चाणक्य नीति अध्याय आठवां हिंदी में | Chanakya Neeti Eighth Chapter In Hindi

0

 Chanakya Niti in Hindi Chapter Eight: चाणक्य नीति में आचार्य कौटिल्य ने Chanakya Neeti के आठवें अध्याय मे निम्नलिखित श्लोकों का वर्णन किया है। अतः यहाँ पर आपको सुविधा के अनुसार आचार्य Chanakya की Chankya Niti Chapter Eight में संस्कृत श्लोकों के हिन्दी अर्थों के साथ-साथ  English meaning के साथ जानकारी दी गई  है। जिससे आपको अपनी भाषा के अनुरूप पढ़ने मे सुविधा हो। 

Chanakya Neeti में आचार्य विष्णुगुप्त (कौटिल्य) "चाणक्य"ने अपने विचारों को प्रस्तुत किया है जिसे हम चाणक्य नीति के नाम से जानते है।  तो जानते है -चाणक्य  नीति अध्याय आठवां हिंदी में | Chanakya Neeti Eighth Chapter In Hindi. 

चाणक्य नीति भाग 8 :-चाणक्य नीति आठवां अध्याय [हिंदी में ], Chanakya Niti chapter 8  In Hindi,चाणक्य नीति अध्याय 8 ,चाणक्य नीति भाग 8 ,अध्याय 8 चाणक्य नीति ,चाणक्य नीति चैप्टर 8 ,eight Chapter,Chanakya Niti eighth Chapter in hindi,चाणक्य नीति आठवें अध्याय [हिंदी में] ,Chanakya Chapter-8 ,Chanakya Niti eighth Adhyay, Chanakya Niti Adhyay 8

चाणक्य नीति हिंदी में:आठवां अध्याय |Chanakya Neeti In Hindi: Eight Chapter

अधमा धनमिइच्छन्ति धनं मानं च मध्यमाः । 

उत्तमा मानमिच्छन्ति मानो हि महतां धनम् ।।१ ।।

नीच वर्ग के लोग दौलत चाहते है, मध्यम वर्ग के दौलत और इज्जत, लेकिन उच्च वर्ग के लोग सम्मान चाहते है क्यों की सम्मान ही उच्च लोगो की असली दौलत है 

Low class men desire wealth; middle class men both wealth and respect; but the noble, honour only; hence honour is the noble man's true wealth.


इक्षुरापः पयो मूलं ताम्बूलं फलमौषधम् ।
भक्षयित्वाऽपिकर्तव्याःस्नानदानादिकाःक्रियाः ।।२।।

ऊख, जल, दूध, पान, फल और औषधि इन वस्तुओं के भोजन करने पर भी स्नान दान आदि क्रिया कर सकते हैं ।

Taking after food, water, milk, betel leaf, fruit and medicine on can also make bathing, etc.


दीपो भक्षयते ध्वान्तं कज्जलं च प्रसूयते ।

यदन्नं भक्ष्यते नित्यं जायते तादृशी प्रजा ।।३।।

दीपक अँधेरे का भक्षण करता है इसीलिए काला धुआं बनाता है । इसी प्रकार हम जिस प्रकार का अन्न खाते है , माने सात्विक , राजसिक , तामसिक उसी प्रकार के विचार उत्पन्न करते है । 

The lamp eats up the darkness and therefore it produces blackened lamp; in the same way according to the nature of our diet (sattva, rajas, or tamas) we produce offspring in similar quality.


 वित्तंदेहि गुणान्वितेष मतिमन्नाऽन्यत्रदेहि क्वचित् । 

प्राप्तं वारिनिधेर्जलं घनमुचां माधुर्ययुक्तं सदा 

जीवाः स्थावरजङ्गमाश्च सकला संजीव्य भूमण्डलं । 

भूयः पश्यतदेवकोटिगुणितंगच्छस्वमम्भोनिधिम् ।।४ ।।

हे विद्वान् पुरुष ! अपनी संपत्ति केवल पात्र को ही दे और दूसरो को कभी ना देजो जल बादल को समुद्र देता है वह बड़ा मीठा होता है बादल वर्षा करके वह जल पृथ्वी के सभी चल अचल जीवो को देता है और फिर उसे समुद्र को लौटा देता है 

Wise man gives his wealth only to the worthy. The water of the sea received by the clouds is always sweet. The rainwater enlivens all living beings of the earth both movable and immovable and then returns to the ocean where its value is multiplied a million fold. 


