Search Suggest

rick rigsby motivational speaker speech in hindi | रिक रिग्स्बी motivational speaker

Rick Rigsby, famous motivational speaker-खुद से रोज ये सवाल करें, आप कैसा जीवन जी रहे हैं?अच्छा काम, अच्छा नहीं रह जाता अगर उसमें बेहतर की गुंजाइश


rick rigsby motivational speaker, rick rigsby motivational speaker speech, rick rigsby motivatiion thoughts

Rick Rigsby motivational speaker speech in hindi

अच्छा काम, अच्छा नहीं रह जाता अगर उसमें बेहतर की गुंजाइश बनी है, वहीं अगर सर्वश्रेष्ठ की गुंजाइश है, तो बेहतर काम भी मायने नहीं रखता! - रिक रिग्स्बी , विख्यात अमेरिकी लेखक व मोटिवेशनल स्पीकर  

खुद से रोज ये सवाल करें, आप कैसा जीवन जी रहे हैं?

जीवन में अब तक जिन भी लोगों से मेरा सामना हुआ , मेरे पिता ( थर्ड क्लास ड्रॉपआउट ) उनमें सबसे ज्यादा बुद्धिमान थे । उन्होंने सिखाया कि गहरा असर छोड़ने के लिए ज्ञान के साथ बुद्धिमानी जरूरी है । पिता कुक थे । उन्होंने औपचारिक पढ़ाई नहीं की , इसका मतलब ये नहीं कि उनकी शिक्षा रुंक गई थी । मार्क ट्वेन ने कहा था , शिक्षा के बीच मैंने अपनी स्कूलिंग नहीं आने दी । 

पिता माइकल एंजेलो का जिक्र करते हुए कहते थे , मुझे इससे कोई दिक्कत नहीं होगी अगर तुम बड़े लक्ष्य बनाकर उन्हें हासिल करने से चूक जाते हो , पर समस्या इससे होगी कि छोटे लक्ष्य तय करके उन्हें हासिल कर लो । पिता कहते थे , एक मिनट लेट होने से अच्छा है एक घंटा जल्दी पहुंचो । 

हमारे घर घड़ी वक्त से हमेशा आगे होती थी , इसलिए सही समय का पता नहीं चलता था । मां बताती हैं कि पिता लगातार 30 सालों तक रोज सुबह 3:45 पर घर से निकल जाते , एक दिन मां ने पूछा ऐसा क्यों करते हैं ? तब उन्होंने कहा कि क्या पता एक दिन मेरे बेटे इससे प्रभावित हो जाएं । 

अरस्तू ने कहा था- आप वो  हैं , जो बार- . बार करते हैं । इसलिए उत्कृष्टता आपकी आदत होनी चाहिए , सिर्फ एक काम से नहीं जुड़ी होनी चाहिए । कभी भी अपने माता - पिता का सर न झुकने दें । अगर दुनिया में माता - पिता खुश नहीं है , तो आप कभी खुश नहीं रह सकते ।

पिता कहते थे कि अहंकार को बढ़ने मत दो , यह वह संवेदनहीनता है जो मूर्खता के दर्द को खत्म कर देती है । जॉन वुडन यूसीएलए टीम को बास्केटबॉल सिखाते थे . लेकिन उनकी इच्छा लोगों की जिंदगी में बदलाव लाने की थी । ट्रेनिंग और चैंपियनशिप के बीच जॉन हफ्ते के बीच अपनी जिम में जाकर झाड़ लगाते । 

अगर आप वाकई प्रभाव डालना पैदा करना चाहते हैं , तो अपनी झाड़ खोजने की जरूरत है । अच्छा काम अच्छा नहीं हो सकता अगर उसमें बेहतर की गुंजाइश है , वहीं अगर सर्वश्रेष्ठ की गुंजाइश है , तो बेहतर काम नहीं करना चाहिए । 

सच्ची प्रेरणाएं आपको नापसंद चीज़ से भी मिल सकती हैं , अधिकांश बार असफलताओं से प्रेरणा मिलती है । जब आप संघर्ष कर रहे होते हैं , तो सबसे छोटी चीज भी आपकी सफलता का आधार बन सकती है । 

पत्नी को कैंसर हुआ , तो मैं टूट - सा गया था । लेकिन फिर पिता ने कहा- सिर्फ खड़े रहो । लगातार खड़े रहो । ये मायने नहीं रखता कि समुंदर कितना निष्ठुर है , बस खड़े रहो । मैं आपसे एक प्रश्न करता हूं , ये सवाल मेरे पिता पूरी जिंदगी मुझसे पूछते रहे- आप कैसे रहते हैं ? 

कैसी जिंदगी जी रहे हैं ? हर दिन खुद से ये सवाल पूछें और जवाब खोजते रहें । रिक की यह ' द विस्डम ऑफ ए थर्ड ड्रॉपआउट ' स्पीच दुनिया में सबसे ज्यादा वायरल मोटिवेशनल स्पीच में शुमार रही है ।

Rate this article

एक टिप्पणी भेजें