Subscribe to my Youtube Channel Click Here Subscribe Also !

Shopping tips festival Season: इन त्योहारों में समझदारी से करें शॉपिंग जिससे बना रहे आपका बजट

Smart Shopping Tips Fastival Season: खुशियों के मौसम की शुरुआत होने वाली है । रोशनी और उमंग दस्तक देने वाली हैं । लेकिन फेस्टिव सीजन की रोशनी में बजट
Santosh Kukreti

Smart  Shopping Tips Festival Season: खुशियों के मौसम की शुरुआत होने वाली है । रोशनी और उमंग दस्तक देने वाली हैं । लेकिन फेस्टिव सीजन की रोशनी में बजट को देखना होगा , क्योंकि कई बार बेतरतीब किया गया खर्च बाद में मुश्किलें पैदा कर देता है । फेस्टिव सीजन में बजटिंग के गुर जान लेंगी तो खुशियां खुद -ब-खुद बरसने लगेंगी ।  खुशियों का भी बना लें बजट.

Smart Shopping tips festival Season online shopping 2022, Shopping tips festival Season: इन त्योहारों में समझदारी से करें शॉपिंग जिससे बना रहे आपका बजट

इन त्योहारों में समझदारी से करें शॉपिंग जिससे बना रहे आपका बजट 

त्योहारों का मौसम शुरू होने वाला है । अब आपको चयन करना है कि खर्चा बढ़ाना है क्या फिजूल खर्च कम करके सेविंग करनी है । त्योहारों की उमंग में उल्लासित होने के लिए स्मार्ट मनी सेविंग ट्रिक्स आनी चाहिए , ताकि पैसे से खरीदी जाने वाली छोटी-छोटी खुशियों में ग्रहण न लगे , वरना फेस्टिव सीजन के बाद माथे की लकीरें आपको यह बात समझाएंगी । अभी समय है , योजनाबद्ध ढंग से पर्वों के लिए खरीदारी करें , ताकि अपनों पर खर्च पैसा दुख नहीं , खुशी का कारण बने ।

Read Also: Fastival Budget: इस त्योहारों में अपना खर्चों का बजट बनाया क्या

कुछ बातों का खास ख्याल Shopping tips festival Season Online Shopping

  • फेस्टिव सीजन में जब खरीदारी करने जाएं तो उसकी सूची पहले ही बना लें ।

  • खरीदारी में हमेशा होशियारी बरतें । ऐसा न हो कि ऑफर के चक्कर में बिना काम का सामान खरीद लें ।
  • अगर आप ऑनलाइन शॉपिंग करती हैं तो अलग - अलग वेबसाइट पर चीजों की क्वालिटी और कीमतों की तुलना जरूर कर लें ।
  • हमेशा बजट तैयार करके ही घर से निकलें । अगर संभव हो तो क्रेडिट कार्ड से शॉपिंग करने से बचें ।
  • कभी भी ऑफर के झांसे में न आएं । अक्सर दुकानदार बिना जरूरत के सामान को ज्यादा डिस्काउंट के चक्कर में आपको बेच देते हैं ।
  • आप किसी सेल में खरीदारी की योजना बना रही हैं तो सेल के शुरू के दो दिन में ही खरीदारी कर लें , क्योंकि तब तक अच्छा सामान निकल चुका होता है । 
  • हर ई - कॉमर्स प्लेटफॉर्म या विक्रेता की रिटर्न और एक्सचेंज पॉलिसी अलग - अलग होती है , इसलिए खरीदारी से पहले नियम और शर्तें ध्यान से पढ़ लें ।

खर्चों की सूची 

नवरात्रि से लेकर छठ तक कई त्योहार आएंगे । कपड़ों , मिठाइयों , गृह - सज्जा से लेकर उपहारों में खूब खर्च होगा । सब कुछ समय पर टालने से बेहतर है कि आप फेस्टिव सीजन के लिए आय के अनुसार बना लें । बजट जरूरत की चीजें पहले खरीद लें । बजट पहले ही तय होगा तो आप टेंशन - फ्री होकर खर्च कर पाएंगी । कुछ भी खरीदें तो एक -दो जगह मोल भाव भी पता कर लें । 

ऑनलाइन शॉपिंग को तवज्जो दें । एक तो वहां आपको कई ऑफर्स और डील्स मिल जाएंगी । दूसरे ,ऑनलाइन शॉपिंग से समय की बचत भी होगी । परन्तु ऑनलाइन खरीदारी करते समय प्रोडक्ट की गुणवत्ता और पॉलिसी को अच्छे से जान ले। क्योकि कई festival Sale के चक्कर में आप लूट न जाये।

