Subscribe to my Youtube Channel Click Here Subscribe Also !

चाणक्यनीति: तेरहवाँ अध्याय [हिंदी में ] | Chanakya Niti thirteenth Chapter in Hindi

चाणक्य नीति: 13 वां अध्याय -Chanakya Niti In Hindi | Chanakya Niti-13th Chapter हिंदी में :-चाणक्य नीति तेरहवां अध्याय [हिंदी में ] Chanakya Niti In H
Santosh Kukreti

चाणक्य नीति: 13 वां अध्याय Chanakya Niti-13th Chapter हिंदी में :-चाणक्य नीति तेरहवां अध्याय [हिंदी में ] Chanakya Niti In Hindi 13 Chapter :Chanakya Niti 13th Chapter हिंदी में,Chanakya Niti Chapter 13 In Hindi,चाणक्य नीति तेरहवाँ अध्याय ,Chanakya Chapter -13 ,Chanakya Niti Thirteen Adhyay- chanakya niti chapter 13 ,चाणक्य नीति चैप्टर तेरहवाँ, चाणक्य नीति चैप्टर तेरह, चाणक्य नीति - अध्याय 13, Chapter 13 of Chanakya Niti in Hindi

चाणक्य नीति: 13 वां अध्याय -Chanakya Niti In Hindi | Chanakya Niti-13th Chapter हिंदी में :-चाणक्य नीति तेरहवां अध्याय [हिंदी में ] Chanakya Niti In Hindi 13 Chapter
Chanakya Niti in Hindi Chapter thirteenth : चाणक्य नीति में आचार्य कौटिल्य ने Chanakya Neeti के तेरहवाँ /13va अध्याय मे निम्नलिखित श्लोकों का वर्णन किया है। अतः यहाँ पर आपको सुविधा के अनुसार आचार्य Chanakya की Chankya Niti Chapter-13th में संस्कृत श्लोकों के हिन्दी अर्थों के साथ-साथ English Meaning के साथ जानकारी दी गई है। जिससे आपको अपनी भाषा के अनुरूप पढ़ने मे सुविधा हो।

चाणक्य नीति: तेरहवाँ अध्याय [हिंदी में ] | Chanakya Niti thirteenth Chapter in hindi


मुहूर्त्तं माप जीवेच्च नरः शुक्लेण कर्मणा ।

न कल्पमापि कष्टेन लोकद्वयविरोधिना ।।१।

यदि आदमी एक पल के लिए भी जिए तो भी उस पल को वह शुभ कर्म करने में खर्च करे। एक कल्प तक जी कर कोई लाभ नहीं.

 A man may live but for a moment, but that moment should be spent in doing auspicious deeds. It is useless living even for a kalpa (4,320,000 *1000 years) and bringing only distress upon the two worlds (this world and the next)


गते शोको न कर्तव्यो भविष्यं नैव चिन्तयेत् ।

वर्तमानेन कालेन प्रवर्त्तन्ते विचक्षणाः ।।२।।

हम उसके लिए ना पछताए जो बीत गया, हम भविष्य की चिंता भी ना करे, विवेक बुद्धि रखने वाले लोग केवल वर्तमान में जीते है।

We should not fret for what is past, nor should we be anxious about the future; men of discernment deal only with the present moment.


स्वभावेन हि तुष्यन्ति देवाः सत्पुरुषाः पिता ।

ज्ञातयः स्नान-पानाभ्यां वाक्यदानेन पंडिताः ।।३।।

यह देवताओ का, संत जनों का और पालको का स्वभाव है की वे जल्दी प्रसन्न हो जाते है। निकट के और दूर के रिश्तेदार तब प्रसन्न होते है जब उनका आदर सम्मान किया जाए। उनके नहाने का, खाने पिने का प्रबंध किया जाए | पंडित जन जब उन्हें अध्यात्मिक सन्देश का मौका दिया जाता है तो प्रसन्न होते है।

 It certainly is nature of the demigods, men of good character, and parents to be easily pleased. Near and distant relatives are pleased when they are hospitably received with bathing, food, and drink; and pandits are pleased with an opportunity for giving spiritual discourse.


आयुः कर्म च वित्तञ्च विद्या निधनमेव च ।

पञ्चैतानि च सृज्यन्ते गर्भस्थस्यैव देहिनः ।।४।।

जब बच्चा माँ के गर्भ में होता है तो यह पाच बाते तय हो जाती है...