चाण्डालानां सहस्त्रैश्च सूरिभिस्तत्त्वदर्शिभिः ।

एको हि यवनः प्रोक्तो न नीचो यवनात्परः ।।५।।

विद्वान् लोग जो तत्त्व को जानने वाले है उन्होंने कहा है की मास खाने वाले चांडालो से हजार गुना नीच है इसलिए ऐसे आदमी से नीच कोई नहीं

The wise who discern the essence of things have declared that the yavana (meat eater) is equal in baseness to a thousand candalas (the lowest class), and hence a yavana is the basest of men; indeed there is no one more base.


तैलाभ्यड्गे चिताधूमे मैथुने क्षौरकर्मणि ।

तावद् भवति चाण्डालो यावत्स्नानं न चाचरेत् ।।६।

शरीर पर मालिश करने के बाद, स्मशान में चिता का धुआ शरीर पर आने के बाद, सम्भोग करने के बाद, दाढ़ी बनाने के बाद जब तक आदमी नहा ना ले वह चांडाल रहता है

After having rubbed oil on the body, after encountering the smoke from a funeral pyre, after sexual intercourse, and after being shaved, one remains a chandala until he bathes. 


अजीर्णे भेषजं वारि जार्णे वारि बलप्रदम् ।

भोजने चाऽमृतं वारि भोजनान्ते विषप्रदम् ।।७।।

जल अपच की दवा है जल चैतन्य निर्माण करता है, यदि उसे भोजन पच जाने के बाद पीते हैपानी को भोजन के बाद तुरंत पीना विष पिने के समान है

Water is the medicine for indigestion; it is invigorating when the food that is eaten is well digested; it is like nectar when drunk in the middle of a dinner; and it is like poison when taken at the end of a meal. 


हतं ज्ञानं क्रियाहीनं हतश्चाऽज्ञानतो नरः ।

हतं निर्नायकं सैन्यं स्त्रियो नष्टा ह्यभर्तृकाः ।।८।।

यदि ज्ञान को उपयोग में ना लाया जाए तो वह खो जाता है आदमी यदि अज्ञानी है तो खो जाता है  सेनापति के बिना सेना खो जाती है पति के बिना पत्नी खो जाती है 

 Knowledge is lost without putting it into practice; a man is lost due to ignorance; an army is lost without a commander; and a woman is lost without a husband. 


वृध्द्काले मृता भार्या बन्धुहस्ते गतं धनम् ।

भाजनं च पराधीनं स्त्रिः पुँसां विडम्बनाः ।।९।।

वह आदमी अभागा है जो अपने बुढ़ापे में पत्नी की मृत्यु देखता हैवह भी अभागा है जो अपनी सम्पदा संबंधियों को सौप देता हैवह भी अभागा है जो खाने के लिए दुसरो पर निर्भर है

A man who encounters the following three is unfortunate; the death of his wife in his old age, the entrusting of money into the hands of relatives, and depending upon others for food.


अग्निहोत्रं विना वेदाः न च दानं विना क्रियाः ।

न भावेनविना सिध्दिस्तस्माद्भावो हि कारणम् ।।१०।।

यह बाते बेकार है: वेद मंत्रो का उच्चारण करना लेकिन निहित यज्ञ कर्मो को ना करना एवं यज्ञ करना लेकिन बाद में लोगो को दान दे कर तृप्त ना करना,|पूर्णता तो भक्ति से ही आती है भक्ति ही सभी सफलताओ का मूल है 

Chanting of the Vedas without making ritualistic sacrifices to the Supreme Lord through the medium of Fire, and sacrifices not followed by bountiful gifts are futile. Perfection can be achieved only through devotion.


न देवो विद्यते काष्ठे न पाषाणे न मृण्मये ।

भावे हि विद्यते देवस्तस्माद्भावो हि कारणम् ।।११।।

देवता न काठ में, पत्थर में, और न मिट्टी ही में रहते हैं वे तो रहते हैं भाव में। इससे यह निष्कर्ष निकला कि भाव ही सबका कारण है।

The gods live neither in the wood, in the stone, nor in the soil. This led to the conclusion that emotion is the cause of all.


काष्ठ-पाषाण-धातूनां कृत्वा भावेन सेवनम् ।

श्रध्दया च तया सिध्दिस्तस्य विष्णोः प्रसादतः ।।१२।।

काठ, पाषाण तथा धातु की भी श्रध्दापूर्वक सेवा करने से और भगवत्कृपा से सिध्दि प्राप्त हो जाती है।

By doing devout service to wood, stone and metal too, Siddha is attained by Bhagwatkripa.


