Search Suggest

आउटपुट डिवाइस क्या है इसके प्रकार कार्य उदाहरण | What is Output Device in Hindi

आउटपुट Device उस को कहते है,जिसकी सहायता से यूज़र कम्यूटर में enter किये गए डाटा को सूचना के रूप में देखता या प्राप्त करता है। What is Output Device?

इस पोस्ट में हम जानेगे की आउटपुट डिवाइस क्या है ? What is Output Devices and their Type in Hindi ,आउटपुट डिवाइसेस के प्रकार Types of Output Devices in हिंदी, आउटपुट डिवाइस कौन- कौन सी होते है और कितने प्रकार के होते है ,आउटपुट डिवाइस क उदाहरण इत्यादि। तो आइये जानते हैं -आउटपुट डिवाइस क्या है इसके प्रकार कार्य उदाहरण | what is Output Device in Hindi  

output device in hindi,type of output device in 2022, output device kya hai ,

आउटपुट डिवाइस क्या है?(What is Output Device in Hindi )

Output Introduction /Defination: Computer की आउटपुट Device उस को कहते है,जिसकी सहायता से यूज़र कम्यूटर में enter किये गए डाटा को सूचना के रूप में देखता या प्राप्त करता है। अथवा दूसरे शब्दों में कहे तो आउटपुट डिवाइस का क्या अर्थ है? एक 'Output Device' कंप्यूटर हार्डवेयर उपकरण का कोई पार्ट है, जिसका उपयोग कंप्यूटर से किसी अन्य डिवाइस या USER को डेटा भेजने के लिए किया जाता है।

कंप्यूटर भाषा क्या है?

कंप्युटर हार्डवेयर एवं सॉफ्टवेयर क्या है, hardware and software में अंतर

अथवा 'आउटपुट डिवाइस 'एक हार्डवेयर घटक है जिसका उपयोग कंप्यूटर सिस्टम द्वारा संसाधित डेटा के परिणामों को प्रदर्शित करने के लिए किया जाता है।अथवा एक आउटपुट डिवाइस Computer Hardware उपकरण का वह हिस्सा है,जो अन्य गैर-कम्प्यूटरीकृत उपकरणों के उपयोग के लिए सूचना को किसी मनुष्य के समझने /देखने योग्य भाषा में परिवर्तित कर प्रस्तुत करते है 

यह प्रारूप ऑडियो, विजुअल, टेक्स्ट, ग्राफिक्स, स्पर्श, या हार्ड कॉपी जैसे मुद्रित दस्तावेज़ हो सकता है। उदाहरणों में मॉनिटर, प्रिंटर, स्पीकर, हेडफ़ोन, प्रोजेक्टर, जीपीएस डिवाइस, ऑप्टिकल मार्क रीडर और ब्रेल रीडर शामिल हैं। प्रक्रिया ( Processing ) के पश्चात् कम्प्यूटर , परिणामों ( Results ) को आउटपुट डिवाइसेज की सहायता से प्रस्तुत करता है । आउटपुट ( Output ) प्रायः डिस्प्ले डिवाइसेज ( स्क्रीन ) या प्रिंटर के द्वारा प्रस्तुत किए जाते हैं । 

कम्प्यूटर की स्क्रीन डिस्प्ले डिवाइस ( Display Device ) होती है जिसे विजुअल डिस्प्ले यूनिट ( Visual Display Unit - VDU ) भी कहते हैं। यहाँ यह जानना भी जरूरी है की इनपुट डिवाइस और आउटपुट डिवाइस के बीच मुख्य अंतर क्या है? इनपुट डिवाइस कंप्यूटर में डेटा डालने में मदद करता है, लेकिन आउटपुट डिवाइस कंप्यूटर की स्टोरेज मेमोरी से डेटा को पुनः प्राप्त करता है। आउटपुट डिवाइस दो प्रकार के होते हैं जो या तो वायर्ड या वायरलेस होते हैं।