१. कितनी लम्बी उम्र होगी.

२. वह क्या करेगा

३. और

४. कितना धन और ज्ञान अर्जित करेगा.

५. मौत कब होगी

 Even as the unborn babe is in the womb of his mother, these five are fixed as his life destiny: his life span, his activities, his acquisition of wealth and knowledge, and his time of death.


अहो वत ! विचित्राणि चरितानि महात्मनाम् ।

लक्ष्मी तृणाय मन्यन्ते तद्भारेण नमन्ति च ।।५।।

देखिये क्या आश्चर्य है? बड़े लोग अनोखी बाते करते है। वे पैसे को तो तिनके की तरह मामूली समझते है लेकिन जब वे उसे प्राप्त करते है तो उसके भार से और विनम्र होकर झुक जाते है।

O see what a wonder it is! The doings of the great are strange: they treat wealth as light as a straw, yet, when they obtain it, they bend under its weight.


यस्य स्नेहो भयं तस्य स्नेहो दुःखस्य भाजनम् ।

स्नेहमूलानि दुःखानि तानि त्यक्त्वा वसेत्सुखम् ।।६।।

जो व्यक्ति अपने घर के लोगो से बहुत आसक्ति रखता है वह भय और दुःख को पाता है, आसक्ति ही दुःख का मूल है। जिसे सुखी होना है उसे आसक्ति छोडनी पड़ेगी।

He who is overly attached to his family members experiences fear and sorrow, for the root of all grief is attachment. Thus one should discard attachment to be happy.


अनागतविधाता च प्रत्युत्पन्नमतिस्तथा ।

द् वावेतौ सुखमेधेते यद्भविष्यो विनश्यति ।।७।।

जो भविष्य के लिए तैयार है और जो किसी भी परिस्थिति को चतुराई से निपटता है, ये दोनों व्यक्ति सुखी है. लेकिन जो आदमी सिर्फ नसीब के सहारे चलता है वह बर्बाद होता है।

He who is prepared for the future and he who deals cleverly with any situation that may arise are both happy; but the fatalistic man who wholly depends on luck is ruined.


राज्ञधर्मणि धर्मिष्ठाः पापे पापाः समे समाः ।

राजानमनुवर्तन्ते यथा राजा तथा प्रजाः ।।८।।

यदि राजा पुण्यात्मा है तो प्रजा भी वैसी ही होती है, यदि राजा पापी है तो प्रजा भी पापी, यदि वह सामान्य है तो प्रजा सामान्य, प्रजा के सामने राजा का उद्हारण होता है और वो उसका अनुसरण करती है।

If the king is virtuous, then the subjects are also virtuous. If the king is sinful, then the subjects also become sinful. If he is mediocre, then the subjects are mediocre. The subjects follow the example of the king. In short, as is the king so are the subjects.


जीवन्तं मृतवन्मन्ये देहिनं धर्मवर्जितम् ।

मृतो धर्मेण संतुक्तो दीर्घजीवी न संशयः ।।९।।

मेरी नजरो में वह आदमी मृत है जो जीते जी धर्म का पालन नहीं करता लेकिन जो धर्म पालन में अपने प्राण दे देता है वह मरने के बाद भी बेशक लम्बा जीता है।

I consider him who does not act religiously as dead though living, but he who dies acting religiously unquestionably lives long though he is dead.


धर्मार्थकाममोक्षाणां यस्यैकोऽपि न विद्यते ।

अजागलस्तनस्येव तस्य जन्म निरर्थकम् ।।१०।।

जिस व्यक्ति ने न ही कोई ज्ञान संपादन किया, ना ही पैसा कमाया, मुक्ति के लिए जो आवश्यक है उसकी पूर्ति भी नहीं किया वह एक निहायत बेकार जिंदगी जीता है।

He who has acquired neither virtue, wealth, satisfaction of desires nor salvation (dharma, artha, kama, moksa), lives an utterly useless life, like the "nipples" hanging from the neck of a goat.


दह्यमानाः सुतीब्रेण नीचाः परयशोऽग्निना ।

अशक्तास्तत्पदं गन्तुं ततो निन्दां प्रकुर्वते ।।११।।

जो नीच लोग होते है वो दुसरे की कीर्ति को देखकर जलते है, वो दुसरे के बारे में अपशब्द कहते है क्यों की उनकी कुछ करने की औकात नहीं है.

