18 साल से ऊपर वालों को 1 मई से कोरोना की वैक्सीन लगेगी

18 साल से ऊपर वालों को 1 मई से कोरोना की वैक्सीन लगेगी। पीएम मोदी ने डॉक्टरों से मीटिंग के बाद लिया यह अहम फैसला, 18 साल से ऊपर उम्र वालों के सभी लोगो

18 साल से ऊपर वालों को 1 मई से कोरोना की वैक्सीन लगेगी। पीएम मोदी ने डॉक्टरों से मीटिंग के बाद लिया यह अहम फैसला, 18 साल से ऊपर उम्र वालों के सभी लोगों को 1 मई से corona vaccine  लगाई जाएगी। सोमवार को डॉक्टरों से पीएम मोदी की मीटिंग के बाद यह अहम् निर्णय लिया गया । 

corona vaccine,corona vaccination,corona vaccination news,
Those-above-18-years-of-age-will-get-the-Corona-vaccine-from-May-1
देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर बहुत तेजी से फैल रही है जिसे देखते हुए अब केंद्र सरकार ने  वैक्सीनेशन के महा अभियान को सरकार ने और तेज करने का फैसला लिया है । 

अब 18 साल से अधिक आयु के सभी लोगों को कोरोना वैक्सीनेशन का टीका लगाया जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में सोमवार को हुई मीटिंग में यह अहम फैसला लिया गया है । 


MUST READ:-  कोरोना वैक्सीन लगवाने के बाद इन बातों का रखना होगा विशेषकर ध्यान

अब पूरे देश में 1 मई से कोरोना टीकाकरण का तीसरा राउंड शुरू हो रहा है, जिसमें युवाओं को भी कवर किया जाएगा, क्योंकि कोरोनावायरस की दूसरी लहर ने युवाओं को अपनी चपेट में लिया है। 

अब तक 45 साल से अधिक आयु के लोगों को ही टीका लगाया जा रहा था । देश में विपक्ष की मुख्य भूमिका निभा रही कांग्रेश  व अन्य राज्य जैसे दिल्ली, पंजाब और महाराष्ट्र जैसे राज्यों के मुख्यमंत्रियों की ओर से युवाओं को भी टीका लगाए जाने की मांग की थी। 

जिसे देखते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने देश के शीर्ष डॉक्टरों के साथ विचार मंथन के बाद यह फैसला लिया गया है। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि सरकार बीते एक साल प्रयास कर रही है कि देश में ज्यादा से ज्यादा भारतीयों को कम से कम समय में वैक्सीन दी जा सके । 

इस मीटिंग में वैक्सीन की मैन्युफैक्चरिंग पर भी विशेष रूप से ध्यान दिए जाने की बात की गई है, क्योंकि ज्यादा मैन्युफैक्चरिंग होने से ज्यादा से ज्यादा लोगों तक वैक्सिंग पहुंचाई जा सकती है, जिसके लिए सरकार हर संभव प्रयास करने का कार्य कर रही है वैक्सीन कि देश में कमी ना हो इसे देखते हुए अन्य भारतीय और विदेशी वैक्सीन्स को भी मंजूरी देने की बात शामिल है।

कोरोना पॉजिटिव रेट बढ़ने के कारण राज्य सरकारों के पास वैक्सीन की कमी हो रही थी जिसे देखते हुए अब यह फैसला लिया गया है कि,राज्य सरकारें अपनी जरूरत के हिसाब से कर सकेंगी वैक्सीन की खरीद इस मीटिंग में एक अहम फैसला यह भी हुआ है कि वैक्सीन बनाने वाली कंपनियां अपने कुल उत्पादन का 50 फीसदी हिस्सा राज्य सरकारों को देंगी , जबकि बाकी 50 फ़ीसदी हिस्सा प्राइवेट बाजार में पहले से तय कीमत पर बेच सकेंगी । 

और अब राज्य सरकारें अपनी आवश्यकता के अनुसार के हिसाब से सीधे कंपनियों से वैक्सीन की खरीद कर सकती हैं ।

देश में पहले की तरह 45 साल से अधिक आयु वालों को कोविड-19 का टीका लगता रहेगा, इसके अलावा राज्य सरकार ने एक बात और साफ कही है कि पहले से तय प्राथमिकता समूह के लोगों का वैक्सीनेशन जारी रहेगा । 

फिलहाल 45 साल से अधिक आयु के लोगों को सरकारी केंद्रों और निजी अस्पतालों में टीका लग रहा है ।


x

Rate this article

एक टिप्पणी भेजें