Type Here to Get Search Results !

बॉलीवुड को दक्षिण के रीमेक में मिला बिग बजट का हिट फॉर्मूला

 बॉलीवुड को दक्षिण के रीमेक में मिला बिग बजट का हिट फॉर्मूला : बॉलीवुड ओरिजिनल कहानियों की जगह ज्यादातर दक्षिण भारतीय फिल्मों की कहानियों में रुचि ले रहा है । इस शॉर्टकट से मार्केटिंग और बॉक्स ऑफिस का हिट फॉर्मूला मिल जाता है । हालांकि दक्षिण भारतीय फिल्मों का रीमेक नई बात नहीं है ।

बॉलीवुड को दक्षिण के रीमेक में मिला बिग बजट का हिट फॉर्मूला
 बॉलीवुड को दक्षिण के रीमेक में मिला बिग बजट का हिट फॉर्मूला 

अनिल कपूर की " बेटा ' हो या परेश रावल की " हेराफेरी ' ... दक्षिण भारतीय फिल्मों की रीमेक ही थी । अब तादाद बढ़ गई है । वरिष्ठ ट्रेड एनालिस्ट गिरीश वानखेड़े बताते हैं कि आने वाले समय में आठ फिल्में तमिल और तेलुगु का रीमेक हैं । 

सबसे पहले है शाहिद कपूर , मृणाल ठाकुर और पंकज कपूर की " जी ' । यह इसी नाम से तेलुगु में बनी स्पोर्ट्स ड्रामा का रीमेक है । तेलुगु फिल्म " आरएक्स -100 ' हिंदी में “ तड़प ' नाम से बन रही है । 

बॉलीवूड को दक्षिण के रीमेक में मिला बिग बजट का हिट फॉर्मूला ...

 हिंदी फिल्म में सुनील शेट्टी के बेटे अहान मुख्य भूमिका में हैं । 2019 की तमिल फिल्म “ कैथी ' एक कैदी की कहानी है , जिसने 105 करोड़ कमाए थे । हिंदी फिल्म के राइट्स अजय देवगन ने लिए हैं । 

जाह्नवी कपूर की “ गुड लक जैरी ' तमिल सुपरहिट फिल्म “ कोलामावू कोकिला ' की रीमेक है । फिल्म ने तमिल सिनेमा से पांच दिन में 14.75 करोड़ कमाए थे । यह एक क्राइम कॉमेडी है । इसी तरह शाहरुख खान ने " विक्रम बेड़ा ' के राइट्स लिए हैं । बोनी कपूर ने कई दक्षिण भारतीय फिल्मों के राइट्स लिए हैं । 

तेलुगु एक्शन थ्रिलर फिल्म “ हिट ' के हिंदी रीमेक में राजकुमार राव काम कर रहे हैं । तेलुगु फिल्म “ डियर कॉमरेड ' के राइट्स करण जौहर ने लिए हैं जो एक गुस्सैल प्रेमी की कहानी है । तमिल फिल्म “ थड़म ' के हिंदी रीमेक में सिद्धार्थ मल्होत्रा और मृणाल ठाकुर काम कर रहे हैं । यह ट्रेंड बिग बजट फिल्मों में ही ज्यादा है ।

 

सलमान खान की " वॉन्टेड ' ( तेलुगु फिल्म पोकिरी ) , बॉडीगार्ड ( मलयालम फिल्म का रीमेक ) हो या अक्षय कुमार की " लक्ष्मी ' ( दक्षिण भारतीय फिल्म कंचना का रीमेक ) हो शाहिद कपूर की “ कबीर सिंह ' ( अर्जुन रेड्डी का रीमेक ) सभी बिग बजट फिल्में दक्षिण भारत से ही सप्लाई हो रही हैं । 

हाल ही में आई सलमान खान की फिल्म “ राधे ' कोरिअन फिल्म “ आउटलॉ ' की रीमेक थी । वानखेड़े के अनुसार जो फार्मूला हिट हो गया हर कोई उसी पर फिल्म बनाना चाहता है । बना बनाया फार्मूला मिल जाता है तो रिस्क कौन ले । कबीर सिंह और इससे पहले बाहुबली की कमाई ने इस विचार को और पक्का किया ।

 ट्रेड एनालिस्ट कोमल नाहटा का कहना है कि दक्षिण भारतीय फिल्मों का रीमेक बनाने की बड़ी वजह यह है कि उससे 50 % जंग जीत ली जाती है । क्योंकि 50 % तय हो जाता है कि बॉक्स ऑफिस पर फिल्म हिट जाएगी । नाहटा के अनुसार फिल्म रीलीज बहुत ही अनिश्चित होता है । 

इसलिए कम से कम रिस्क लिया जाता है । फिल्म इतिहास के जानकार अशोक पांडे बताते हैं बॉलीवुड में अब सब कंटेंट ' हो गया है ' कहानी ' नहीं रही । जो कहानियां राजेंद्र सिंह बेदी या सआदत हसन मंटो लिखा करते थे अब उसकी जगह कंटेंट नले ली है । 

यह सिर्फ इंटरटेनमेंट- इंवेस्टमेंट रह गया है जिसमें कहानी की जगह नहीं । बेन किंगस्ले की फिल्म " गांधी ' के लिए 9 साल रिसर्च किया गया था लेकिन बॉलीवुड को तीन महीने में फिल्म बनानी है । उसमें भी फिल्म राइटर और रिसर्च पर पैसा खर्च नहीं करना है । इसलिए उधार की कहानियों पर भरोसा ज्यादा है ।

Thanks for visiting Khabar daily update. For more इंटरटेनमेंटन्यूज़, click here.


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Hollywood Movies