Search Suggest

नेकी का बदला-हिन्दी मॉरल स्टोरी

Moral hindi story: मदद को याद रखना और मौका मिलते ही उसका प्रतिसाद देना नेक लोगों के स्वभाव का आधार होता है । विनोद बाबू ने इसको चरितार्थ ही किया था ।

Neki ka badla, hindi Moral short story, moral story

Moral hindi story: मदद को याद रखना और मौका मिलते ही उसका प्रतिसाद देना नेक लोगों के स्वभाव का आधार होता है । विनोद बाबू ने इसको चरितार्थ ही किया था । 

नेकी का बदला-हिन्दी मॉरल स्टोरी 

 कुछ साल पहले मेरे मौसाजी का हार्ट अटैक से देहांत हो गया । उम्र करीब 45 वर्ष रही होगी । 

अपने पीछे 2 बेटियों को छोड़ गए । चूंकि मौसाजी सरकारी नौकरी में कार्यरत थे और अच्छा वेतन पाते थे , तो दोनों बेटियों की सारी इच्छाएं पूरी होती थीं । जाहिर है एक हद तक दोनों जिद्दी हो चुकीं थीं । मौसाजी जयपुर में ही कृषि विभाग में कार्यरत थे और उनके जाने के बाद मौसी को भी उसी विभाग में नौकरी मिल गई । 

अभी नौकरी को चार महीने भी नहीं हुए थे कि मौसी पर नई मुसीबत आ गई । उनका ट्रांसफर बीकानेर हो गया । मौसी ने काफी कोशिश की कि किसी तरह यह ट्रांसफर रुक जाए लेकिन कुछ ना हो पाया । उधर दोनों बेटियों ने ठान लिया था कि जयपुर छोड़कर नहीं जाएंगी , सो मौसी ने उनको नाना - नानी के पास छोड़ दिया और अंजान शहर की ओर चल पड़ीं । 

कुछ दिनों बाद मम्मी की मौसी से बात हुई तो पता चला कि मौसी एक सज्जन के घर रह रही हैं । वो सज्जन नाना के जानकार हैं और मौसी को बेटी की तरह रख रहे हैं । मौसी से किराया लेना तो दूर उनको खाना देने के साथ साथ उनका पूरा ध्यान भी रख रहे हैं । उनका नाम विनोद बाबू है । 

चार महीने बाद मौसी फिर से जयपुर पदस्थ हुई , तब उन्होंने पूरा वृत्तांत सुनाया । दरअसल , बहुत साल पहले नाना ने उन शख्स की नौकरी लगवाई थी । यही नहीं उनको कुछ समय तक अपने घर में भी ठहराया था । 

नानी ने नाना को कहा भी था कि फालतू में ऐसे हर किसी की सहायता करने से क्या मतलब ! लेकिन नाना कहां मानने वाले थे । निःस्वार्थ भाव से सबकी सेवा करना उनकी आदत थी । जाते समय विनोद बाबू ने कहा था ' आपका यह एहसान उधार रहेगा । समय आने पर यह कर्ज जरूर उतारूंगा । '

 कुछ दिनों के बाद ख़बर आई कि विनोद बाबू चल बसे । यह खबर सुनते ही मेरी मम्मी के मुंह से बरबस ही निकल पड़ा ' ऋण चुकाने का मौका नहीं चूके वो कौन कहता है कि भलाई का जमाना नहीं रहा ...। '

Rate this article

एक टिप्पणी भेजें