Shopping tips festival Season: इन त्योहारों में समझदारी से करें शॉपिंग जिससे बना रहे आपका बजट

उधारी से बचें 

उधारी सिर्फ दूसरों से पैसे मांगना ही नहीं है , ईएमआई भी एक किस्म की उधारी है । इसलिए उधारी से बचें, आपके लिए जरूरी है कि न तो भावनाओं में बहें और न ही दिखावा करें । जितनी जरूरत हो , जितना आपकी पॉकेट अनुमति दे , उतनी ही खरीदारी करें । इसके लिए सबसे पहले आपको अपना बजट बनाना होगा । आप त्योहारी सीजन के दौरान कितना पैसा खर्च कर सकती हैं , इसका अनुमान लगा लें । 

Read Also:Tea or Yoga Suplements for Fatigue | थकान में चाय या योग की खुराक आइये जानते है

बजट बनाकर आप यह समझ पाएंगी कि आपकी सीमाएं क्या हैं और आप कितना खर्च कर सकती हैं । यह पैसे बचाने या अधिक खर्च से बचने की शुरुआत है । एक अलग फेस्टिवल फंड बनाने की कोशिश करें । इसके अलावा उधारी से बचें । उधारी सिर्फ दूसरों से पैसे मांगने तक ही सीमित नहीं है , ईएमआई भी एक किस्म की उधारी है । आपको कोई चीज पसंद आती होगी तो उसे ईएमआई पर खरीद लेती होंगी , यह सोचकर कि चीज तो अपनी हो गई , धीरे - धीरे किस्तों को चुकाते रहेंगे । 

आपकी यह सोच गलत है । यह दूसरों से पैसे मांगने का तरीका है , जो तत्काल तो खुशी देता है , लेकिन बाद में टेंशन । फेस्टिव सीजन की शॉपिंग के लिए उधारी से बचें । कभी आपने सोचा है कि उधारी नहीं चुका पाईं तो क्या होगा । आज की खुशी बाद में कैसा विस्फोट करेगी । 

मोल - भाव की आदत 

अगर आपकी आदत है कि जो मन को भा गया , उसे खरीद लें , तो इसे बंद करें । आपकी यह आदत फेस्टिव सीजन में जेब में सुराख भी कर सकती है । आपको मन पर नियंत्रण करना होगा । कुछ भी खरीदने से पहले तय करें कि आपको किस चीज की सबसे ज्यादा जरूरत है । बाजारों से लेकर विविध शॉपिंग पोर्टल्स पर कई ऑफर्स मिलेंगे , लेकिन आपको किस चीज की जरूरत है , इसका फैसला आपको ही करना होगा । गाहे बगाहे कुछ भी खरीदने से घर तो स्टोर बनेगा ही , बेफिजूल चीजों पर पैसों की बर्बादी भी होगी । इसलिए शॉपिंग में जो पसंद आया , वही खरीद लेना ठीक नहीं है । 

Read Alsoइस साल खर्च नहीं आमदनी बढ़ाएं

बचत तभी होगी , जब आप स्मार्ट तरीके से शॉपिंग करेंगी । इसके लिए सबसे बढ़िया तरीका है कि जो चीज आपको पसंद आए , उसकी क्वालिटी से लेकर ड्यूरेबिलिटी तक , हर पहलू को अन्य बाजारों और शॉपिंग साइट्स पर देख लें । सभी जगह तुलना करने के बाद ही उत्पाद खरीदें । कई बार बहुतेरे उत्पादों में हिडन फीस और फीचर्स होते हैं , इसलिए तुलना करने के बाद आप बेहतर खरीदारी कर सकती हैं । 

डिजिटल पेमेंट मोड , ऑनलाइन खरीदारी 

आजकल ऑफलाइन दुकानों पर भी डिजिटल मोड से भुगतान लिया जाता है । इसका फायदा आप भी लें । मसलन , दुकानदार को काटने होते हैं 495 रुपये और आप 500 का नोट देती हैं । अधिकांश दुकानदार बकाया राशि तो देते हैं , मगर एक- दो रुपये न होने का बहाना बनाकर शेष बची पूरी राशि नहीं देते । आपको लगता है कि 5 रुपये का नुकसान हुआ है , मगर ऐसा लगातार आपके साथ होता है तो घाटा आपका ही होगा । 