The hearts of base men burn before the fire of others' fame, and they slander them for being unable to rise to such a high position.


बन्धाय विषयासङ्गं मुक्त्यै निर्विषयं मनः ।

मन एव मनुष्याणां कारणं बन्धमोक्षयोः ।।१२।।

यदि विषय बहुत प्रिय है तो वो बंधन में डालते है। विषय सुख की अनासक्ति से मुक्ति की और गति होती है इसीलिए मुक्ति या बंधन का मूल मन ही है।

Excessive attachment to sense pleasures leads to bondage, and detachment from sense pleasures leads to liberation; therefore it is the mind alone that is responsible for bondage or liberation.


देहाभिमानगलिते ज्ञानेन परमात्मनः ।

यत्र यत्र मनो याति तत्र तत्र समाधयः ।।१३।।

जो आत्म स्वरुप का बोध होने से खुद को शरीर नहीं मानता, वह हरदम समाधी में ही रहता है भले ही उसका शरीर कही भी चला जाए।

He who sheds bodily identification by means of knowledge of the indwelling Supreme Self (Paramatma), will always be absorbed in meditative trance (samadhi) wherever his mind leads him.


ईप्सितं मनसः सर्वं कस्य सम्पद्यते सुखम् ।

दैवायत्तं यतः सर्वं तस्मात्‍ संतोषमाश्रयेत् ।।१४।।

किस को सब सुख प्राप्त हुए जिसकी कामना की, सब कुछ भगवान के हाथ में है इसलिए हमें संतोष में जीना होगा।

Who realises all the happiness he desires? Everything is in the hands of God. Therefore one should learn contentment.


यथा धेनुसहस्त्रेषु वत्सो गच्छति मातरम् ।

तथा यच्च कृतं कर्म कर्तारमनुगच्छाति ।।१५।।

जिस प्रकार एक गाय का बछड़ा, हजारो गायो में अपनी माँ के पीछे चलता है उसी तरह कर्म आदमी के पीछे चलते है।

As a calf follows its mother among a thousand cows, so the (good or bad) deeds of a man follow him.


अनवस्थितकार्यस्य न जने न वने सुखम् ।

जनो दहति संसर्गाद्वनं संगविवर्जनात् ।।१६।।

जिस के काम करने में कोई व्यवस्था नहीं, उसे कोई सुख नहीं मिल सकता न तो लोगो के बीच ना वन में, लोगो के मिलने से उसका ह्रदय जलता है और वन में तो कोई सुविधा होती ही नहीं।

He whose actions are disorganised has no happiness either in the midst of men or in a jungle -- in the midst of men his heart burns by social contacts, and his helplessness burns him in the forest.


यत् खनित्वा खनित्रेण भुतले वारि विन्दति ।

तथा गुरुगतां विद्या शुश्रुषुरधिगच्छति ।।१७।।

यदि आदमी उपकरण का सहारा ले तो गर्भजल से पानी निकाल सकता है। उसी तरह यदि विद्यार्थी अपने गुरु की सेवा करे तो गुरु के पास जो ज्ञान निधि है उसे प्राप्त करता है।

As the man who digs obtains underground water by use of a shovel, so the student attains the knowledge possessed by his preceptor through his service.


कर्मायत्तं फलं पुंसां बुध्दिः कर्मानुसारिणी ।

तथाऽपि सुधियश्चार्या सुविचार्यैव कुर्वते ।।१८।।

हमें अपने कर्म का फल मिलता है, हमारी बुद्धि पर इसके पहले हमने जो कर्म किये है उसका निशान है इसीलिए जो बुद्धिमान लोग है वो सोच विचार कर कर्म करते है ।

Men reap the fruits of their deeds, and intellects bear the mark of deeds performed in previous lives; even so the wise act after due circumspection.


एकाक्षरप्रदातारं यो गुरुं नाऽभिवन्दते ।

श्वानयोनिशतं भुक्त्वा चांडालेष्वभिजायते ।।१९।

जिस व्यक्ति ने आपको अध्यात्मिक महत्ता का एक अक्षर भी पढाया उसकी पूजा करनी चाहिए । जो ऐसे गुरु का सम्मान नहीं करता वह सौ बार कुत्ते का जन्म लेता है और आखिर चंडाल बनता है।

 Even the man who has taught the spiritual significance of just one letter ought to be worshiped. He who does not give reverence to such a guru is born as a dog a hundred times, and at last takes birth as a chandala (dog-eater).