Type of Output Devices On the Basis of Classification in Hindi 

कंप्यूटर आउटपुट डिवाइस को उनके क्षमता और कंप्यूटर कार्य के वर्गीकरण के आधार पर जैसे- (सुनाई देने योग्य, दिखाई देने योग्य ,व्याख्यात्मक या शारीरिक रूप से सुलभ परिणाम ) इन पर निर्भर होने के कारण, आउटपुट डिवाइस को चार श्रेणियों में वर्गीकृत किया जाता है।जैसे -

  1. विज़ुअल आउटपुट डिवाइस
  2. डेटा आउटपुट डिवाइस
  3. प्रिंट आउटपुट डिवाइस
  4. साउंड आउटपुट डिवाइस

विज़ुअल आउटपुट डिवाइस Visual Output Device

जब 'Output Devices' स्क्रीन पर परिणाम या आउटपुट को Image or Video Format के रूप में देखने के लिए उपयोग करते हैं, तो इन आउटपुट डिवाइसों को 'Visual Output Device ' के रूप में जाना जाता है। उदाहरण के लिए वीडियो कार्ड, प्रोजेक्टर, मॉनिटर आदि हैं।

डेटा आउटपुट डिवाइस Data Output Device

जैसा कि इसके नाम से पता चलता है, जब उपयोगकर्ता पढ़ने और समझने में सक्षम होता है। लेकिन इसे अन्यथा एक्सेस नहीं किया जा सकता है। इस प्रकार के परिणाम आमतौर पर text format में तैयार किए जाते हैं। उदाहरण के लिए - जीपीएस और बहुत कुछ

प्रिंट आउटपुट डिवाइस Print Output Device

ये डिवाइस आपको कंप्यूटर सिस्टम द्वारा संसाधित इलेक्ट्रॉनिक डेटा की एक Printed हार्ड कॉपी बनाने की सुविधा प्रदान करते है, जिन्हें 'प्रिंट आउटपुट डिवाइस 'के रूप में जाना जाता है। उदाहरण के लिए प्लॉटर, प्रिंटर, ब्रेल रीडर आदि।

साउंड आउटपुट डिवाइस Sound Output Device

वे डिवाइसेस जो हमें कंप्यूटर या अन्य इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस से ऑडियो फॉर्मेट में जानकारी देते है या प्राप्त करते है,साउंड आउटपुट डिवाइस के रूप में जाना जाता है। उदाहरण के लिए साउंड कार्ड, हेडफोन, स्पीकर आदि हैं।

आउटपुट डिवाइस के प्रकार (List of Output Devices in Hindi)

    यहां हम आपके कंप्यूटर के आउटपुट डिवाइस के कई उदाहरणों के बारे में विस्तार से जानकारी देंगे, ये ज्यादातर आपके द्वारा उपयोग किए जाते हैं। कंप्यूटर में उपयोग किए जाने वाले कुछ महत्वपूर्ण आउटपुट डिवाइस निम्नलिखित हैं। 10 उदाहरण आउटपुट डिवाइस और उनके कार्य,10 Example of Output Devices and their Function in Hindi

    • मॉनीटर
    • प्रिंटर
    • प्लॉटर
    • प्रोजेक्टर
    • स्पीकर्स
    • हेडफोन्स
    • साउंड कार्ड  
    • वीडियो कार्ड 
    • स्पीच सिंथेसाइज़र
    • जीपीएस
    आउटपुट डिवाइसेज - आउटपुट डिवाइसेज का विवरण इस प्रकार है : 

    मॉनीटर ( Monitor ) 

    output devices images in hindi,copmputer input device list ,name list of output devices

    मॉनिटर -कंप्यूटर का मुख्य आउटपुट डिवाइस। जिसे आमतौर पर विजुअल डिस्प्ले यूनिट (VDU) कहा जाता है, यह स्क्रीन पर छोटे बिंदुओं के रूप में विद्युत ऊर्जा को प्रकाश में परिवर्तित करके चित्र बनाता है जिसे पिक्सेल कहा जाता है,जो एक आयताकार रूप में व्यवस्थित होते हैं। 

