Subscribe to my Youtube Channel Click Here Subscribe Also !

हमारा घर परिवार 'आदर्श हिन्दू घर -परिवार' कैसे बने ?

आदर्श हिन्दू घर -परिवार: हजारों वर्षों से हमारी संस्कृति जीवन्त संस्कृति बनी रही , इसका प्रमुख कारण है ' परिवार ' । हिन्दू परिवार हिन्दू संस्कृति की प
Santosh Kukreti

हमारा घर परिवार 'आदर्श हिन्दू घर -परिवार' कैसे बने ? 

आदर्श हिन्दू घर -परिवार: हजारों वर्षों से हमारी संस्कृति जीवन्त संस्कृति बनी रही , इसका प्रमुख कारण है ' परिवार ' हिन्दू परिवार हिन्दू संस्कृति की प्राथमिक पाठशाला है हमारा परिवार देव संस्कृति का संदेशवाहक है । मानव जीवन के चार सोपान ( ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , वानप्रस्थ , सन्यास ) में से गृहस्थ आश्रम को सबसे श्रेष्ठ माना गया है । 

आदर्श हिन्दू घर -परिवार: हजारों वर्षों से हमारी संस्कृति जीवन्त संस्कृति बनी रही , इसका प्रमुख कारण है ' परिवार ' । हिन्दू परिवार हिन्दू संस्कृति की प्राथमिक पाठशाला है । हमारा परिवार देव संस्कृति का संदेशवाहक है । मानव जीवन के चार सोपान ( ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , वानप्रस्थ , सन्यास ) में से गृहस्थ आश्रम को सबसे श्रेष्ठ माना गया है ।

परिवार व्यक्ति की रक्षा करने के साथ ही राष्ट्र की भी रक्षा करता है । अतः परिवार की रक्षा करना आवश्यक है कुटुम्बो रक्षति रक्षितः । परिवार से समाज बनाना , उसमें मेलजोल बढ़ाना , संस्कारयुक्त व्यक्ति का निर्माण करना , चराचर जगत की समस्त सृष्टि के साथ सहयोग व आत्मीयतापूर्ण व्यवहार तथा वयं का भाव विकसित करना , इन सभी बातों के लिए परिवार की बहुत बड़ी भूमिका है । 

यह भी पढ़ें -  हिन्दू समाज के सामने चुनौतियाँ पर निबंध | हिन्दू समाज के सामने चुनौतियाँ पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ( RSS) के विचार

विभिन्न विषयों पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का दृष्टिकोण

भारतीय समाज रचना में परिवार का सर्वाधिक महत्वपूर्ण स्थान है । आदर्श परिवार से ही आदर्श समाज रचना सम्भव है । परिवार समन्वित कर्तव्यों व अधिकारों की कर्मभूमि होता है । 

परिवार अस्ताचल सूर्य जैसे अनुभवी वृद्धों से लेकर उदीयमान सूर्य जैसे शिशुओं का एकत्रित स्वरूप है । हिन्दू समाज में प्रत्येक के कर्तव्य पालन में दूसरे का अधिकार निहित है । परिवार में ' हम और अपनापन ' भाव जब तक रहता है ,कौन बनेगा , इसके लिए झगड़ा नहीं होता , स्वतः निर्धारण हो जाता है । 

परिवार का भाव पनपने लगता है , परिवार टूटने का बीजारोपण हो जाता है । परिवार का प्रमुख परिवार टूटता नहीं है और जिस दिन परिवार के किसी सदस्य में ' मैं और मेरा ' का प्रमुख समन्वयकारी होता है । अपने यहाँ कहा गया है : 

मुखिया मुख सो चाहिए , खान - पान को एक । 

पाले पोसे सकल अंग , तुलसी सहित विवेक ॥ 

/span>

दूसरे परिवार की लड़की बहू के रूप में आकर परिवार में गृह स्वामिनी बन जाती है । ऋग्वेद में कहा गया है : 

सम्राज्ञी श्वसुरे भव सम्राज्ञी स्वश्ववां भव । 

ननान्दिरि सम्राज्ञी भव सम्राज्ञी अधि देवृषु ॥ ( ऋग्वेद 10-85-46 ) 