शान्तितुल्यं तपो नास्ति न सन्तोषात्परं सुखम् ।

न तृष्णया परो व्याधिर्न च धर्मो दया परः ।।१३।।

एक संयमित मन के समान कोई तप नहीं, संतोष के समान कोई सुख नहीं, लोभ के समान कोई रोग नहीं और दया के समान कोई गुण नहीं 

There is no austerity equal to a balanced mind, and there is no happiness equal to contentment; there is no disease like covetousness, and no virtue like mercy. 


क्रोधो वैवस्वतो राहा तृष्णा वैतरणी नदी ।

विद्या कामदुधा धेनुः सन्तोषो नन्दनंवनम् ।।१४।।

क्रोध साक्षात यम है, तृष्णा नरक की और ले जाने वाली वैतरणी है, ज्ञान कामधेनु है और संतोष ही तो नंदनवन है 

Anger is a personification of Yama (the demigod of death); thirst is like the hellish river Vaitarani; knowledge is like a kamadhenu (the cow of plenty); and contentment is like Nandanavana (the garden of Indra).


गुणो भूषयते रूपं शीलं भूषयते कुलम् ।

सिध्दिर्भूषयते वद्यां भोगी भूषयते धनम् ।।१५।।

नीति की उत्तमता ही व्यक्ति के सौंदर्य का गहना है उत्तम आचरण से व्यक्ति उत्तरोत्तर ऊँचे लोक में जाता है सफलता ही विद्या का आभूषण है । उचित विनियोग ही संपत्ति का गहना है 

Moral excellence is an ornament for personal beauty; righteous conduct, for high birth; success for learning; and proper spending for wealth. 


निर्गुणस्य हतं रूपं दुःशीलस्य हतं कुलम् ।

असिध्दस्य हता विद्या अभोगेन हतं धनम् ।।१६।।

निति भ्रष्ट होने से सुन्दरता का नाश होता है, हीन आचरण से अच्छे कुल का नाश होता है, पूर्णता न आने से विद्या का नाश होता है और उचित विनियोग के बिना धन का नाश होता है 

Beauty is spoiled by an immoral nature; noble birth by bad conduct; learning, without being perfected; and wealth by not being properly utilised. 


शुध्दं भूमिगतं तोयं शुध्दा नारी पतिव्रता ।

शुचिः क्षेमकरोराजा संतोषी ब्राह्मणः शुचिः ।।१७।।

जो जल धरती में समां गया वो शुद्ध है, परिवार को समर्पित पत्नी शुद्ध है, लोगो का कल्याण करने वाला राजा शुद्ध है और वह ब्राह्मण शुद्ध है जो संतुष्ट है 

Water seeping into the earth is pure; and a devoted wife is pure; the king who is the benefactor of his people is pure; and pure is the brahmana who is contented. 


असंतुष्टा द्विजा नष्टाः संतुष्टाश्च महीभृतः ।

सलज्जागणिकानष्टाः निर्लज्जाश्च कुलांगनाः ।।१८।।

असंतुष्ट ब्राह्मण, संतुष्ट राजा, लज्जा रखने वाली वेश्या, कठोर आचरण करने वाली गृहिणी ये सभी लोग विनाश को प्राप्त होते है

Discontented brahmanas, contented kings, shy prostitutes, and immodest housewives are ruined.


किं कुलेन विशालेन विद्याहीनेन देहिनाम् ।

दुष्कुलं चापि विदुषी देवैरपि हि पूज्यते ।।१९।।

क्या करना उचे कुल का यदि बुद्धिमत्ता ना हो एक नीच कुल में उत्पन्न होने वाले विद्वान् व्यक्ति का सम्मान देवता भी करते है 

Of what avail is a high birth if a person is destitute of scholarship? A man who is of low extraction is honoured even by the demigods if he is learned.


विद्वान् प्रशस्यते लोके विद्वान्सर्वत्र गौरवम् ।

विद्यया लभते सर्व विद्या सर्वत्र पूज्यते ।।२०।।

विद्वान् व्यक्ति लोगो से सम्मान पाता है विद्वान् उसकी विद्वत्ता के लिए हर जगह सम्मान पाता है  यह बिलकुल सच है की विद्या हर जगह सम्मानित है 

A learned man is honoured by the people. A learned man commands respect everywhere for his learning. Indeed, learning is honoured everywhere. 


रूपयौवनसंपन्ना विशालकुलसम्भवाः ।

विद्याहीना नशोभन्ते निर्गन्धा इवकिंशुकाः ।।२१।।

जो लोग दिखने में सुन्दर है, जवान है, ऊँचे कुल में पैदा हुए है, वो बेकार है यदि उनके पास विद्या नहीं हैवो तो पलाश के फूल के समान है जो दिखते तो अच्छे है पर महकते नहीं 

Those who are endowed with beauty and youth and who are born of noble families are worthless if they have no learning. They are just like the kimshuka blossoms ( flowers of the palasa tree) which, though beautiful, have no fragrance.