    यह processed डेटा जैसे लेख, चित्र, वीडियो, ऑडियो आदि प्रदर्शित करता है। image की acuity पिक्सेल की संख्या पर निर्भर करती है। मॉनिटर में कैथोड रे ट्यूब और एक फ्लोरोसेंट स्क्रीन जैसे दो तत्व होते हैं। मोनोक्रोम और कलर डिस्प्ले डिवाइसेज ( मॉनीटर ) ( Monochrome and Colour Display Devices ( Monitors ) । मोनो ( Mono ) का अर्थ है एकल ( Single ) और क्रोम ( Chrome ) का अर्थ है रंग ( Colour ) । इसलिए मोनोक्रोम डिस्प्ले डिवाइस , एकल रंग के मॉनीटर होते हैं । 

    जैसे- ब्लैक एण्ड व्हाइट ' टी .वी । कलर मॉनीटर ( Colour Monitor ) रेड -ग्रीन -ब्लू ( Red - Green - Blue - RGB ) प्रकार का होता है । RGB प्रकार के कारण उच्च रेजोलूशन ( Resolution ) का आउटपुट डिस्प्ले हो सकता है । कम्प्यूटर में पर्याप्त रैम ( RAM ) के उपलब्ध होने पर इस मॉनीटर में हम 8 से 16,000,000 तक रंगों को डिस्प्ले कर सकते हैं । 

    मॉनिटर का प्रकार Type of Monitor in Hindi

    • TFT मॉनिटर्स: TFT का अर्थ "थिन फिल्म ट्रांजिस्टर" 
    • LED मॉनिटर्स: LED का अर्थ "लाइट एमिटिंग डायोड्स" 
    • DLP मॉनिटर्स: DLP का अर्थ है "डिजिटल लाइट प्रोसेसिंग",
    • CRT मॉनिटर्स: CRT का अर्थ "कैथोड रे ट्यूब" 
    • LCD मॉनिटर्स: LCD का अर्थ "लिक्विड क्रिस्टल डिस्प्ले"
    • टच स्क्रीन मॉनिटर
    • प्लाज्मा स्क्रीन मॉनिटर
    • OLED मॉनिटर्स: " लाइट एमिटिंग डायोड"

    मॉनिटर का कार्य Monitor Function in Hindi

    • मॉनिटर सूचना को चित्रात्मक या टेक्स्ट रूप में प्रदर्शित करता है।
    • मॉनिटर का मुख्य कार्य उपयोगकर्ताओं और कंप्यूटर के बीच संचार करना है।
    • कंप्यूटर मॉनीटर का उपयोग डेटा प्रोसेसिंग के लिए किया जाता है।
    • इसमे विभिन्न घटक होते हैं जैसे सर्किटरी, स्क्रीन और स्क्रीन की सेटिंग्स को समायोजित करने के लिए बटन, बिजली की आपूर्ति, और आवरण जो उन सभी घटकों को रखने में मदद करता है। 

    प्रिंटर ( Printer )  

    आउटपुट डिवाइस है,आउट पुट डिवाइस ओर फंकशन,प्रिंटर कौन सा डिवाइस है
    प्रिंटर एक ऑन -लाइन ( On-line ) आउटपुट डिवाइस है , जो आउटपुट को कागज पर छापकर प्रस्तुत करता है । कागज पर आउटपुट की यह प्रतिलिपि हार्ड कॉपी ( Hard Copy ) कहलाती है। अथवा प्रिंटर एक आउटपुट डिवाइस है, जिसका उपयोग कागज पर सूचना को प्रिंट करने के लिए किया जाता है। एक प्रिंटर उपयोगकर्ताओं को टेक्स्ट और ग्राफिक प्रारूप के रूप में आउटपुट प्राप्त करने की अनुमति देता है। 