अर्थात परिवार के वृद्धजन नई बहू को आशीर्वाद देते हैं - हे पुत्री , ससुर की दृष्टि में तुम महारानी बनो , सास की दृष्टि में महारानी बनो , ननद की दृष्टि में महारानी बनो और देवरों की दृष्टि में महारानी बनो , यही हमारा आशीर्वाद है , यही हमारी शुभकामना है , यही हमारी शिक्षा और यही हमारा उपदेश है । - 

यह भी पढ़ें - राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ( RSS) एक परिचय | rashtriya swayamsevak sangh

हिन्दू धर्म में प्रत्येक मनुष्य के सम्पूर्ण विकास में सोलह संस्कारों की व्यवस्था है । विवाह तेरहवाँ संस्कार है । 

परिवार में उत्तरदायित्व का कोई लिखित प्रावधान नहीं होता । परिवार में अनेक प्रकार के कार्य रहते हैं । परिवार का प्रत्येक सदस्य अपनी क्षमता और योग्यतानुसार कोई न कोई कार्य स्वयं अपने जिम्मे ले लेता है । उत्तरदायित्व न निभाने पर कोई दण्ड का विधान भी परिवार व्यवस्था में नहीं होता है । 

हिन्दू समाज की विशेषता रही है कि हमने सम्बन्धों का विस्तार किया है । सम्बन्धवाची शब्द जितने हमारे यहाँ उपलब्ध हैं , उतने सम्भवतः विश्व में कहीं भी नहीं हैं । हमारे यहाँ अंग्रेजी के समान Maternal ( मातृत्व ) या Paternal ( पितृत्व ) जैसे केवल दो शब्दों से काम नहीं चलता । 

हमारे यहाँ तो प्रत्येक सम्बन्ध के लिए एक निश्चित सम्बोधन है । नौकर को भी काका आदि , नौकरानी को काकी , चाची आदि कहकर पुकारने की प्रथा रही है । केवल मनुष्य नहीं पशु - पक्षियों एवं प्रकृति के साथ भी हमने सम्बन्ध स्थापित किया हुआ है । 

जैसे बिल्ली मौसी , चूहे मामा , सूरज दादा , चन्दा मामा , बादल चाचा , बिजली रानी कहकर उनको प्रेम व आदर के साथ पुकारते रहे हैं । दुर्भाग्य है कि अंग्रेजी भाषा ने रिश्तों की दुनिया को समाप्त कर केवल ' अंकल - आंटी ' तक सीमित कर दिया है । 

पश्चिमीकरण का दुष्प्रभाव विगत कुछ वर्षों से अपने देश के जीवन मूल्यों पर भी बना हुआ है । संयुक्त परिवार टूट रहे हैं , वृद्धाश्रमों की संख्या बढ़ रही है , पति - पत्नी में तलाक के आँकड़े बढ़ रहे हैं तथा परिवार में सम्पत्ति के झगड़े बढ़ रहे हैं । 

' हम दो , हमारे दो ' या ' हम दो , हमारे एक ' के कारण रिश्तों की दुनिया सिमट रही है । इसका दुष्परिणाम है जनसंख्या असंतुलन । सम्भावना व्यक्त की जा रही है सन् 2050 तक हिन्दू अपने ही देश में अल्पसंख्यक हो जायेंगे । 

संयुक्त परिवारों के टूटने के कारण परिवारों में संस्कारों का क्षरण होने लगा है और इस कारण मातृशक्ति पर अत्याचार बढ़ रहे हैं । यद्यपि प्रत्येक क्षेत्र में महिलाएं आगे बढ़कर कीर्तिमान स्थापित कर रही हैं । 

आदर्श परिवार वह माना जाता है , जिसमें घर की सज्जा , घर में संस्कार देने की पद्धति , परिवार की भूमिका आदि में राष्ट्रवाद , धर्म एवं संस्कृति के प्रति आस्था , अपने श्रद्धा केन्द्रों व अपने महापुरुषों के प्रति सम्मान का भाव प्रकट हो । 

