का संकेत देती है , तो सकारात्मकता सेल्स की ग्रोथ अच्छी रखने का इशारा करती है । इस तरह सकारात्मक रहकर आप स्वस्थ जीवन बिता सकते हैं ।

Thought of the day 

इस दुनिया में ऐसा कोई नेक काम नहीं होता जो बिना आफत के संपन्न हो जाए । आफतें इंसान को मजबूत बनाती हैं ।

 खुद के जैसा बनिए , आपके पास इसके अलावा और कोई चारा भी नहीं । जो व्यक्ति अपने बारे में नहीं सोचता , वो सोचता ही नहीं है । - ऑस्कर वाइल्ड

 आज का पॉजिटिव चैलेंज

 फीडबैक लेने की आदत डालिए 

आप किसी भी काम को अंजाम दें , उसका फीडबैक जरूर लें । फिर काम चाहे छोटा ही क्यों न हो । दफ्तर के अलावा मित्रों के बीच , यहां तक कि घर में अपनों से भी फीडबैक लें । लोगों की प्रतिक्रियाएं कैसी भी हों , उसे सकारात्मक तरीके से लेना चाहिए । इससे आपको अपना काम बेहतर करने में मदद मिलेगी । फीडबैक के आधार पर खुद में बदलाव लाने की कोशिश करें ।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
एक टिप्पणी भेजें (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top