-->

Notification

Iklan

Iklan

पीएम केयर्स फंड सरकार ने कोरोना महामारी में अनाथ बच्चों के लिए मुफ्त शिक्षा और 10 लाख रुपये की घोषणा की

रविवार, मई 30 | मई 30, 2021 WIB Last Updated 2021-06-03T18:56:36Z

पीएम केयर्स फंड सरकार ने कोरोना महामारी में अनाथ बच्चों के लिए मुफ्त शिक्षा और 10 लाख रुपये की घोषणा की पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन- कोविड-19 से प्रभावित अपनों को खोने वाले  बच्चों के समर्थन और सशक्तिकरण के लिए कोविड-19 प्रभावित बच्चों का सशक्तिकरण शुरू किया गया

पीएम केयर्स फंड ,PM CARES,FREE EDUCATION,CORONA-19
पीएम केयर्स फंड

भारत  सरकार कोरोना महामारी में उन सभी बच्चों के साथ मजबूती से  खड़ी है जिन्होंने कोविड कि वजह से  अपने माता-पिता को खो दिया,ऐसे बच्चों को केंद्र सरकार 18 साल की उम्र में Monthly Scholarship और 23 साल की उम्र में पीएम केयर्स फंड  से 10 लाख रुपये का दिए जायेंगे ।

कोरोना महामारी के कारण अपने माता-पिता को खोने वाले बच्चों को  नि:शुल्क शिक्षा दी जाएगी,बच्चों को Higher Education के लिए शिक्षा ऋण( Education Loan) प्राप्त करने में सहायता की जाएगी, और PM CARES ऋण पर ब्याज का भुगतान करेगा

आयुष्मान भारत के तहत बच्चों को 18 साल तक 5 लाख रुपये का मुफ्त स्वास्थ्य बीमा मिलेगा और प्रीमियम का भुगतान भी पीएम केयर्स द्वारा ही किया जाएगा।

प्रधानमत्री मोदी ने कहा कि बच्चे देश के भविष्य का प्रतिनिधित्व करते हैं और हम बच्चों के समर्थन और सुरक्षा के लिए सब कुछ करेंगेएक समाज के रूप में यह हमारा कर्तव्य और धर्म  है कि हम अपने बच्चों की देखभाल करें और उन्हें उज्ज्वल भविष्य कीऔर ले जाएं ।

PM  मोदी ने इन सभी महत्पूर्ण कदमों पर चर्चा करने और विचार-विमर्श करने के लिए एक महत्वपूर्ण बैठक की अध्यक्षता की, जो उन मासूम बच्चों का समर्थन करने के लिए क्या कदम उठाए जा सकते हैं  जिन्होंने कोरोना महामारी के कारण अपने माता-पिता को खो दिया है।

पीएम ने वर्तमान COVID-19 महामारी से प्रभावित बच्चोंके लिए कई लाभों की घोषणा की।  इन योजना की घोषणा करते हुए प्रधान मंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि बच्चे देश के भविष्य का प्रतिनिधित्व करते हैं और देश बच्चों को समर्थन और सुरक्षा के लिए हर संभव प्रयास करेगा ताकि वे मजबूत नागरिक के रूप में विकसित हों और उनका भविष्य उज्ज्वल हो। 

पीएम ने इस बात पर जोर देते हुए कहा  कि ऐसे कठिन समय में एक समाज के रूप में हम सब का कर्तव्य है कि हम अपने बच्चों की देखभाल करें और उनमे एक उज्ज्वल भविष्य की आशा जगाएं।

 कोविड-19 के कारण माता-पिता या जीवित माता-पिता या कानूनी अभिभावक/दत्तक माता-पिता दोनों को खोने वाले सभी बच्चों को 'पीएम-केयर्स फॉर चिल्ड्रन' योजना के तहत सहायता दी जाएगी।

 उन्होंने यह भी कहा कि घोषित किए जा रहे उपाय उदार योगदान के कारण ही संभव हो पाए हैं।  PM CARES फंड को जो COVID-19 के खिलाफ भारत की लड़ाई का समर्थन करेगा।

बच्चे के नाम पर फिक्स्ड डिपाजिट :

