चाणक्य नीति अध्याय दसवां हिंदी में | Chanakya Neeti Tenth Chapter In Hindi

0
Chanakya Niti in Hindi Chapter Tenth : चाणक्य नीति में आचार्य कौटिल्य ने Chanakya Neeti के दसवां/10va अध्याय मे निम्नलिखित श्लोकों का वर्णन किया है। अतः यहाँ पर आपको सुविधा के अनुसार आचार्य Chanakya की Chankya Niti Chapter ten में संस्कृत श्लोकों के हिन्दी अर्थों के साथ-साथ  English meaning के साथ जानकारी दी गई  है। जिससे आपको अपनी भाषा के अनुरूप पढ़ने मे सुविधा हो। 

Chanakya Niti in Hindi Chapter Ninth : चाणक्य नीति में आचार्य कौटिल्य ने Chanakya Neeti के नवां /9va अध्याय मे निम्नलिखित श्लोकों का वर्णन किया है। अतः यहाँ पर आपको सुविधा के अनुसार आचार्य Chanakya की Chankya Niti Chapter nine में


Complete Chanakya Neeti में आचार्य विष्णुगुप्त (कौटिल्य) "चाणक्य"ने अपने विचारों को प्रस्तुत किया है जिसे हम चाणक्य नीति के नाम से जानते है।  तो जानते है -चाणक्य  नीति अध्याय दसवाँ/हिंदी में | Chanakya Neeti TEN Chapter In Hindi. 

चाणक्य नीति हिंदी में:दसवां अध्याय |Chanakya Neeti In Hindi: Ten Chapter


जिसके पास धन नहीं है वो गरीब नहीं है, वह तो असल में रहीस है, यदि उसके पास विद्या है. लेकिन जिसके पास विद्या नहीं है वह तो सब प्रकार से निर्धन है. - चाणक्य नीति

One destitute of wealth is not destitute, he is indeed rich (if he is learned); but the man devoid of learning is destitute in every way. - Chanakya


दृष्टिपुतं न्यसेत्पादं वस्त्रपूतं पिबेज्जलम् ।

शास्त्रपूतं वदेद्वाक्यं मनःपूतं समाचरेत् ।।२।।

हम अपना हर कदम फूक फूक कर रखे. हम छाना हुआ जल पिए. हम वही बात बोले जो शास्त्र सम्मत है. हम वही काम करे जिसके बारे हम सावधानीपुर्वक सोच चुके है. - चाणक्य नीति

We should carefully scrutinise that place upon which we step; we should drink water which has been filtered; we should speak only those words which have the sanction of the satras; and do that act which we have carefully considered. - Chanakya


सुखार्थी चेत्यजेद्विद्यां विद्यार्थी चेत्त्यजेत्सुखम् ।

सुखार्थीनः कुतो विद्या सुखं विद्यार्थिनः कुतः ।।३।।

जिसे अपने इन्द्रियों की तुष्टि चाहिए, वह विद्या अर्जन करने के सभी विचार भूल जाए. और जिसे ज्ञान चाहिए वह अपने इन्द्रियों की तुष्टि भूल जाये. जो इन्द्रिय विषयों में लगा है उसे ज्ञान कैसा, और जिसे ज्ञान है वह व्यर्थ की इन्द्रिय तुष्टि में लगा रहे यह संभव नहीं. - चाणक्य नीति

He who desires sense gratification must give up all thoughts of acquiring knowledge; and he who seeks knowledge must not hope for sense gratification. - Chanakya


कवयः किं न पश्यन्ति कि न कुर्वन्ति योषितः ।

मद्यपाः किं न जल्पन्ति किंन खादन्ति वायसाः ।।४।।

वह क्या है जो कवी कल्पना में नहीं आ सकता. वह कौनसी बात है जिसे करने में औरत सक्षम नहीं है. ऐसी कौनसी बकवास है जो दारू पिया हुआ आदमी नहीं करता. ऐसा क्या है जो कौवा नहीं खाता. - चाणक्य नीति

What is it that escapes the observation of poets? What is that act women are incapable of doing? What will drunken people not prate? What will not a crow eat? - Chanakya


रंक करोति राजानं राजानं रंकमेवच ।

धनिनं निर्धनं चैव निर्धनं धनिनं विधिः ।।५।।

नियति एक भिखारी को राजा और राजा को भिखारी बनाती है. वह एक अमीर आदमी को गरीब और गरीब को अमीर. - चाणक्य नीति

Fate makes a beggar a king and a king a beggar. He makes a rich man poor and a poor man rich.


