उत्तराखण्ड सरकार ने कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए चार धाम यात्रा की रद्द

उत्तराखण्ड सरकार ने कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए चार धाम यात्रा की रद्द।उत्तराखंड सरकार ने अहम् फैसला लेते हुए गत वर्ष होने वाले चार धाम यात्रा
Santosh Kukreti

उत्तराखण्ड सरकार ने कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए चार धाम यात्रा की रद्द। उत्तराखंड सरकार ने अहम् फैसला लेते हुए गत वर्ष होने वाले चार धाम यात्रा को राज्य में तेजी से फैलते हुए कोरोना के संकट को ध्यान में रखते हुए चार धाम यात्रा रद्द कर दी है। 

उत्तराखण्ड सरकार ने कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए चार धाम यात्रा की रद्द

राज्य के मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत ने बताया कि इस वर्ष लोगों को कोरोना के कारण चार धाम यात्रा करने की अनुमति नहीं दी जाएगी, लेकिन मंदिरों के पुजारी अनुष्ठान करेंगे और केंद्र सरकार द्वारा जारी कोविड नियमोँ को ध्यान में रखते हुए ये पूजा होगी,किसी भी यात्री को वहां जाने की अनुमति नहीं मिलेगी । 

Must Read:  Difference between tourist place between Uttarakhand and Karnataka

चार धाम यात्रा इस साल 14 मई को शुरू होने वाली है और जिसके लिए उत्तराखण्ड राज्य सरकार ने पहले धार्मिक यात्रा में भाग लेने वाले तीर्थयात्रियों के लिए COVID Guideline जारी की थी। और उत्तराखंड सरकार ने भक्तों के लिए अन्य दिशानिर्देशों के बीच नकारात्मक आरटी-पीसीआर परीक्षण रिपोर्ट अनिवार्य कर दी थी।नेगेटिव रिपोर्ट के बिना चार धाम यात्रा की अनुमति नहीं थी।

लेकिन कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए इस साल चारधाम यात्रा को उत्तराखंड सरकार ने रद्द कर दिया है। सूबे के मुखिया तीरथ सिंह रावत ने यह जानकारी मीडिया को दी है। 

आपको बता दें कि आज गुरुवार 29 अप्रैल को इस संबंध में उत्तराखंड के पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज की अध्यक्षता में बैठक की गई थी। और इस बैठक मं उत्तरखंड़ में कोरोना के बढ़ते हुए मामलों को देखते हुई सरकार ने ये महत्वपूर्ण फैसला लिया है ।

Must Read: उत्तराखंड लाइसेंस के लिए आवश्यक दस्तावेज ऑनलाइन प्रक्रिया 

बैठक के बाद देवस्थानम बोर्ड के मीडिया प्रभारी डॉ.हरीश गौड़ ने बताया कि मई में शुरू होने वाली चारधाम यात्रा को लेकर सरकार की फैसला लिया गया है। मुख्यमंत्री हरक सिंह रावत ने बताया  कि चारों धाम के कपाट अपने तय समय पर ही खुलेंगे। परन्तु केवल पुरोहित और पुजारी  ही सिर्फ चारों धामों में पूजा अर्चना करेंगे।  किसी भी यात्रियों को वहां जाने की अनुमति नहीं मिलेगी।

आपको बता दे की केदारनाथ धाम के कपाट 17 मई को मेष लग्न में सुबह पांच बजे को खोले जाएंगे।  और भगवान बद्रीनाथ के कपाट श्रद्धालुओं के लिए 18 मई प्रातः 4:15 पर खोले जाने थे  गाडू घड़ा यात्रा 29 अप्रैल को सुनिश्चित की गई है ।

Must Read: Difference between Kerala and Uttarakhand in Hindi

गंगोत्री धाम व यमनोत्री धाम के कपाट 14 मई को खुलने है ।

यह निर्णय ऐसे समय में आया है जब उत्तराखंड ने बुधवार को 6,054 नए COVID-19 मामलों में उच्चतम एक दिन में रिकॉर्ड उच्चतम दर्ज की, पुरे प्रदेश में  1,68,616कोरोना मरीजों की संख्यां हो गयी है, जबकि एक दिन में 108  लोगों ने कोरोना के कारण अपनी जान गवाई है,पुरे राज्य में कोरोना से मरने वालों की संख्या अब  2,417 तक पहुंचा गई है।


Getting Info...

एक टिप्पणी भेजें

Cookie Consent
We serve cookies on this site to analyze traffic, remember your preferences, and optimize your experience.
Oops!
It seems there is something wrong with your internet connection. Please connect to the internet and start browsing again.
AdBlock Detected!
We have detected that you are using adblocking plugin in your browser.
The revenue we earn by the advertisements is used to manage this website, we request you to whitelist our website in your adblocking plugin.
Site is Blocked
Sorry! This site is not available in your country.