नवरात्रों में कैसे करें हेल्दी उपवास इन बातों का रखें ध्यान

चैत्र नवरात्रि 2 अप्रेल से शुरू होगी । गर्मी का मौसम है और आस्था से जुड़े इस व्रत - उपवास में आपको अपनी सेहत का ध्यान भी रखना होगा । जो लोग इस समय

चैत्र नवरात्रि 2 अप्रेल से शुरू होगी। गर्मी का मौसम है और आस्था से जुड़े इस व्रत-उपवास में आपको अपनी सेहत का ध्यान भी रखना होगा। जो लोग इस समय व्रत-उपवास करने के बारे में सोच रहे हैं, उन्हें 6 प्रमुख बातें जरूर ध्यान रखनी चाहिए। 

Chaitra navratri fast food, chaitra navratri food,

क्योंकि इस मौसम में डिहाइड्रेशन और अन्य समस्याएं भी होती हैं। अगर आप कामकाजी हैं और व्रत कर रहे हैं, तब आपको खास ध्यान रखना चाहिए।  

कैसे करें हेल्दी व्रत उपवास नवरात्रों में रखें इन बातों का ध्यान  

संयमित रखें आहार 

इस समय भोजन सीमित मात्रा में ही करें। यदि आप अपने खाने की आदतों को संयमित नहीं करते हैं तो ये न केवल आपके उपवास के उद्देश्य को खत्म कर देगा, बल्कि इससे पाचन तंत्र भी प्रभावित होगा। इस समय ब्लोटिंग, गैस की समस्याएं हो सकती हैं। आहार में ताजे फल शामिल करें।

Read More: 

नवरात्रों में कैसे करें हेल्दी उपवास इन बातों का रखें ध्यान

चैत्र नवरात्र इसी दिन ब्रम्हा जी ने किया था सृष्टि का निर्माण

घर पर बनी मिठाइयां ही खाएं 

बाजार में उपलब्ध होने वाली बहुत सारी मिठाइयों के बजाय बेहतर होगा, अगर आप अपने घर पर मिठाई बनाएं और व्रत के समय उनका ही सेवन करें। अगर हो सके तो चीनी के स्वस्थ विकल्पों पर ही जाएं, जैसे खजूर, गन्ना, गुड़ आदि का इस्तेमाल करें।

ऑफिस जाएं तो नींबू पानी साथ रखें 

व्रत में आप नारियल पानी, दूध, छाछ, नींबू पानी और ताजे फलों के जूस जैसे तरल पदार्थों का सेवन कर सकते हैं। इससे आपके शरीर में पानी की कमी नहीं होगी और आप डिहाइड्रेशन से बच सकते हैं। अगर आप ऑफिस जाते और व्रत भी कर रहे हैं तो अपने साथ पानी की बोतल के अलावा एक बोतल में नींबू पानी भी रखें। 

फाइबर युक्त भोजन करें

आप ऐसे खाद्य पदार्थ चुनें जो फाइबर से भरपूर हों और पचने में अधिक समय लेते हों। इनसे आपको लंबे समय तक भरा हुआ रहने में मदद मिलती है। आप सामक का आटा, राजगीर, सिंघाड़ा, कुट्टू, साबूदाने की खिचड़ी, भूनी मूंगफली के दाने, शकरकंद और अरबी का कई तरह से सेवन कर सकते हैं। 

Read More: सम्पूर्ण शिव विवाह की अमर कथा | शिव-स्तुति,शिवजी की आरती

गहरी नींद लेना नींद लेना होगा लाभदायक

के दिनों में हमारा शरीर डिटॉक्स मोड में होता है। अतः इस समय शरीर को बहुत सा आराम चाहिए। इसलिए यह सुनिश्चित करें कि रोजाना 7-8 घंटे सो पाएं। रिलेक्स करें और कुछ ध्यान संबंधी एक्सरसाइज करें ताकि शरीर पूरी तरह से डिटॉक्स हो पाए। 

पैकेज्ड फूड खाने से बचें 

व्रत आजकल बाजार में उपवास की चिप्स भी काफी वैरायटी में उपलब्ध हैं, लेकिन अगर आप सेहत के प्रति सजग हैं तो घर पर घी में तले आलू के चिप्स खाएं। अगर आपको हल्के-फुल्के स्नैक्स का मन है तो चिप्स की बजाय आप मखानों को घी में भूनकर खाएं।

Read More:

पवित्र और प्रामाणिक माने गये अन्य धर्मग्रन्थ भी है ?

यज्ञ क्या है? यज्ञ का अर्थ और यज्ञ कितने प्रकार के होते है

भारतीय संस्कृति मातृ देवो भवः पितृ देवो भवः | माता पिता की सेवा

भारतीय पौराणिक कथा मातृ पितृ भक्त श्रवण कुमार की कहानी एक प्रेणा स्रोत

ॐ ,ओंकार रहस्य ओ३म् सभी मन्त्रों का बीज ,राजा सेतु है

Thanks for Visiting Khabar's daily update for More Topics Click Here


Rate this article

एक टिप्पणी भेजें