सृष्टि गोस्वामी उत्तराखण्ड की एक दिन की मुख्यमंत्री बनी

राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर कल 24 जनवरी को हरिद्वार की सृष्टि गोस्वामी को उत्तराखण्ड सरकार की और से एक दिन के लिए सूबे का मुखिया मुख्यमंत्री

राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर कल 24 जनवरी को हरिद्वार की सृष्टि गोस्वामी को उत्तराखण्ड सरकार की और से एक दिन के लिए सूबे का मुखिया (मुख्यमंत्री ) बनाया गया 

who is srishti goswami?

कौन है सृष्टि गोस्वामी -  सृष्टि गोस्वामी हरिद्वार जनपद के दौलतपुर गांव की रहने वाली है,और रुड़की के BSM पीजी कॉलजे से BSC एग्रीकल्चर के 7वें सेमेस्टर की छात्रा  है

Difference between tourist place between Uttarakhand and Karnataka

राष्ट्रीय बालिका दिवस पर एक दिन के लिए मुख्यमंत्री बनी सृष्टि पहले भी मुख्यमंत्री रह चुकी है ,जी हाँ बाल मुख्यमत्री 2018 मैं बाल विधायकों की और से उनका चयन बाल मुख्यमंत्री के लिए किया गया था ।  आपको बता दे की सृष्टि पिछले दो सालों से आरम्भ नाम की योजना भी चलाती है और गरीब बच्चों की पढाई के लिए मुफ्त किताबें उपलब्ध कराती है । 

उत्तराखंड  सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए राष्ट्रीय बालिका दिवस पर 24 जनवरी को दौलतपुर गांव के हरिद्वार जनपद की सृष्टि गोस्वामी ने एक दिन के लिए बाल मुख्यमंत्री की कमान संभाली इस उपलक्ष्य पर विधानसभा मैं बाल बिधानसभा आयोजित की गई जिसमें एक दर्जन से ज्यादा विभागों ने भाग लिया ।

COVID 19 rules to enter Uttarakhand

srishti goswami kon hai? srishti goswami

सृष्टि गोस्वामी एक सामान्य परिवार की रहने वाली है ,इनके पिता प्रवीण पुरी दौलतपुर मैं ही परचून की दुकान चलाते है तथा इनकी माता जी सुधा गोस्वामी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता है और इनका एक चोट भाई श्रेष्ठ 11 वीं क्लास का छात्र है ।

उत्तराखंड सरकार ने कोविड-19 की नई गाइडलाइन जारी की है

सृष्टि 2019 मैं गर्ल्स इंटेरनेशनल लीडरशिप मैं शामिल होने के लिए थाईलैंड भी गयी थी ।  उनके पुराने दिन के आधार पर उत्तराखंड सरकार  ने एक दिन के लिए मुख्यमंत्री बनाया । 

इस उपलक्ष्य पर सूबे के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी शामिल रहे और उन्होंने राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर परदेश की बेटियों को सशक्त और आत्मनिर्भर होने पर खुशी जाहिर की,और साथ ही कहा सृष्टि को मुख्यमंत्री बनने का अवसर मिला है वह प्रतिभावान है और अतिसाधारण परिवार की है और इस उपलक्ष्य विपक्ष के प्रश्न सुनेगी और और उनकी समस्याओं को भी समाधान करेगी और लोकतान्त्रिक व्यवस्था को भी समझेगी। 

Rate this article

एक टिप्पणी भेजें