युगान्ते प्रचलेन्मेरुः कल्पान्ते सप्त सागराः ।

साधवः प्रतिपन्नार्थान्न चलन्ति कदाचन ।।२०।।

जब युग का अंत हो जायेगा तो मेरु पर्वत डिग जाएगा। जब कल्प का अंत होगा तो सातों समुद्र का पानी विचलित हो जायगा । लेकिन साधू कभी भी अपने अध्यात्मिक मार्ग से नहीं डिगेगा ।

At the end of the yuga, Mount Meru may be shaken; at the end of the kalpa, the waters of the seven oceans may be disturbed; but a sadhu will never swerve from the spiritual path.


पृथिव्यां त्रीणि रत्नानि अन्नमापः सुभाषितम् ।

मूढैः पाषाणखण्डॆषु रत्नसंख्या विधीयते ।।२१।।

इस धरती पर अन्न, जल और मीठे वचन ये असली रत्न है । मूर्खो को लगता है पत्थर के टुकड़े रत्न है ।

There are three gems upon this earth; food, water, and pleasing words -- fools (mudhas) consider pieces of rocks as gems.


चाणक्य नीति " गुरु चाणक्य कि नीतियों का ही अलौकिक संग्रह है ,जो की आज भी इतने समय बाद उतना ही सार्वभौमिक और सत्य है जितना तब था।चाणक्य नीति हमें अच्छे और बुरे मित्रों में भेद करता है ,साथ ही अपने दुश्मनों की भी जानकारी देता है ,कौन आप का हित और अहित चाहता है इसका भी बौद्ध कराता है। दुष्टा स्त्री (चरित्रहीन )स्त्रियों एवं पति-परायण आदि विषयों का सम्पूर्ण ज्ञान संग्रह है

Note: चाणक्य द्वारा रचित "चाणक्य नीति" के कुछ विचार महिलाओं या तथाकथित निम्न जाति में पैदा हुए हिंदुओं के लिए आक्रामक हो सकते हैं। मैं पुरुष और महिला के बीच पूर्ण समानता में विश्वास करता हूं और हम हिंदू जाति व्यवस्था से घृणा करते हैं। हमने चाणक्य नीति (Chanakya Niti) उनके विचारों को ठीक वैसे ही प्रकाशित करने का निर्णय लिया है जैसा आचार्य चाणक्य ने लिखा है। हम महिलाओं  और किसी और से, जो आहत हो सकते हैं, क्षमा चाहते हैं। 

आर्य चाणक्य की नीतियाँ पढ़ें:-

चाणक्य नीति: प्रथम अध्याय [हिंदी में ]

चाणक्य नीति: दूसरा अध्याय [हिंदी में ]

चाणक्य नीति अध्याय 3 

चाणक्य नीति - अध्याय 4 

चाणक्यनीति पांचवा अध्याय 

चाणक्य नीति छठवां अध्याय 

चाणक्य नीति सातवाँ 

चाणक्य नीति अध्याय आठवां 

चाणक्य नीति अध्याय नवां 

चाणक्य नीति अध्याय दसवां 

चाणक्य नीति अध्याय ग्यारवाँ 

चाणक्य नीति: बारहवां अध्याय

चाणक्य नीति: चौदह अध्याय 

चाणक्य नीति: 15 अध्याय 

चाणक्य नीति: सोलहवाँ अध्याय

चाणक्य नीति: सत्रहवां अध्याय

Thanks for visiting Khabar's daily update. For more चाणक्यनिति click here.




Getting Info...

एक टिप्पणी भेजें

Cookie Consent
We serve cookies on this site to analyze traffic, remember your preferences, and optimize your experience.
Oops!
It seems there is something wrong with your internet connection. Please connect to the internet and start browsing again.
AdBlock Detected!
We have detected that you are using adblocking plugin in your browser.
The revenue we earn by the advertisements is used to manage this website, we request you to whitelist our website in your adblocking plugin.
Site is Blocked
Sorry! This site is not available in your country.