विभिन्न विषयों पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का दृष्टिकोण

0


राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ हिन्दुत्व के दर्शन में विश्वास रखता है जो आध्यात्मिकता पर आधारित है । हिन्दुत्व जीवन के एकात्म और समग्र दृष्टिकोण की अभिव्यक्ति है , जिसे विश्व भर में “ हिन्दू जीवन पद्धति ” ( Hindu way of life ) कहा जाता है ।

विभिन्न विषयों पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का दृष्टिकोण

 व्यक्ति निर्माण 

संघ भेद मुक्त , समता युक्त , शोषण मुक्त निर्दोष समाज का निर्माण करना चाहता है , इसी हेतु संघ का मुख्य कार्य व्यक्ति निर्माण है । समाज से स्वार्थ जाना चाहिए , समाज का आचरण आदर्श उदाहरणों की उपस्थिति में बदलता है । संघ की योजना प्रत्येक गाँव , प्रत्येक गली , प्रत्येक बस्ती में अच्छे स्वयंसेवक खड़े करना है । 

यह भी पढ़ें - राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ( RSS) एक परिचय | RSS introduction,wiki in hindi

अच्छे स्वयंसेवक का अर्थ है शुद्ध चरित्र सम्पन्न , विश्वास्पद , सम्पूर्ण समाज को आत्मीय भाव से अपना मानने वाला , किसी के प्रति भेदभाव , शत्रुता का भाव नहीं रखने वाला और इसी आधार पर संघ समाज का स्नेह और विश्वास अर्जित करता है । 

हिन्दुत्व 

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ हिन्दुत्व के दर्शन में विश्वास रखता है जो आध्यात्मिकता पर आधारित है । हिन्दुत्व जीवन के एकात्म और समग्र दृष्टिकोण की अभिव्यक्ति है , जिसे विश्व भर में “ हिन्दू जीवन पद्धति ” ( Hindu way of life ) कहा जाता है । 

संघ का विचार हिन्दुत्व का विचार है लेकिन इसका यह अर्थ नहीं कि संघ ने हिन्दुत्व का आविष्कार किया है । यह तो अपने देश में परम्परा से चलता आया हुआ विचार है । ' हिन्दू ' नाम बाहर से मिला शब्द है क्योंकि भारत के प्राचीन ग्रन्थों में यह शब्द कहीं नहीं मिलता है । आज भी अनेक विद्वान , सन्त हिन्दू शब्द का प्रयोग न कर ' सनातनी ' शब्द का प्रयोग करते हैं , धर्म को सनातन धर्म कहते हैं । किन्हीं विशेष परिस्थितियों में ' हिन्दू ' नाम बाद में आया । जैसे किसी व्यक्ति का नाम उसकी अनुमति से नहीं रखा जाता है उसी प्रकार यह हिन्दू नाम हमारे साथ जुड़ गया है , यह हमारे अधिकार क्षेत्र से बाहर है । 

संघ हिन्दू शब्द को आग्रहपूर्वक प्रयोग करता है परन्तु इसका यह अर्थ बिल्कुल नहीं है कि हमें भारत , इंडिक या आर्य शब्दों के प्रयोग से कोई विरोध है । जब हम भारतीय कहते हैं वह केवल भारत नाम के भूगोल का नाम नहीं रहता क्योंकि भारत का भूगोल तो बदलता रहा , कम ज्यादा होता रहा । भारत तो एक स्वभाव का नाम है । ये सभी शब्द सामानार्थी हैं , लेकिन इसके भाव या आशय को स्पष्ट रूप से बताने वाला एक शब्द है ' हिन्दू ' । विविधता में एकता हमारा आधार है। 

धर्म / रिलीजन 

धर्म शब्द को लेकर सर्वाधिक भ्रम है क्योंकि यह शब्द केवल भारतीय भाषाओं में ही मिलता है । धम्म या धर्म शब्द भारत की देन है । धर्म / रिलीजन का पर्यायवाची नहीं , धर्म से मिलता जुलता शब्द है ' रिलीजन ' क्योंकि धर्म के साथ कुछ कर्मकाण्ड भी जुड़ा है , विशेष प्रकार का कर्मकाण्ड विशेष प्रकार की पूजा , विशेष प्रकार के ग्रन्थ , विशेष प्रकार के पन्थ प्रवर्तक ( मसीहा ) , उसको रिलीजन कहते हैं । जब अपनी भाषा को छोड़कर अंग्रेजी में बोलते हैं तो ' रिलीजन ' कहते हैं और रिलीजन का अर्थ धर्म करते हैं , सारा भ्रम इसके कारण है । 

धर्म किसी एक विशेष देश तथा समाज की बपौती नहीं है , यह पूरे मानव का वैश्विक धर्म है , जिसे हिन्दू धर्म कहते हैं । वास्तव में यह केवल हिन्दुओं का धर्म नहीं है । हिन्दुओं का धर्मशास्त्र ' हिन्दू धर्म शास्त्र ' के नाम से नहीं है , वे सभी मानव धर्म शास्त्र हैं । उनकी रचना हिन्दू शब्द के आने से पहले हुई है । वह किसी एक के लिए नहीं सबके लिए था । भारत में जन्मी सनातनी , बौद्ध , जैन , सिख और आर्यसमाज आदि आध्यात्मिक धाराएँ विश्व कल्याण की बात करती हैं । क्योंकि हमने कभी भी अपने आपको विश्व मानवता से अलग नहीं माना । 

