-->

Notification

Iklan

Iklan

रक्तदान के फायदे,नुकसान,सावधानी ,रक्तदान कौन कर सकता है और कौन नहीं

गुरुवार, जून 10 | जून 10, 2021 WIB Last Updated 2021-10-06T08:08:05Z

रक्तदान के फायदे, नुकसान,सावधानी,रक्तदान कौन कर सकता है और कौन नहीं 

जिन मरीजों को रक्त की जरूरत होती है ,उसकी आपूर्ति रक्तदान से होती है ।फिर भी रक्तदान को लेकर काफी भ्रांतियां हैं ।14 जून को विश्व रक्तदाता दिवस मनाया जाता है ।

रक्तदान के फायदे और नुकसान
रक्तदान के फायदे,नुकसान,सावधानी ,रक्तदान कौन कर सकता है और कौन नहीं

आइए जानते हैं रक्तदान से जुड़े कुछ तथ्यों के बारे में ...रक्तदान के फायदे,नुकसान,सावधानी ,रक्तदान कौन कर सकता है और कौन नहीं --

रक्तदान को महादान कहा जाता है । इससे बीमारों और दुर्घटनाग्रस्त लोगों को तो सहायता मिलती ही है , मुश्किल के समय अपनों को भी इसका लाभ मिलता है ।सबसे जरूरी समझना यह है कि रक्त बाजार में नहीं मिलता इसकी आपूर्ति दान के रक्त से ही संभव है । 

ये भी देखें :-Health Tips | स्वस्थ जीवन के 15 सूत्र

रक्तदान करने से रक्तदाता को कोई नुकसान नहीं होता है ।इससे उसकी सेहत सुधरती है और शरीर तरोताजा हो जाता है ।रक्तदान दो तरह से किया जाता है -

पहला -

कोई व्यक्ति.स्वेच्छा से रक्तदान कर सकता है ताकि उसका रक्त किसी जरूरतमंद की जान बचाने के काम आए । 

दूसरा-

 जब जरूरतमंद व्यक्ति के सगे -संबंधी सीधे तौर पर उसके लिए रक्तदान करें । 

रक्तदान के फायदे 

रक्तदान शरीर से अतिरिक्त आयरन निकालने का बेहतरीन तरीका है । इसके अलावा कैलोरी बर्न करने और कोलेस्ट्राल घटाने में भी इससे काफी मदद मिलती है । रक्तदान से शरीर में रक्त कोशिकाओं की संख्या कम हो जाती है । 

इसकी भरपाई करने के लिए शरीर बोनमैरो को नई लाल रक्त कणिकाएं बनाने के लिए प्रेरित करता है और इससे शरीर में नई कोशिकाओं का निर्माण होता है ।

ये भी देखें :- स्वस्थ जीवन के तीन स्तम्भ आहार ,निंद्रा और ब्रह्मचर्य |स्वस्थ जीवन का आधार है|

रक्तदान के नुकसान

रक्तदान के फायदे,नुकसान,सावधानी ,रक्तदान कौन कर सकता है और कौन नहीं
रक्तदान के फायदे,नुकसान,सावधानी ,रक्तदान कौन कर सकता है और कौन नहीं 

रक्त दान करने के नुकसान पर बहुत सारि भ्रांतियां फैलाई जाती है ,इन बातों पर आपको ध्यान नहीं देना है आपके द्वारा किये गए blood donate से किसी की जान बच सकती है कुछ लोगों को रक्तदान करते समय निम्न साइड इफेक्ट हो सकता है जैसे- चक्कर आना ,जी मचलाना ,ठंडा महसूस  या पसीना आना 

वैसे किसी व्यक्ति को तीन महीने में एक बार से अधिक रक्तदान नहीं करना चाहिए और ब्लड बैंक को भी किसी ऐसे व्यक्ति का रक्त नहीं लेना चाहिए जिसने रक्तदान का अंतराल पूरा न किया हो । इसे जानिए

रक्तदान कौन कर सकता है 

  • 18-60 वर्ष का कोई भी व्यक्ति ,जो स्वस्थ हो रक्तदान कर सकता है ।
  • जिन लोगों ने टैटू गुदवाया हो वो टैटू गुदवाने के एक साल बाद रक्तदान कर सकते हैं ।
  •  रक्तदान करने वाले का एक से अधिक पार्टनर से शारीरिक संबंध नहीं होना चाहिए ।
  • रक्तदाता का शारीरिक भार 45 किलोग्राम से कम नहीं होना चाहिए ।
  •  रक्तदान करने वाले को श्वसन संबंधी ,त्वचा या हृदय रोग नहीं होना चाहिए ।
  • यह भी ध्यान रखना चाहिए कि यदि महिला रक्तदान कर रही हो तो वह गर्भवती नहो । 
  • रक्तदाता के रक्त में हीमोग्लोबिन की मात्रा 12.5 ग्राम से कम नहीं होनी चाहिए । 