    कम्प्यूटर से प्राप्त डिजिटल संकेत ( 1 और 0 के बिट ) प्राकृतिक भाषा ( अंग्रेजी , हिन्दी , आदि ) में परिवर्तित होकर हार्ड कॉपी के रूप में छपते हैं जिसे मानव पढ़ सकता है । आमतौर पर  प्रिंटर से प्रिंट करने के लिए standard-size  में, 8.5 "11" कागज की शीट का प्रयोग किया जाता है । 

    प्रिंटर्स में विविधता के अनेक आधार हैं , जैसे प्रिंटिंग तकनीक के आधार पर ये दो प्रकार के होते हैं- इम्पैक्ट ( Impact ) और नॉन - इम्पैक्ट ( Non - Inpact ) तथा कार्य करने की गति के आधार पर ये दो प्रकार के होते हैं - निम्न गति प्रिंटर ( Low Speed Printer ) जो एक अक्षर एक बार में छापते हैं तथा उच्च गति प्रिंटर ( High Speed Printer ) जो आउटपुट की एक पूरी लाइन तथा पृष्ठ एक बार में छाप सकते हैं ।

    प्रिंटिंग की विभिन्न विधियों का विवरण निम्नलिखित है : 

    इम्पैक्ट प्रिंटिंग ( Impact printing ) 

    प्रिंटिंग की यह विधि टाइपराइटर की विधि के समान होती है जिसमें एक धातु का ' हैमर ' ( Hammer ) या प्रिंट हैड ( Print Head ) कागज व रिबन ( Ribbon ) पर टकराता है। इम्पैक्ट ( Impact ) प्रिंटिंग में अक्षर या कैरेक्टर्स , ठोस - मुद्रा अक्षरों ( Solid Fonts ) या डॉट मैट्रिक्स ( Dot Matrix ) विधि से कागज पर उभरते हैं । 

    • ठोस - मुद्रा अक्षर ( Solid Font ) विधि - इस विधि में टाइपराइटर के समान अक्षरों के लिए धातु के ठोस टाइपसैट होते हैं जिन पर अक्षर उभरे रहते हैं । 
    • डॉट मेट्रिक्स ( Dot Matrix )- इस इम्पैक्ट डॉट मेक्ट्रिस विधि में पिनों ( Pins ) की ऊर्ध्वाधर पंक्ति ( Vertical Row ) का एक प्रिंट हैड होता है । इम्पैक्ट डॉट मैट्रिक्स प्रिंटर प्रायः ठोस - मुद्रा अक्षर प्रिंटरों ( Solid Font Printers ) से उच्च गति के होते हैं । 100 से 200 कैरेक्टर प्रति सेकण्ड की गति सामान्य होती है । 

    नॉन-इम्पैक्ट प्रिंटिंग ( Non- Impact Printing ) 

    इस प्रिंटिंग में प्रिंट हैड और कागज के मध्य सम्पर्क नहीं होता है । नॉन - इम्पैक्ट प्रिंटिंग की अनेक विधियां हैं जैसे — इलेक्ट्रोथर्मल ( Electrothermal ) , इंक - जेट ( Ink - jet ) , लेसर ( LASER ) , और थर्मल - ट्रांसफर ( Thermal - transfer ) आदि ।  

    • इलेक्ट्रोथर्मल प्रिंटिंग ( Electrothermal Printing ) – इसमें एक विशेष कागज पर कैरेक्टर को गरम रॉड ( Heated , Rod ) वाले प्रिंट हैड ( Print Head ) से चलाया जाता है । ये प्रिंटर सख्त होते हैं और इनके लिए विशेष कागज की आवश्यकता होती है ।
    • थर्मल - ट्रांसफर  प्रिंटर ( Thermal Transfer Printer ) - यह एक नई तकनीक का प्रिंटर है जिसमें कागज पर वैक्स आधारित रिबन ( Wax Based Ribbon ) से स्याही का तापीय स्थानान्तरण होता है । 

