Type Here to Get Search Results !

हमारा घर परिवार 'आदर्श हिन्दू घर -परिवार' कैसे बने ?

 हमारा घर परिवार 'आदर्श हिन्दू घर -परिवार' कैसे बने ? 

आदर्श हिन्दू घर -परिवार: हजारों वर्षों से हमारी संस्कृति जीवन्त संस्कृति बनी रही , इसका प्रमुख कारण है ' परिवार ' हिन्दू परिवार हिन्दू संस्कृति की प्राथमिक पाठशाला है हमारा परिवार देव संस्कृति का संदेशवाहक है । मानव जीवन के चार सोपान ( ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , वानप्रस्थ , सन्यास ) में से गृहस्थ आश्रम को सबसे श्रेष्ठ माना गया है । 

आदर्श हिन्दू घर -परिवार: हजारों वर्षों से हमारी संस्कृति जीवन्त संस्कृति बनी रही , इसका प्रमुख कारण है ' परिवार ' । हिन्दू परिवार हिन्दू संस्कृति की प्राथमिक पाठशाला है । हमारा परिवार देव संस्कृति का संदेशवाहक है । मानव जीवन के चार सोपान ( ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , वानप्रस्थ , सन्यास ) में से गृहस्थ आश्रम को सबसे श्रेष्ठ माना गया है ।

परिवार व्यक्ति की रक्षा करने के साथ ही राष्ट्र की भी रक्षा करता है । अतः परिवार की रक्षा करना आवश्यक है कुटुम्बो रक्षति रक्षितः । परिवार से समाज बनाना , उसमें मेलजोल बढ़ाना , संस्कारयुक्त व्यक्ति का निर्माण करना , चराचर जगत की समस्त सृष्टि के साथ सहयोग व आत्मीयतापूर्ण व्यवहार तथा वयं का भाव विकसित करना , इन सभी बातों के लिए परिवार की बहुत बड़ी भूमिका है । 

यह भी पढ़ें -  हिन्दू समाज के सामने चुनौतियाँ पर निबंध | हिन्दू समाज के सामने चुनौतियाँ पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ( RSS) के विचार

विभिन्न विषयों पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का दृष्टिकोण

भारतीय समाज रचना में परिवार का सर्वाधिक महत्वपूर्ण स्थान है । आदर्श परिवार से ही आदर्श समाज रचना सम्भव है । परिवार समन्वित कर्तव्यों व अधिकारों की कर्मभूमि होता है । 

परिवार अस्ताचल सूर्य जैसे अनुभवी वृद्धों से लेकर उदीयमान सूर्य जैसे शिशुओं का एकत्रित स्वरूप है । हिन्दू समाज में प्रत्येक के कर्तव्य पालन में दूसरे का अधिकार निहित है । परिवार में ' हम और अपनापन ' भाव जब तक रहता है ,कौन बनेगा , इसके लिए झगड़ा नहीं होता , स्वतः निर्धारण हो जाता है । परिवार का भाव पनपने लगता है , परिवार टूटने का बीजारोपण हो जाता है । परिवार का प्रमुख परिवार टूटता नहीं है और जिस दिन परिवार के किसी सदस्य में ' मैं और मेरा ' का प्रमुख समन्वयकारी होता है । अपने यहाँ कहा गया है : 

मुखिया मुख सो चाहिए , खान - पान को एक । 

पाले पोसे सकल अंग , तुलसी सहित विवेक ॥ 

दूसरे परिवार की लड़की बहू के रूप में आकर परिवार में गृह स्वामिनी बन जाती है । ऋग्वेद में कहा गया है : 

सम्राज्ञी श्वसुरे भव सम्राज्ञी स्वश्ववां भव । 

ननान्दिरि सम्राज्ञी भव सम्राज्ञी अधि देवृषु ॥ ( ऋग्वेद 10-85-46 ) 

अर्थात परिवार के वृद्धजन नई बहू को आशीर्वाद देते हैं - हे पुत्री , ससुर की दृष्टि में तुम महारानी बनो , सास की दृष्टि में महारानी बनो , ननद की दृष्टि में महारानी बनो और देवरों की दृष्टि में महारानी बनो , यही हमारा आशीर्वाद है , यही हमारी शुभकामना है , यही हमारी शिक्षा और यही हमारा उपदेश है । - 

यह भी पढ़ें - राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ( RSS) एक परिचय | rashtriya swayamsevak sangh

हिन्दू धर्म में प्रत्येक मनुष्य के सम्पूर्ण विकास में सोलह संस्कारों की व्यवस्था है । विवाह तेरहवाँ संस्कार है । 

परिवार में उत्तरदायित्व का कोई लिखित प्रावधान नहीं होता । परिवार में अनेक प्रकार के कार्य रहते हैं । परिवार का प्रत्येक सदस्य अपनी क्षमता और योग्यतानुसार कोई न कोई कार्य स्वयं अपने जिम्मे ले लेता है । उत्तरदायित्व न निभाने पर कोई दण्ड का विधान भी परिवार व्यवस्था में नहीं होता है । 

हिन्दू समाज की विशेषता रही है कि हमने सम्बन्धों का विस्तार किया है । सम्बन्धवाची शब्द जितने हमारे यहाँ उपलब्ध हैं , उतने सम्भवतः विश्व में कहीं भी नहीं हैं । हमारे यहाँ अंग्रेजी के समान Maternal ( मातृत्व ) या Paternal ( पितृत्व ) जैसे केवल दो शब्दों से काम नहीं चलता । 