 PM CARES FUND से 18 वर्ष की उम्र तक पहुंचने वाले प्रत्येक बच्चे के लिए 10 लाख रुपये का  फंड  बनाने के लिए विशेष रूप से डिज़ाइन की गई योजना के माध्यम से योगदान देगा। 

 यह  फंड :18 वर्ष की आयु से मासिक वित्तीय सहायता /Scholarship देने के लिए उपयोग किया जाएगा, अगले पांच वर्षों के लिए उच्च शिक्षा की समय अवधि के दौरान अपनी व्यक्तिगत आवश्यकताओं की रख-रखाव  के लिए और 23 वर्ष की आयु तक पहुंचने पर, उसे व्यक्तिगत और व्यावसायिक उपयोग के लिए एकमुश्त के रूप में कॉर्पस राशि मिलेगी।

School Education: 10 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए स्कूली शिक्षा

 बच्चे को नजदीकी केन्द्रीय विद्यालय या निजी स्कूल में Day Scholar (अनावासी छात्र ) के रूप में प्रवेश दिया जाएगा।

 अगर बच्चे का दाखिला किसी प्राइवेट स्कूल  में होता है तो पीएम केयर्स से आरटीई के नियमों के मुताबिक फीस दी जाएगी।

PM-CARES FUND: बच्चों की पाठ्य पुस्तकों,Uniform और नोटबुक पर खर्च के लिए भी पेमेंट  करेगा।

11-18 साल के बच्चों के लिए स्कूली शिक्षा

 यदि बच्चे को सेंट्रल गवर्मेंट  के किसी भी  Residential School जैसे सेंट्रल स्कूल, नवोदय विद्यालय आदि में प्रवेश दी जाएगी ।

 यदि बच्चे को गार्डियन(अभिभावक ) / दादा-दादी / विस्तारित परिवार की देखरेख में जारी रखा जाना है, तो उसे निकटतम सेंट्रल स्कूल या प्राइवेट स्कूल में एक दिन के छात्र के रूप में प्रवेश दिया जाएगा।

 अगर बच्चे को  एडमिशन किसी प्राइवेट स्कूल में हो जाता है तो PM-CARES से RTI के नियमों के हिसाब से फीस दी जाएगी।

 PM CARES बच्चे की ड्रेस, पाठ्य पुस्तकों और नोटबुक पर खर्च का भुगतान भी करेगा।

उच्च शिक्षा के लिए सहायता:

 मौजूदा शिक्षा ऋण नियमों  के अनुसार भारत में व्यावसायिक पाठ्यक्रमों / उच्च शिक्षा के लिए शिक्षा Loan प्राप्त करने में बच्चे की मदद की जाएगी।  इस Loan पर ब्याज का भुगतान PM CARES द्वारा ही किया जाएगा।

 विकल्प के रूप में ऐसे बच्चों को केंद्र या राज्य सरकार की योजनाओं के तहत स्नातक / व्यावसायिक पाठ्यक्रमों के लिए शिक्षण शुल्क / पाठ्यक्रम शुल्क के बराबर छात्रवृत्ति प्रदान की जाएगी।  जो बच्चे मौजूदा छात्रवृत्ति योजनाओं के तहत पात्र नहीं हैं, उनके लिए PM CARES एक समान छात्रवृत्ति प्रदान करेगा

 स्वास्थ्य बीमा

 सभी बच्चों को आयुष्मान भारत योजना (पीएम-जेएवाई) के तहत लाभार्थी के रूप में नामांकित किया जाएगा, जिसमें रुपये का स्वास्थ्य बीमा कवर होगा।  5 लाख।

 18 वर्ष की आयु तक के इन बच्चों के लिए प्रीमियम राशि का भुगतान PM CARES द्वारा किया जाएगा।

विशेष रूप से बच्चों के लिए एक पीएम केयर योजना स्थापित करने का कदम कई राज्य सरकारों द्वारा महामारी के दौरान माता-पिता को खोने वाले नाबालिगों के लिए राहत पैकेज की घोषणा के बाद आया है।

केरल, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र और तमिलनाडु ने पहले ही ऐसे बच्चों को वित्तीय सहायता और अन्य लाभ देने के प्रावधान किए हैं।



×
Berita Terbaru Update