Type Here to Get Search Results !

Health tips: कान की सेहत को न करें नजरअंदाज

Ear Health Tips: इंसान के शरीर में कई सारे अंग हैं । इनमें कुछ अंग ऐसे हैं जो बहुत ज्यादा ही संवेदनशील होते हैं । यदि इनमें थोड़ी सी समस्या आ जाए तो इंसान का जीवन काफी कष्टमय हो जाता है । ऐसा ही एक अंग है कान जिससे आदमी सुनता है ।

Ear Health Tips , कान की सेहत को न करें नजरअंदाज

 कान की सेहत को न करें नजरअंदाज 

सुनने की समस्याओं के कारणों पर गत दिनों आई एक वैश्विक रिपोर्ट ने भी चिंता पैदा की थी । विश्व स्वास्थ्य संगठन ( डब्ल्यू.एच.ओ . ) की रिपोर्ट का कहना है कि इन समस्याओं को रोका जा सकता है लेकिन उसके लिए ज्यादा निवेश की जरूरत होगी । 

दुनिया के 4 में से 1 यानी 25 प्रतिशत लोग 2050 तक सुनने की समस्या से प्रभावित होंगे । विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी भी दी है और इस सिलसिले में उसने रोकथाम और इलाज पर ज्यादा निवेश की मांग की है । 

वैश्विक रिपोर्ट में कहा गया है कि सुनने की कई समस्याओं के कारणों जैसे संक्रमण , बीमारी , जन्म दोष और खराब जीवनशैली को रोका जा सकता है. 

आवाज गूंजने की समस्या

क्या आपके कानों में बगैर किसी कारण के कोई आवाज गूंजती है ? अगर हां तो सावधान हो जाइए क्योंकि यह कोई आम समस्या नहीं है , यह टिनिटस नामक बीमारी हो सकती है । इसे रक्तवाहिनियों की समस्या या उम्र के साथ सुनने की शक्ति क्षीण होने से जोड़कर देखा जा सकता है लेकिन इसका उपचार किया जा सकता है । 

लक्षण :कानों में सिसकारी , दहाड़ जैसी आवाजें , कानों का बजना एवं आवाज का कानों में गूंजते रह टिनिटस के प्रमुख लक्षणों में शामिल हैं । ये आवाजें समस्या की गंभीरता के अनुसार कम या ज्यादा तीव्रता लिए होती हैं । आवाज का गूंजना एक या दोनों कानों में भी हो सकता है । इसके अलावा यह समस्या कुछ दिनों तक या लंबे समय तक रह सकती है । 

उपचार :कान को समय - समय पर साफ करते रहें । अगर आपके कान में काफी मैल जम गई है तो इसे निकालना बहुत जरूरी है । इसके लिए सुरक्षित साधनों का ही प्रयोग करें । 

अत्यधिक शोर वाले स्थान से दूर रहें । यह आपकी श्रवण क्षमता को बुरी तरह से प्रभावित करता है । 

आप चाहें तो कानों को ढंकने के लिए विशेष मास्क का प्रयोग कर सकते हैं जिससे शोर - शराबे से बच सकें । 

कुछ ऐसे यंत्रों का प्रयोग किया जा सकता है जो पर्यावरण संबंधी आवाजों के स्रोत होते हैं । 

दवाइयों के साइड इफैक्ट्स के रूप में भी टिनिटस की समस्या सामने आ सकती है इसलिए दवाइयों को डॉक्टरी परामर्श अनुसार बदलते रहें । 

 टिनिटस का अंदेशा होने पर चिकित्सक से सम्पर्क करके सही इलाज करवाएं ।

Thanks for visiting Khabar daily update for more Heath Topics Click Here

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Hollywood Movies