    प्रिंटरों के प्रकार ( Types of Printers in Hindi )

    1. डॉट मेट्रिक्स प्रिंटर ( i ) ड्रॉफ्ट क्वालिटी प्रिंटिंग ( ii ) नियर - लेटर क्वालिटी प्रिंटिंग 
    2. डेजी व्हील प्रिंटर 
    3. इंकजेट प्रिंटर 
    4. लेजर प्रिंटर 
    5. लाइन प्रिंटर ( i ) ड्रम प्रिंटर ( ii ) चेन प्रिंटर ( iii ) बैण्ड प्रिंटर 

    प्लॉटर ( Plotter ) 

    प्लॉटर एक ऐसा उपकरण है जो विभिन्न प्रकार के रंग स्वरूपों में उच्च गुणवत्ता वाले ग्राफिक्स को प्रिंट करता है। यह प्रिंटर की तरह ही काम करता है, हालांकि इसमें अधिक उन्नत सुविधाएं हैं,जो चार्ट ( Charts ) , चित्र ( Drawings ) , नक्शे ( Maps ) , त्रि-विमीय रेखाचित्र ( Three dimensional illustrations ) 3D पोस्टकार्ड,Advertising Signs,विज्ञापन संकेत, और अन्य प्रकार की हार्ड कॉपी ( Hard Copy ) प्रस्तुत करने के कार्य करता है । प्लॉटर के माध्यम से बड़े आकार के प्रिंट लिए जा सकते हैं,और यह धीमा और महंगा है। 

    प्लॉटर सामान्यतया दो प्रकार के होते हैं -

    1. ड्रम पेन प्लॉटर ( Drum Pen Plotter )
    2. फ्लैट बेड प्लॉटर ( Flat Bed Plotter ) 

    ड्रम पेन प्लॉटर ( Drum Pen Plotter )- यह एक ऐसी आउटपुट डिवाइस है , जिसमें पेन ( Pen ) प्रयुक्त होते हैं , जो गतिशील होकर कागज की सतह पर आकृति तैयार करते हैं । कागज एक ड्रम पर चढ़ा रहता है , जो आगे खिसकता जाता है। पेन ( Pen ) कम्प्यूटर द्वारा नियन्त्रित होता है । यह प्लॉटर एक यान्त्रिक कलाकार ( Mechanical Artist ) की तरह कार्य करता नजर आता है । 

    पेन ( Pen ) की गति एक बार में एक इंच ( inch ) के हजारवें हिस्से के बराबर होती है । कई रंगीन प्लॉटरों में चार या चार से अधिक पेन ( Pen ) होते हैं । प्लॉटर एक सम्पूर्ण चित्र ( Drawing ) को कुछ इंच प्रति सैकण्ड की दर से प्लॉट करता है । 

    फ्लैट बेड प्लॉटर ( Flat Bed Plotter )- इस प्लॉटर में कागज को स्थिर अवस्था में एक बेड ( Bed ) या ट्रे ( Tray ) में रखा जाता है । एक भुजा ( Arm ) पर पेन ( Pen ) चढ़ा रहता है जो मोटर से कागज पर ऊपर - नीचे ( Y- अक्ष ) और दाएं - बाएं ( X- अक्ष ) गतिशील होता है । कम्प्यूटर पेन को X - Y अक्ष की दिशाओं में नियन्त्रित करता है और कागज पर आकृति चित्रित करता है ।

    प्रोजेक्टर (projector) 

    जैसा कि इसके नाम से पता चलता है प्रोजेक्टर एक ऑप्टिकल डिवाइस है, यह आउटपुट डिवाइस कंप्यूटर Images or Videos को एक बड़े क्षेत्र, जैसे स्क्रीन या दीवार पर "प्रोजेक्ट" करता है। इसका उपयोग कंप्यूटर और अन्य उपकरणों के आउटपुट को स्क्रीन पर प्रोजेक्ट करने के लिए किया जा सकता है।