हमारे यहाँ तो प्रत्येक सम्बन्ध के लिए एक निश्चित सम्बोधन है । नौकर को भी काका आदि , नौकरानी को काकी , चाची आदि कहकर पुकारने की प्रथा रही है । केवल मनुष्य नहीं पशु - पक्षियों एवं प्रकृति के साथ भी हमने सम्बन्ध स्थापित किया हुआ है । जैसे बिल्ली मौसी , चूहे मामा , सूरज दादा , चन्दा मामा , बादल चाचा , बिजली रानी कहकर उनको प्रेम व आदर के साथ पुकारते रहे हैं । दुर्भाग्य है कि अंग्रेजी भाषा ने रिश्तों की दुनिया को समाप्त कर केवल ' अंकल - आंटी ' तक सीमित कर दिया है । 

पश्चिमीकरण का दुष्प्रभाव विगत कुछ वर्षों से अपने देश के जीवन मूल्यों पर भी बना हुआ है । संयुक्त परिवार टूट रहे हैं , वृद्धाश्रमों की संख्या बढ़ रही है , पति - पत्नी में तलाक के आँकड़े बढ़ रहे हैं तथा परिवार में सम्पत्ति के झगड़े बढ़ रहे हैं । ' हम दो , हमारे दो ' या ' हम दो , हमारे एक ' के कारण रिश्तों की दुनिया सिमट रही है । इसका दुष्परिणाम है जनसंख्या असंतुलन । सम्भावना व्यक्त की जा रही है सन् 2050 तक हिन्दू अपने ही देश में अल्पसंख्यक हो जायेंगे । 

संयुक्त परिवारों के टूटने के कारण परिवारों में संस्कारों का क्षरण होने लगा है और इस कारण मातृशक्ति पर अत्याचार बढ़ रहे हैं । यद्यपि प्रत्येक क्षेत्र में महिलाएं आगे बढ़कर कीर्तिमान स्थापित कर रही हैं । 

आदर्श परिवार वह माना जाता है , जिसमें घर की सज्जा , घर में संस्कार देने की पद्धति , परिवार की भूमिका आदि में राष्ट्रवाद , धर्म एवं संस्कृति के प्रति आस्था , अपने श्रद्धा केन्द्रों व अपने महापुरुषों के प्रति सम्मान का भाव प्रकट हो । पारिवारिक जीवन पर बदलते समय में पड़ने वाले दुष्प्रभाव को समाप्त करना दुष्कर कार्य लगता है परन्तु निम्न कुछ बातों पर परिवार में चिन्तन या व्यवहार हो , तो अपेक्षित परिवर्तन आ सकता है : 

1 . सायंकाल परिवार के सभी छोटे - बड़े सदस्य भगवान की आराधना - प्रार्थना साथ - साथ करें । 

2. प्रतिदिन एक बार , सम्भव न हो तो सप्ताह में कम से कम एक बार सामूहिक भोजन करें । 

3 . सप्ताह में एक बार परिवार के सभी सदस्य एक साथ मिल - बैठकर परिवार से सम्बन्धित किसी विषय पर परस्पर प्रेम व विश्वास के साथ चिन्तन व चर्चा करें तथा परिवार में संस्कार वृद्धि हेतु कुछ प्रयोग शुरू करें । जैसे सप्ताह में एक दिन दूरदर्शन रहित दिनचर्या का पालन तथा किसी एक या अधिक परिवारों को अपने यहाँ आमंत्रित करना अथवा किसी परिवार में अपने परिवार सहित जाना ।

4 . जन्मदिन पर केक काटने तथा मोमबत्तियाँ बुझाने के स्थान पर देव दर्शन , दीप • जलाना , भजन कीर्तन करना तथा जिसका जन्मदिन है , उसके द्वारा दान दिलवाना चाहिए । 

5 . परिवार में किसी शादी विवाह व मंगल उत्सव के अवसर पर अनावश्यक आर्थिक प्रदर्शन न करते हुए बचे हुए धन का किसी सेवा कार्य में उपयोग करना । शुभ अवसरों , उत्सवों आदि के अवसरों पर सेवा बस्ती से या अपने घर में कार्य करने वाले सफाई कर्मी , आयामहरी आदि को भी अन्य मित्रगणों की भांति आमंत्रित करना तथा उसी आदर भाव से उनके साथ भी व्यवहार करना । 

6 .  परिवार में मंगल निधि कोष प्रारम्भ करना तथा उसमें संग्रहीत धन को सेवा कार्यों में लगाना चाहिए।

7 . परिवार के सभी सदस्य अपने जीवन व्यवहार में ' स्व ' के बोध को दृढ़ करें । जैसे - स्व - भाषा , स्व - भूषा , स्वदेश -स्वदेशी , स्व - तंत्र , स्व - धर्म , स्व - संस्कृति , स्व - अनुशासन आदि । 

8 . यम एवं नियम का पालन करें - 

धृतिः क्षमा दमोऽस्तेयं शौचम् इन्द्रिय निग्रहः । 

धीर्विद्या सत्यम् अक्रोधो दशकम् धर्मलक्षणम् ॥ 

अर्थात- धृतिः ( धैर्य ) , क्षमा , दम , अस्तेय , शौच , इन्द्रियनिग्रह , धी ( विवेक बुद्धि ) , विद्या , सत्य और अक्रोध - ये धर्म के दस लक्षण हैं । 

9. सेवा व्रत का पालन करें-

 परोपकाराय पुण्याय , पापाय परपीड़नम् । 

अर्थात- दूसरों की भलाई से बड़ा कोई पुण्य नहीं है और दूसरों को कष्ट देने से बड़ा कोई पाप नहीं है । यही सब ग्रन्थों का सार है । मात्र धार्मिक कर्मकाण्ड से पुण्य नहीं मिलता है ।

Tags

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Hollywood Movies