रक्तदाता बरतें सावधानी 

रक्तदान करतेसमय रक्तदाता को कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए ताकि रक्तदान का उसके शरीर पर विपरीत प्रभाव न पड़े ।

रक्तदान के पहले : रक्तदान के पहले रक्तदाता को भरपेट खाना और पूरी नींद जरूर लेनी चाहिए । रक्तदान के बाद :  रक्तदाता को रक्तदान के तुरंत बाद शारीरिक श्रम नहीं करना चाहिए । तरल पदार्थ जैसे जूस , दूध , पानी आदि का सेवन करना चाहिए । रक्तदान के कुछ घंटों बाद तक वाहन नहीं चलाना चाहिए । 

कौन रक्तदान नहीं कर सकता

डेंगू , मलेरिया , हेपेटाइटिस बी या सी से ग्रस्त व्यक्तियों को पूरी तरह से ठीक होने के छह माह बाद ही रक्तदान करना चाहिए । 

जिन लोगों को मधुमेह या सिजोफ्रेनिया की बीमारी हो उन्हें भी रक्तदान से बचना चाहिए , क्योंकि ऐसे लोगों का वजन बीमारी के चलते गिरता है । 

इसके अलाव एड्स और कैंसर से पीड़ित लोगों को भी रक्तदान नहीं करना चाहिए । 

रक्तदान के फायदे,नुकसान,सावधानी ,रक्तदान कौन कर सकता है और कौन नहीं
रक्तदान के फायदे,नुकसान,सावधानी ,रक्तदान कौन कर सकता है और कौन नहीं 

सुरक्षित है रक्तदान

रक्त संग्रह के लिए इस्तेमाल होने वाले बैग में एक बार इस्तेमाल होने वाली सुई लगी होती है ,जो तुलनात्मक रूप से पूर्णतः सुरक्षित है ।यह प्रक्रिया हमेशा योग्य और प्रशिक्षित डाक्टरों द्वारा पूरी की जाती है । इसलिए रक्तदान पूरी तरह सुरक्षित रहता है । 

रक्तदान करने से कोई नुकसान नहीं होता ,क्योंकि शरीर में अस्थियों में पाई जाने वाली अस्थिमज्जा ( बोनमैरो ) में रक्त का निर्माण लगातार होता रहता है ।रक्तदान में किसी प्रकार का दर्द नहीं होता। 

न ही रक्तदाता के शरीर से एक बार में रक्त की इतनी मात्रा ली जाती है कि वह उसके लिए घातक हो । उसके भार कें आधार पर दो सौ से तीन सौ मिलीलीटर रक्त लिया जाता है ।

ब्लड टेस्ट बताएगा बेस्ट एक्सरसाइज

खुद के लिए बेस्ट एक्सरसाइज तय करना लोगों के लिए एक मुश्किल चुनौती है , लेकिन हार्वर्ड मेडिकल स्कूल के शोधकर्ताओं ने पाया है कि खून में पाए जाने वाले विशेष प्रकार के प्रोटीन का स्तर यह बताता है कि किस एक्सरसाइज का व्यक्ति के शरीर पर कैसा असर पड़ेगा । यानी कौन सी एक्सरसाइज किस व्यक्ति के लिए बेस्ट है ।

654 लोगों पर किया गया शोध

प्रोफेसर डॉ रॉबर्ट गेर्टेन ने 654 लोगों पर एक्सरसाइज के बाद की गई लैब जांच के डेटा का एनालिसिस किया । 

उन्होंने पाया कि व्यक्ति के शरीर में 100 से अधिक प्रोटीन होते हैं जो शरीर पर अलग - अलग एक्सरसाइज के प्रभावों को बताते हैं ।

एक्सरसाइज से जुड़े हैं 102 प्रोटीन

 वैज्ञानिकों ने स्टेट ऑफ द आर्ट मॉलिकुलर टूल्स के उपयोग से रक्त में पाए जाने वाले 102 ऐसे प्रोटीन का पता लगाया , जिनका लेवल यह बताता है कि एक्सरसाइज करने से किसी व्यक्ति की एरोबिक क्षमता किस हद तक बढ़ेगी ।














×
Berita Terbaru Update