“ स्वदेशो भुवनत्रयम् ” यानि त्रिभुवन हमारा स्वदेश है , सारी पृथ्वी हमारा कुटुम्ब है ( वसुधैव कुटुम्बकम ) । यह हमारी मान्यता है । सबके कल्याण में अपना कल्याण और अपने कल्याण से सबका कल्याण ऐसा जीवन जीने का अनुशासन और सबका कल्याण हो , इसलिए सबके हितों का एक सन्तुलित समन्वय ही हिन्दुत्व है | 

भारतवर्ष में जो हैं वे सब संघ की परिभाषा में हिन्दू हैं वे अपने आपको हिन्दू कहें न कहें उन्हें स्वतंत्रता है , या दूसरा कुछ कहें , कोई फर्क नहीं पड़ता , सभी के प्रति हमारा अपनत्व का भाव है । सभी एक पहचान के लोग हैं । राष्ट्र के नाते उस पहचान को हम हिन्दू कहते हैं । संघ की दृष्टि से सम्पूर्ण समाज का संगठन हिन्दू संगठन है । जैसे परीक्षा में सबसे सरल प्रश्न का उत्तर पहले दिया जाता है उसी प्रकार संघ पहले उनका संगठन करता है जो अपने आपको हिन्दू कहता है । 

संघ , जो अपने को आज हिन्दू नहीं मानते हैं , हिन्दू नहीं कहते हैं उनके खिलाफ नहीं है । संघ की आकांक्षा उनको समाप्त करने की नहीं है , उनका साथ लेने की है जोड़ने की है । वास्तविक हिन्दुत्व यही है । संघ की आकांक्षा ऐसा जीवन खड़ा करने की है जिसमें सब लोग बराबर से सहभागी हों । हिन्दुत्व के तीन आधार हम मानते हैं देश भक्ति , पूर्वज गौरव और संस्कृति । संघ इसी हिन्दुत्व के आधार पर विचार करता है । 

मातृशक्ति

अपने देश में प्राचीन काल से महिलाओं का समाज में बहुत महत्वपूर्ण स्थान है । वैचारिक रूप से उन्हें शक्तिस्वरूपा माँ जगदम्बा का रूप मानते हैं , लेकिन व्यवहार में अन्तर दिखाई पड़ रहा है । संघ की इच्छा है कि अपने घर से लेकर समाज के प्रत्येक क्षेत्र में सर्वत्र मातृशक्ति जागरण का काम होना चाहिए । 

महिला और पुरुष एक दूसरे के पूरक हैं , सार्थक जीवन के लिए दोनों को बराबरी से काम करना होगा अतः निर्णयों से लेकर दायित्वों तक में उनकी सहभागिता बराबरी से होनी चाहिए । राष्ट्र निर्माण में उनकी भी भूमिका महत्वपूर्ण है । संघ के सामान्नतर महिलाओं के लिए “ राष्ट्र सेविका समिति " नाम से अलग संगठन चलता है । 

राजनीति 

संघ ने अपने जन्म से ही निश्चित किया है यह राजनीति से दूर रहेगा । स्पर्धा की राजनीति नहीं करेगा , चुनाव नहीं लड़ेगा , संघ का कोई भी पदाधिकारी किसी भी राजनीतिक दल का पदाधिकारी नहीं बनेगा । संघ चुनाव और वोटों की राजनीति से दूर रहता है परन्तु संघ के विचार के आधार पर नीतियों के बारे में स्वयंसेवकों के मत होते हैं । राज्य कौन करे , इसका चयन जनता करती है , परन्तु राष्ट्रहित में सरकार कैसे चले , इस राष्ट्रनीति के बारे में संघ का कुछ मत रहता है जिसे समय - समय पर संघ सार्वजनिक रूप से समाज के समक्ष रखता रहा है । 

उदाहरणार्थ संघ को राजनीति से परहेज है परन्तु इसका यह अर्थ नहीं विदेशी घुसपैठियों के विषय पर संघ कुछ न बोले , यह राष्ट्रीय प्रश्न है । ऐसे अनेक राष्ट्रीय और सामाजिक महत्व के विषय होते हैं जिन पर संघ का अपना मत होता है । एक जिम्मेदार संगठन के नाते समाज जीवन से जुड़े विविध बिन्दुओं व प्रश्नों पर संघ मत व्यक्त करे यह संघ का दायित्व है । लोग इसे रिमोट कण्ट्रोल कहें या कुछ भी कहें , वास्तव में संघ अपनी स्पष्ट भूमिका रखने का काम करता आया है और भविष्य में भी करता रहेगा ।

Tags

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
एक टिप्पणी भेजें (0)

#buttons=(Accepted !)#days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top