Search Suggest

मध्य प्रदेश में नूरजहां' आम जिसकी की कीमत पर पीस ₹1,000 तक है

स्थानीय लोगों मानना है कि 'नूरजहां' आम मूल रूप से अफगान मूल के हैं और इंदौर से लगभग 250 किलोमीटर दूर गुजरात सीमा से लगते हुए अलीराजपुर जिले के काठीवाड

 मध्य प्रदेश में नूरजहां' आम जिसकी  की कीमत  पर पीस ₹1,000 तक है

मध्य प्रदेश में नूरजहां' आम,नूरजहां' आम,Noorjahan'' mangoes,Afghan origin

स्थानीय लोगों मानना है कि 'नूरजहां' आम मूल रूप से अफगान मूल के हैं और इंदौर से लगभग 250 किलोमीटर दूर गुजरात सीमा से लगते हुए अलीराजपुर जिले के काठीवाड़ा क्षेत्र में ही खेती की जाती है।

मध्य प्रदेश के अलीराजपुर जिले में खेती की जाने वाली ''नूरजहां'' आम फसल पिछले साल की तुलना में अच्छी हुई है अच्छी  फसल बढ़िया पैदावार व् आम का आकार पिछले साल की तुलना में बहुत बड़ा है  

जिसके कारण  कीमत पिछले साल की तुलना में अच्छी पैदावार और बड़े आकार के फल की वजह से इस साल ज्यादा मिल रही है।

स्थानीय लोकल  किसान ने बताया की  ''नूरजहां'' आम की कीमत इस साल में 500 रुपये से लेकर 1,000 रूपए तक है 

स्थानीय लोगों मानना है कि 'नूरजहां' आम मूल रूप से अफगान का  हैं और  इन आमों की खेती गुजरात सीमा से सटे अलीराजपुर जिले में काठीवाड़ा नाम जो क्षेत्र है वहां इन आमों की खेती की जाती है जो की इंदौर से लगभग 250 किलोमीटर दूर है 

काठीवाड़ा क्षेत्र के आम की खेती करने वाले शिवराज सिंह जाधव  ने बताया कि , "मेरे बगीचे के  तीन ''नूरजहां'' आम के पेड़ों से मुझे 250 आम प्राप्त हुए है ,जो की एक अच्छा मुनाफा है ।

परन्तु अगर मुनाफे की बात करें तो ,एक आम पर पीस  की कीमत 500 रुपये से 1,000 रुपये प्रति पीस के बीच है। स्थानीय किसान के अनुसार इन आमों की एडवांस बुकिंग पहले से ही की जा चुकी है इन है।

" किसान के अनुसार  'नूरजहां' आम जिन लोगों ने पहले ही बुकिंगउनमे  करवाई हुई है,उनमे आमों के शौकीन लोगों की लिस्ट में गुजरात के व खुद मध्यप्रदेश के लोग शामिल है।

शिवराज सिंह जाधव खबर देते हुए बताया की इस बार नूरजहां आम की सुखद पैदावार हुई है और एक आम का वजन लगभग दो किलों से साढ़े तीन किलों तक होने का अनुमान है।"

काठीवाड़ा जिले में ''नूरजहां'' आम की खेती करने वाले विशेषज्ञ इशाक मंसूरी ने कहा, ''कोविड-19 महामारी ने आम कारोबार को

काफी हद तक प्रभावित किया है,परन्तु आमों की प्री बुकिंग से मुनाफे कास्तकार खुश है ।

इशाक मंसूरी ने बताया कि 2020 में विपरीत जलवायु परिवर्तन के कारण 'नूरजहां'आम  के पेड़ों से अनुकूल जलवायु न होने के कारण पैदावार सही से नहीं हो पाया था  ।

स्थानीय लोगों के अनुसार 2019 में, इस किस्म के एक आम का औसत वजन  लगभग 2.75 किलो था औरआम वजन में बढ़िया और स्वादिष्ट होने के  खरीदारों ने इसके लिए 1,200 रुपये तक  का भुगतान किया है ।"

'नूरजहां' किस्म का आम जून की शुरूआती दिनों से ही फल देता  है। ये पेड़ जनवरी-फरवरी में फूलने लगते हैं।

स्थानीय किसानों ने  किया कि 'नूरजहां' आम एक फुट तक लंबा हो सकता है और इसकी गुठली का वजन 150 से 200 ग्राम के बीच होता है।


Rate this article

एक टिप्पणी भेजें