लुब्धानां याचकः शत्रुमूर्खाणां बोधको रिपुः ।

जारस्त्रीणां पतिः शत्रुश्चौराणां चन्द्रमा रिपुः ।।६।।

भिखारी यह कंजूस आदमी का दुश्मन है. एक अच्छा सलाहकार एक मूर्ख आदमी का शत्रु है. 

1. वह पत्नी जो पर पुरुष में रूचि रखती है, उसके लिए उसका पति ही उसका शत्रु है.... 

2. जो चोर रात को काम करने निकलता है, चन्द्रमा ही उसका शत्रु है. - चाणक्य नीति

The beggar is a miser's enemy; the wise counsellor is the fool's enemy; her husband is an adulterous wife's enemy; and the moon is the enemy of the thief. - Chanakya


येषां न विद्या न तपो न दानंन चापि शीलं न गुणो न धर्मः ।

ते मृत्युलोके भुवि भारभूता मनुष्यरूपेण मृगाश्चरन्ति ।।७।।

जिनके पास यह कुछ नहीं है...

विद्या

तप

ज्ञान

अच्छा स्वभाव.

गुण.

दया भाव वो धरती पर मनुष्य के रूप में घुमने वाले पशु है. धरती पर उनका भार है.- चाणक्य नीति

 Those who are destitute of learning, penance, knowledge, good disposition, virtue and benevolence are brutes wandering the earth in the form of men. They are burdensome to the earth. - Chanakya


अन्तः सारविहीनानामुपदेशो न जायते ।

मलयाचलसंसर्गान्न वेणुश्चन्दनायते ।।८।।

जिनके भेजे खाली है, वो कोई उपदेश नहीं समझते. यदि बास को मलय पर्वत पर उगाया जाये तो भी उसमे चन्दन के गुण नहीं आते. - चाणक्य नीति

Those that are empty-minded cannot be benefited by instruction. Bamboo does not acquire the quality of sandalwood by being associated with the Malaya Mountain. - Chanakya


यस्य नास्ति स्वयं प्रज्ञा शास्त्रं तस्य करोति किम् ।

लोचनाभ्यां विहीनस्य दर्पणः किं करिष्यति ।।९।।

जिसे अपनी कोई अकल नहीं उसकी शास्त्र क्या भलाई करेंगे. एक अँधा आदमी आयने का क्या करेगा. - चाणक्य नीति

 What good can the scriptures do to a man who has no sense of his own? Of what use is as mirror to a blind man? - Chanakya


दुर्जनं सज्जनं कर्तुमुपायो न हि भूतले ।

अपानं शतधा धौतं न श्रेष्ठमिन्द्रियं भवेत् ।।१०।।

एक बुरा आदमी सुधर नहीं सकता. आप पृष्ठ भाग को चाहे जितना साफ़ करे वो श्रेष्ठ भागो की बराबरी नहीं कर सकता. - चाणक्य नीति

 Nothing can reform a bad man, just as the posterious cannot become a superior part of the body though washed one hundred times. - Chanakya


आप्तद्वेषाद्भवैन्मृत्युः परद्वेषाध्दनक्षयः ।

राजद्वेषाद्भवेन्नशो ब्रह्मद्वेषात्कुलक्षयः ।।११।।

अपने निकट संबंधियों का अपमान करने से जान जाती है. 1.दुसरो का अपमान करने से दौलत जाती है. 

2.राजा का अपमान करने से सब कुछ जाता है. 

3.एक ब्राह्मण का अपमान करने से कुल का नाश हो जाता है. - चाणक्य नीति

 By offending a kinsman, life is lost; by offending others, wealth is lost; by offending the king, everything is lost; and by offending a brahmana one's whole family is ruined. - Chanakya


वरं वनं व्याघ्रगजेन्द्रसेवितं द्रुमालयं पक्वफलाम्बुसेवनम् ।

तृणेषु शय्या शतजीर्णबल्कलं न बन्धुमध्ये धनहीनजीवनम् ।।१२।।

यह बेहतर है की आप जंगल में एक झाड के नीचे रहे, जहा बाघ और हाथी रहते है, उस जगह रहकर आप फल खाए और जलपान करे, आप घास पर सोये और पुराने पेड़ो की खाले पहने. लेकिन आप अपने सगे संबंधियों में ना रहे यदि आप निर्धन हो गए है. - चाणक्य नीति

 It is better to live under a tree in a jungle inhabited by tigers and elephants, to maintain oneself in such a place with ripe fruits and spring water, to lie down on grass and to wear the ragged barks of trees than to live amongst one's relations when reduced to poverty. - Chanakya