मांसभक्षैः सुरापानैः मूर्खैश्चाऽक्षरवर्जितैः ।

पशुभि पुरुषाकारर्भाराक्रान्ताऽस्ति मेदिनी ।।२२।।

यह धरती उन लोगो के भार से दबी जा रही है, जो मास खाते है, दारू पीते है, बेवकूफ है, वे सब तो आदमी होते हुए पशु ही है 

The earth is encumbered with the weight of the flesh-eaters, winebibblers, dolts (dull and stupid) and blockheads, who are beasts in the form of men.


अन्नहीना दहेद्राष्ट्रं मंत्रहीनश्च रिषीत्विजः ।

यजमानं दानहीनो नास्ति यज्ञसमो रिपुः ।।२३।।

उस यज्ञ के समान कोई शत्रु नहीं जिसके उपरांत लोगो को बड़े पैमाने पर भोजन ना कराया जाए ऐसा यज्ञ राज्यों को खत्म कर देता है यदि पुरोहित यज्ञ में ठीक से उच्चारण ना करे तो यज्ञ उसे खत्म कर देता है और यदि यजमान लोगो को दान एवं भेटवस्तू ना दे तो वह भी यज्ञ द्वारा खत्म हो जाता है 

There is no enemy like a yajna (sacrifice) which consumes the kingdom when not attended by feeding on a large scale; consumes the priest when the chanting is not done properly and consumes the yajaman (the responsible person) when the gifts are not made. 


Note: चाणक्य द्वारा रचित "चाणक्य नीति" के कुछ विचार महिलाओं या तथाकथित निम्न जाति में पैदा हुए हिंदुओं के लिए आक्रामक हो सकते हैं। मैं पुरुष और महिला के बीच पूर्ण समानता में विश्वास करता हूं और हम हिंदू जाति व्यवस्था से घृणा करते हैं। हमने चाणक्य नीति (Chanakya Niti) उनके विचारों को ठीक वैसे ही प्रकाशित करने का निर्णय लिया है जैसा आचार्य चाणक्य ने लिखा है। हम महिलाओं से, और किसी और से, जो आहत हो सकते हैं, क्षमा चाहते हैं।

Tags: चाणक्य नीति भाग 8 :-चाणक्य नीति आठवां अध्याय [हिंदी में ], Chanakya Niti chapter 8  In Hindi,चाणक्य नीति अध्याय 8 ,चाणक्य नीति भाग 8 ,अध्याय 8 चाणक्य नीति ,चाणक्य नीति चैप्टर 8 ,eight Chapter,Chanakya Niti eighth Chapter in hindi,चाणक्य नीति आठवें अध्याय [हिंदी में] ,Chanakya Chapter-8 ,Chanakya Niti eighth Adhyay, Chanakya Niti Adhyay 8 
Chanakya ,Chanakya नीति,chankya niti in hindi ,Chanakya Neeti Hindi,Acharya Chanakya neeti ,Kautilya Niti,chanakya ki nitiyan ,Chanakya Quotes, Chanakya Hindi wisdom Quotes ,chanakya's darpan, Chanakya Neeti Hindi in hindi,
 Chanakya Niti Chapter 8, Chanakya Neeti 8th Chapter, Chapter eighth Chanakya Niti, Chapter eighth Chanakya Niti in Hindi. 

आर्य चाणक्य की नीतियाँ पढ़ें:-

Chanakya Niti In Hindi | सम्पूर्ण चाणक्य निति | Complete Chanakya Neeti In Hindi

चाणक्य नीति: प्रथम अध्याय [हिंदी में ] | Chanakya Niti First Chapter in hindi

चाणक्य नीति: दूसरा अध्याय [हिंदी में ] Chanakya Niti Second Chapter In Hindi

चाणक्य नीति अध्याय 3 | Chanakya Niti chapter 3 In Hindi| चाणक्य नीति भाग 3

चाणक्य नीति - अध्याय 4 | chanakya niti-chapter 4 हिंदी में

चाणक्यनीति पांचवा अध्याय | chanakya niti fifth chapter in hindi

चाणक्य नीति छठवां अध्याय | Chanakya Niti Chapter 6 [हिंदी में ]

चाणक्य नीति सातवाँ [हिंदी में] | Chanakya Niti in hindi

Thanks for visiting Khabar daily update. For more चाणक्यनिति click here .

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
एक टिप्पणी भेजें (0)

#buttons=(Accepted !)#days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top