    अधिकांश प्रोजेक्टर एक छोटे पारदर्शी लेंस के माध्यम से प्रकाश को चमकाकर एक छवि बनाते हैं, लेकिन कुछ नए प्रकार के प्रोजेक्टर लेजर का उपयोग करके सीधे छवि को प्रोजेक्ट कर सकते हैं। आज उपयोग किए जाने वाले सबसे सामान्य प्रकार के प्रोजेक्टर को वीडियो प्रोजेक्टर कहा जाता है।मूवी थिएटर एक प्रकार के प्रोजेक्टर का उपयोग करते हैं जिसे मूवी प्रोजेक्टर कहा जाता है, आजकल ज्यादातर डिजिटल सिनेमा वीडियो प्रोजेक्टर के साथ बदल दिया गया है।

    स्पीकर्स( speakers) 

    कंप्यूटर स्पीकर आउटपुट हार्डवेयर डिवाइस होते हैं, जो ध्वनि को आउटपुट करने की अनुमति देने के लिए स्पीकर कंप्यूटर से जुड़े होते हैं। स्पीकर के काम करने के लिए साउंड कार्ड की आवश्यकता होती है। वे कंप्यूटर के साउंड कार्ड से ऑडियो इनपुट लेते हैं और ऑडियो आउटपुट के रूप में ध्वनि तरंगों को आउटपुट करते हैं। 

    आमतौर पर, कंप्यूटर स्पीकर में आंतरिक एम्पलीफायर होता है जो उपयोगकर्ताओं की आवश्यकता के अनुसार वॉल्यूम के स्तर को बढ़ाने की अनुमति देता है। यदि, आपको तेज ध्वनि और अधिक बास की आवश्यकता है तो कंप्यूटर से जुड़ने के लिए बाहरी स्पीकर की आवश्यकता होगी। ये कई प्रकार के SIZE और BASE के आधार पर उपलब्ध होते है। 

    हेडफोन्स ( headphones) 

    हेडफ़ोन को "ईयरफ़ोन" भी कहा जाता है, किसी दूसरों को असुविधा पहुँचाए बिना इलेक्ट्रॉनिक संकेतों को ऑडियो में बदल कर सुनने के लिए हेडफ़ोन का उपयोग करते हैं,और उपयोगकर्ता आवाज़ सुनने के लिए कंप्यूटर, मोबाइल और लैपटॉप के साथ हेडफ़ोन प्लग कर सकता है।

    हेडफ़ोन कई प्रकार के आकारों में आते हैं, मूल ईयरबड्स से लेकर wired or wireless और एक कनेक्टिंग बैंड जो उपयोगकर्ता के सिर पर फिट बैठता है। इसे आप ब्लूटूथ के माध्यम से उपकरणों से जोड़ सकते हैं।सबसे पहले, हेडफोन को 1910 में अमेरिकी नौसेना में उपयोग के लिए विकसित किया गया था।

    साउंड कार्ड ( sound card) 

    साउंड कार्ड कंप्यूटर आउटपुट डिवाइस होते हैं इसको "ऑडियो एडेप्टर" भी कहा जाता है,साउंड कार्ड स्पीकर और हेडफ़ोन के उपयोग से ध्वनि संकेतों के आउटपुट को नियंत्रित करने में मदद करता है,और यह एक विस्तार कार्ड या एकीकृत सर्किट है जो कई प्रकार के मदरबोर्ड पर एम्बेडेड होता है।
     
    साउंड कार्ड मदरबोर्ड से सिग्नल प्राप्त करता है और फिर उन्हें प्रोसेस करता है और अंत में उन्हें ऑडियो में बदल देता है। यह Audio अनुभव को बढ़ाने में मदद करता है। Sound Card गेम खेलने, संगीत सुनने, वीडियो देखने,जरूरत पड़ने पर बहुत मददगार होता है।