विप्रो वृक्षस्तस्य मूलं च सन्ध्या वेदाः शाखा धर्मकर्माणि पत्रम् ।

तस्मात्‍ मूलं यत्नो रक्षणीयम्छि न्ने मूले नैव शाखा न पत्रम् ।।१३।।

ब्राह्मण एक वृक्ष के समान है. उसकी प्रार्थना ही उसका मूल है. वह जो वेदों का गान करता है वही उसकी शाखाए है. वह जो पुण्य कर्म करता है वही उसके पत्ते है. इसीलिए उसने अपने मूल को बचाना चाहिए. यदि मूल नष्ट हो जाता है तो शाखाये भी ना रहेगी और पत्ते भी. - चाणक्य नीति

 The brahmana is like tree; his prayers are the roots, his chanting of the Vedas are the branches, and his religious act are the leaves. Consequently effort should be made to preserve his roots for if the roots are destroyed there can be no branches or leaves. - Chanakya


माता च कमला देवी पिता देवो जनार्दनः ।

बान्धवा विष्णु भक्ताश्च स्वदेशे भुवनत्रयम् ।।१४।।

लक्ष्मी मेरी माता है. विष्णु मेरे पिता है. वैष्णव जन मेरे सगे सम्बन्धी है. तीनो लोक मेरा देश है. - चाणक्य नीति

 My mother is Kamala devi (Lakshmi), my father is Lord Janardana (Vishnu), my kinsmen are the Vishnu-bhaktas (Vaisnavas) and, my homeland is all the three worlds - Chanakya


एकवृक्षे समारूढा नानावर्णा बिहंगमाः ।

प्रभाते दिक्षु दशसु का तत्र परिवेदना ? ।।१५।।

रात्रि के समय कितने ही प्रकार के पंछी वृक्ष पर विश्राम करते है. भोर होते ही सब पंछी दसो दिशाओ में उड़ जाते है. हम क्यों भला दुःख करे यदि हमारे अपने हमें छोड़कर चले गए. - चाणक्य नीति

(Through the night) a great many kinds of birds perch(Sit and rest) on a tree but in the morning they fly in all the ten directions. Why should we lament (Expression of sorrow) for that? (Similarly, we should not grieve when we must inevitably part company from our dear ones). - Chanakya


बुध्दिर्यस्य बलं तस्य निर्बुध्दैश्च कुतो बलम् ।

वने हस्ती मदोन्मत्तः शशकेन निपातितः ।।१६।।

जिसके पास में विद्या है वह शक्तिशाली है. निर्बुद्ध पुरुष के पास क्या शक्ति हो सकती है? एक छोटा खरगोश भी चतुराई से मदमस्त हाथी को तालाब में गिरा देता है. - चाणक्य नीति

He who possesses intelligence is strong; how can the man that is unintelligent be powerful? The elephant of the forest having lost his senses by intoxication was tricked into a lake by a small rabbit. - Chanakya


का चिन्ता मम जीवने यदि हरिविश्वन्भरो गीयते ।

नो चेदर्भकजीवनाय जननीस्तन्यं कथं निःसरेत् ।।

इत्यालोच्य मुहुर्मुहुर्यदुपते लक्ष्मीपते केवलम् ।

त्वत्पदाम्बुजसेवनेन सततं कालो मया नीयते ।।१७।।

हे विश्वम्भर तू सबका पालन करता है. मै मेरे गुजारे की क्यों चिंता करू जब मेरा मन तेरी महिमा गाने में लगा हुआ है. आपके अनुग्रह के बिना एक माता की छाती से दूध नहीं बह सकता और शिशु का पालन नहीं हो सकता. मै हरदम यही सोचता हुआ, हे यदु वंशियो के प्रभु, हे लक्ष्मी पति, मेरा पूरा समय आपकी ही चरण सेवा में खर्च करता हू. - चाणक्य नीति

Why should I be concerned for my maintenance while praising the Lord Vishnu by his grace milk flows from a mother's breast for a child's nourishment, in same way O Lord vishnu, all my time is spent in serving Your lotus feet. - Chanakya


गीर्वाणवाणीषु विशिष्टबुध्दि-स्तथापि भाषान्तरलालुपोऽहम् ।

यथा सुधायाममरिषु सत्यांस्वर्गड्गनानामधरासवे रुचिः ।।१८।।

18. यद्यपि मैं देववाणी में विशेष योग्यता रखता हूँ, फिर भी भाषान्तर का लोभ है ही। जैसे स्वर्ग में अमृत जैसी उत्तम वस्तु विद्यमान है फिर भी देवताओं को देवांगनाओं के अधरामृत पान करने की रुचि रहती ही है।

18. Although I have special qualifications in Debawani, yet there is a greed of language. Like the excellent item of Amrit in heaven, the deities are still interested to pay the grandfather of God.