फिर आपको अहसास होता है कि कितनी राशि जाया हो गई । ऐसे में बेहतर होगा कि आप पेमेंट के लिए डिजिटल मोड को अपनाएं । जानकार बताते हैं कि अगर आप किसी प्रॉडक्ट को ऑनलाइन खरीद रही हैं तो उसके बारे में जरूर चेक कर लें कि उसमें वापसी का विकल्प है या नहीं । अगर रिटर्न पॉलिसी है तो उसके नियम और शर्तें अच्छी तरह पढ़ लें । मसलन , प्रॉडक्ट को कितने दिन के अंदर वापस किया जा सकता है । 

प्रॉडक्ट को वापस करने के लिए कहीं कोई शर्त लागू तो नहीं है आदि । अगर कहीं प्रॉडक्ट में कोई खराबी निकली या वो आपको पसंद नहीं आया तो रिटर्न पॉलिसी के तहत उसको वैसे ही दूसरे प्रॉडक्ट से बदला जा सकता है या फिर पैसे वापस लिए जा सकते हैं ! 

ऑफ सीजन शॉपिंग , एडवांस प्लानिंग 

हर साल त्योहारों की धूम रहती है तो त्योहारी सीजन के आस - पास ही शॉपिंग क्यों की जाए । अच्छा होगा कि आप फेस्टिव सीजन की शॉपिंग ऑफ सीजन में आरंभ कर दें । ऑफ सीजन में उत्पादों की मांग कम हो जाती है । ऐसे में उसके दामों में गिरावट करके ब्रिकी बढ़ाई जाती है । यह फंडा ऑफलाइन से लेकर ऑनलाइन स्टोर्स , हर जगह लागू होता है । थोड़ा अलर्ट रहें और ऑफ सीजन सेल का फायदा उठाएं । इसके अलावा खर्चे में कटौती करने के लिए आप सोशल कैलेंडर बनाए । 

इसका फायदा यह होगा कि आप पहले से खर्चे के हर पहलू से वाकिफ होंगी । फिर उसी के अनुसार बजट तय करेंगी । यदि खर्चों का पूर्व ब्योरा नहीं लेंगी तो फेस्टिव सीजन में बजट गड़बड़ाएगा । इसे ऐसे समझिए कि फेस्टिव सीजन में परिजनों को उपहार देना है तो ऐन मौके पर आपको मुंहमांगी कीमत अदा करनी पड़ेगी । यदि आपने एडवांस प्लानिंग की होगी तो ऑफ सीजन में सस्ते में उपहार ला चुकी होंगी ।

ऑफर्स का चक्कर 

आमतौर पर हर महिला बचत करती और करना चाहती है , लेकिन कई बार डिस्काउंट और ऑफर के चक्कर में आ जाती है । भले ही प्रॉडक्ट की जरूरत हो या न हो , खरीद लेती है । दरअसल , महिलाएं मोबाइल में आते नोटिफिकेशन्स के बहकावे में आ जाती हैं । फेस्टिव सीजन नजदीक है , ऐसे में आपको लुभाने के लिए ई - कॉमर्स वेबसाइट्स कई तरह के आकर्षक ऑफर जारी करेंगी । 

आप उन ऑफर्स का फायदा जरूर उठाएं , लेकिन कोई भी प्रॉडक्ट सिर्फ इसलिए न खरीद लें कि उसमें ऑफर है । अगर आपको किसी प्रॉडक्ट की वास्तव में जरूरत है , तभी उसे खरीदें । कई बार धोखाधड़ी की घटनाएं सामने आती हैं । इसलिए जब भी कोई खरीदारी करें तो पहले पूरी जानकारी अवश्य कर लें । यदि किसी के साथ कोई अनहोनी होती है तो तुरंत विधिक सलाह लें ।

क्या आप जानते हैं डाक्टर की दुकान है आपकी रसोई

Thanks for Visiting Khabar Daily Update for more  Articles Click Here.

Getting Info...

एक टिप्पणी भेजें

Cookie Consent
We serve cookies on this site to analyze traffic, remember your preferences, and optimize your experience.
Oops!
It seems there is something wrong with your internet connection. Please connect to the internet and start browsing again.
AdBlock Detected!
We have detected that you are using adblocking plugin in your browser.
The revenue we earn by the advertisements is used to manage this website, we request you to whitelist our website in your adblocking plugin.
Site is Blocked
Sorry! This site is not available in your country.