Type Here to Get Search Results !

आपदा भूस्खलन से चिपको आंदोलन ' वाले गौरा देवी के रैणी गांव का वजूद संकट में

 आपदा भूस्खलन से हाईवे बंद ' चिपको आंदोलन ' वाले गौरा देवी के गांव का वजूद संकट में  दुनिया को ' चिपको आंदोलन ' देने वाले उत्तराखंड के चमोली के रैणी गांव के वजूद पर संकट पैदा हो गया है । 

चिपको आंदोलन,गौरा देवी के गांव,उत्तराखंड के चमोली के रैणी गांव

आपदा भूस्खलन से चिपको आंदोलन ' वाले गौरा देवी के रैणी  गांव का वजूद संकट  

फरवरी में ऋषिगंगा में आई भीषण आपदा के बाद अब बारिश के चलते गांव के एक हिस्से में भूस्खलन हुआ है । नीति - मलारी हाईवे भूस्खलन से बंद हो गया है । इससे चीन सीमा से जुड़े गांवों के साथ ही सेना व आइटीबीपी की चौकियों से भी संपर्क कट गया है । 

ग्रामीणों समेत सेना के कई वाहन रैणी के दूसरे छोर पर फंसे हैं । रैणी में जोशीमठ मलारी हाईवे का 40 मीटर हिस्सा धंस गया था । इसके बाद 54 परिवारों के करीब 350 लोग परिचितों के यहां चले गए , लेकिन 100 लोग यहीं फंसे हैं ।

 इनका कहना है कि जब तक प्रशासन पशुओं समेत विस्थापन नहीं करता वे नहीं जाएंगे । शुक्रवार को तहसीलदार जोशीमठ चंद्रशेखर ग्रामीणों से बात करने पहुंचे । ग्रामीण मुआवजे व विस्थापन की मांग पर अड़े हैं । 

ग्राम प्रधान भवान सिंह ने बताया , पहले मौसम खराब होने पर लोग पहाड़ चढ़कर गुफाओं में शरण ले रहे थे अब वहां भी पहाड़ धंसने लगे हैं । ऋषिगंगा में उफान , कटान जारी ऋषिगंगा में उफान व उससे कटान जारी है । 

गांव के नीचे पुरानी सड़क साफ हो चुकी है । सेना का बेली पुल गिरने वाला है । ऐसे में गांव वाले कहां जाएंगे ? चमोली की डीएम स्वाति एस भदौरिया कहती हैं गांव वाले जानवरों को छोड़कर तपोवन शिफ्ट होने को तैयार नहीं हैं । 

गौरा देवी की प्रतिमा हटी तो रो पड़े 

लोग रैणी में गौरा देवी के नाम से बना गेस्ट हाउस , स्मारक व प्रवेशद्वार भी भूस्खलन की चपेट में आया । वीरवार को बीआरओ के जवान गौरा देवी की प्रतिमा स्मारक से चमोली जिला मुख्यालय ले गए ।

 प्रतिमा निकाले जाने के दौरान वहां मौजूद ग्रामीण रो पड़े । मार्च 1974 में 2500 पेड़ों को बचाने को गौरा देवी ने इसका विरोध किया था ।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Hollywood Movies