अनाद्दशगुणं पिस्टं पिस्टाद्दशगुणं पयः ।

पयसोऽष्टगुणं मांसं मांसाद्दशगुणं घृतम् ।।१९।।

खडे अन्न की अपेक्षा दसगुना बल रहता है पिसान में। पिसान से दसगुना बल रहता है दूध में। दूध से अठगुना बल रहता है मांस से भी दसगुना बल है घी में।

Due to the grace of the grain, there is a strong force in Pisan. Dashan is stronger than Pisan in milk. The eight force remains the milk from the meat, there is also a double force in ghee.


शाकेन रोगा वर्ध्दते पयसो वर्ध्दते तनुः ।

घृतेन वर्ध्दते वीर्यं मांसान्मासं प्रवर्ध्दते ।।२०।।

 शाक से रोग, दूध से शरीर, घी से वीर्य और मांस से मांस की वृध्दि होती है।

Disease from the body, the body of milk, ghee from semen and meat is increased.


Note: चाणक्य द्वारा रचित "चाणक्य नीति" के कुछ विचार महिलाओं या तथाकथित निम्न जाति में पैदा हुए हिंदुओं के लिए आक्रामक हो सकते हैं। मैं पुरुष और महिला के बीच पूर्ण समानता में विश्वास करता हूं और हम हिंदू जाति व्यवस्था से घृणा करते हैं। हमने चाणक्य नीति (Chanakya Niti) उनके विचारों को ठीक वैसे ही प्रकाशित करने का निर्णय लिया है जैसा आचार्य चाणक्य ने लिखा है। हम महिलाओं से, और किसी और से, जो आहत हो सकते हैं, क्षमा चाहते हैं।

Tags:  Chanakya  Niti In Hindi ,सम्पूर्ण चाणक्य निति, Complete Chanakya Neeti In Hindi,चाणक्य नीति भाग 10  :-चाणक्य नीति दसवाँ अध्याय [हिंदी में ], Chanakya Niti chapter ten In Hindi,चाणक्य नीति अध्याय 10 va ,चाणक्य नीति भाग 10 वां  ,अध्याय 10th,चाणक्य नीति ,चाणक्य नीति चैप्टर 10th ,tenth Chapter,Chanakya Niti Tenth Chapter in hindi,चाणक्य नीति दसवाँ अध्याय [हिंदी में] , Chanakya Chapter-10 ,Chanakya Niti ten Adhyay, Chanakya Niti Adhyay 10 th va

Chanakya ,Chanakya नीति,chankya niti in hindi ,Chanakya Neeti Hindi,Acharya Chanakya neeti ,Kautilya Niti,chanakya ki nitiyan ,Chanakya Quotes, Chanakya Hindi wisdom Quotes ,chanakya's darpan, Chanakya Neeti Hindi in hindi,
 Chanakya Niti Chapter 10 , Chanakya Neeti १०th Chapter, Chapter tenth Chanakya Niti, Chapter tenth Chanakya Niti in Hindi. 

आर्य चाणक्य की नीतियाँ पढ़ें:-

Chanakya Niti In Hindi | सम्पूर्ण चाणक्य निति | Complete Chanakya Neeti In Hindi

चाणक्य नीति: प्रथम अध्याय [हिंदी में ] | Chanakya Niti First Chapter in hindi

चाणक्य नीति: दूसरा अध्याय [हिंदी में ] Chanakya Niti Second Chapter In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 3 | Chanakya Niti chapter 3 In Hindi| चाणक्य नीति भाग 3

चाणक्य नीति - अध्याय 4 | chanakya niti-chapter 4 हिंदी में

चाणक्यनीति पांचवा अध्याय | chanakya niti fifth chapter in hindi

चाणक्य नीति छठवां अध्याय | Chanakya Niti Chapter 6 [हिंदी में ]

चाणक्य नीति सातवाँ [हिंदी में] | Chanakya Niti in hindi

चाणक्य नीति अध्याय आठवां हिंदी में | Chanakya Neeti Eighth Chapter In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय नवां हिंदी में | Chanakya Neeti Ninth Chapter In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय ग्यारवाँ हिंदी में | Chanakya Neeti Eleventh Chapter In Hindi

Thanks for visiting Khabar daily update. For more चाणक्यनिति click here .



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
एक टिप्पणी भेजें (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top