पारिवारिक जीवन पर बदलते समय में पड़ने वाले दुष्प्रभाव को समाप्त करना दुष्कर कार्य लगता है परन्तु निम्न कुछ बातों पर परिवार में चिन्तन या व्यवहार हो , तो अपेक्षित परिवर्तन आ सकता है : 

1 . सायंकाल परिवार के सभी छोटे - बड़े सदस्य भगवान की आराधना - प्रार्थना साथ - साथ करें । 

2. प्रतिदिन एक बार , सम्भव न हो तो सप्ताह में कम से कम एक बार सामूहिक भोजन करें । 

3 . सप्ताह में एक बार परिवार के सभी सदस्य एक साथ मिल - बैठकर परिवार से सम्बन्धित किसी विषय पर परस्पर प्रेम व विश्वास के साथ चिन्तन व चर्चा करें तथा परिवार में संस्कार वृद्धि हेतु कुछ प्रयोग शुरू करें । जैसे सप्ताह में एक दिन दूरदर्शन रहित दिनचर्या का पालन तथा किसी एक या अधिक परिवारों को अपने यहाँ आमंत्रित करना अथवा किसी परिवार में अपने परिवार सहित जाना ।

4 . जन्मदिन पर केक काटने तथा मोमबत्तियाँ बुझाने के स्थान पर देव दर्शन , दीप • जलाना , भजन कीर्तन करना तथा जिसका जन्मदिन है , उसके द्वारा दान दिलवाना चाहिए । 

5 . परिवार में किसी शादी विवाह व मंगल उत्सव के अवसर पर अनावश्यक आर्थिक प्रदर्शन न करते हुए बचे हुए धन का किसी सेवा कार्य में उपयोग करना । शुभ अवसरों , उत्सवों आदि के अवसरों पर सेवा बस्ती से या अपने घर में कार्य करने वाले सफाई कर्मी , आयामहरी आदि को भी अन्य मित्रगणों की भांति आमंत्रित करना तथा उसी आदर भाव से उनके साथ भी व्यवहार करना । 

6 .  परिवार में मंगल निधि कोष प्रारम्भ करना तथा उसमें संग्रहीत धन को सेवा कार्यों में लगाना चाहिए।

7 . परिवार के सभी सदस्य अपने जीवन व्यवहार में ' स्व ' के बोध को दृढ़ करें । जैसे - स्व - भाषा , स्व - भूषा , स्वदेश -स्वदेशी , स्व - तंत्र , स्व - धर्म , स्व - संस्कृति , स्व - अनुशासन आदि । 

8 . यम एवं नियम का पालन करें - 

धृतिः क्षमा दमोऽस्तेयं शौचम् इन्द्रिय निग्रहः । 

धीर्विद्या सत्यम् अक्रोधो दशकम् धर्मलक्षणम् ॥ 

अर्थात- धृतिः ( धैर्य ) , क्षमा , दम , अस्तेय , शौच , इन्द्रियनिग्रह , धी ( विवेक बुद्धि ) , विद्या , सत्य और अक्रोध - ये धर्म के दस लक्षण हैं । 

9. सेवा व्रत का पालन करें-

 परोपकाराय पुण्याय , पापाय परपीड़नम् । 

अर्थात- दूसरों की भलाई से बड़ा कोई पुण्य नहीं है और दूसरों को कष्ट देने से बड़ा कोई पाप नहीं है । यही सब ग्रन्थों का सार है । मात्र धार्मिक कर्मकाण्ड से पुण्य नहीं मिलता है ।

Getting Info...

एक टिप्पणी भेजें

Cookie Consent
We serve cookies on this site to analyze traffic, remember your preferences, and optimize your experience.
Oops!
It seems there is something wrong with your internet connection. Please connect to the internet and start browsing again.
AdBlock Detected!
We have detected that you are using adblocking plugin in your browser.
The revenue we earn by the advertisements is used to manage this website, we request you to whitelist our website in your adblocking plugin.
Site is Blocked
Sorry! This site is not available in your country.