    वीडियो कार्ड ( video Card) 

    वीडियो कार्ड एक हार्डवेयर डिवाइस है। साउंड कार्ड की तरह,वीडियो कार्ड एक विस्तार कार्ड है जो मदरबोर्ड पर एम्बेडेड होता है, और यह वीडियो और अन्य ग्राफिकल सामग्री की गुणवत्ता को बढ़ाने में मदद करता है। वीडियो कार्ड इमेज और वीडियो को संसाधित करता है, जिससे दृश्यों को डिस्प्ले पर देखा जा सकता है। 

    इसका इस्तेमाल गेम खेलने, फोटो, मूवी देखने आदि के किया जाता है। हाल के दिनों में, नवीनतम प्रणालियों में सामग्री की बढ़ती गुणवत्ता को बनाए रखने के लिए यह एक अनिवार्य तत्व बन गया है। वीडियो कार्ड को GPU या ग्राफिक्स प्रोसेसिंग यूनिट के रूप में भी जाना जाता है।

    स्पीच सिंथेसाइज़र (Speech Synthesizer) 

    Speech Synthesizer आउटपुट डिवाइस है जो एक स्पीच जनरेटिंग डिवाइस है जो  आपके द्वारा लिखे गए टेक्स्ट को स्पीच में बदलने में मदद करता है। अर्थात स्पीच सिंथेसाइज़र एक कम्प्यूटरीकृत उपकरण है जो डेटा लेता है, उसकी Explanation करता है और Audible Words परिवर्तित करता है। 

    जो लोग बात करने में असमर्थ हैं या जिनकी Eyesight बाधित है, उनके लिए यह डिजिटल मौखिक संचार प्रदान कर सकता है।  यह एक कंप्यूटर कार्ड, एक केबल से जुड़ा एक बॉक्स या कंप्यूटर के साउंड कार्ड के साथ काम करने वाला सॉफ्टवेयर हो सकता है।

    जीपीएस GPS (Global Positioning System)

    GPS "ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम" है,और एक उपग्रह-आधारित रेडियोनेविगेशन  प्रणाली है ,जो संयुक्त राज्य सरकार के स्वामित्व में है और संयुक्त राज्य अंतरिक्ष बल द्वारा संचालित है। एक जीपीएस रिसीवर को पृथ्वी पर या उसके आस-पास कहीं भी भौगोलिक स्थान और समय की जानकारी प्रदान करता है। 

    जीपीएस का उद्देश्य Location , मौसम की स्थिति,वाहन की गति ,और ट्रैकिंग से संबंधित जानकारी User को प्रदान करना है। चूंकि इस संसाधित डेटा का मूल्यांकन जानकारी प्राप्त करने के लिए किया जा सकता है, इसलिए इसे आउटपुट डिवाइस माना जाता है। इनबिल्ट जीपीएस यूनिट के साथ आने वाले उपकरण मोबाइल फोन, पहनने योग्य डिजिटल ट्रैकिंग डिवाइस, लैपटॉप, टैबलेट, कार, साइकिल, घड़ियां और यहां तक कि जूते भी हैं।

    निष्कर्ष

    कंप्यूटर आउटपुट डिवाइस पूरे कंप्यूटर आर्किटेक्चर में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है ,क्योंकि उपयोगकर्ता के द्वारा कंप्यूटर को दिए गए निर्देशों गणना और संचालन पूरा होने के बाद उपयोगकर्ता को परिणाम प्राप्त करने का यही एकमात्र तरीका है। साथ ही, ये आउटपुट डिवाइस उपयोगकर्ताओं को यह देखने के लिए डेटा सत्यापित करने की अनुमति देते हैं कि क्या उन्हें वह डाटा प्राप्त हुआ है जो वे कंप्यूटर सिस्टम इनपुट किया गया था और जो आप चाहते थे। 


    Rate this article

    एक टिप्पणी भेजें