Subscribe to my Youtube Channel Click Here Subscribe Also !

हस्त-मुद्रा चिकित्सा विधि लाभ और सावधानियां

हस्त - मुद्रा - चिकित्सा(Hand Mudra medicine) के अनुसार हाथ तथा हाथों की अंगुलियों और अंगुलियों से बनने वाली मुद्राओं में आरोग्य का राज छिपा(the secr
Santosh Kukreti

हस्त - मुद्रा - चिकित्सा (Hand Mudra Medicine) के अनुसार हाथ तथा हाथों की अंगुलियों और अंगुलियों से बनने वाली मुद्राओं में आरोग्य का राज छिपा (The Secret of Health) हुआ है । 

हाथ की अँगुलियों में पंचतत्त्व प्रतिष्ठित हैं । ऋषि - मुनियों ने हज़ारों साल पहले इसकी खोज कर ली थी एवं इसे उपयोग में बराबर प्रतिदिन लाते रहे , इसलिए वे लोक स्वस्थ रहते थे । ये शरीर में चैतन्य को अभिव्यक्ति देने वाली कुंजियाँ हैं । 

हस्त मुद्रा चिकित्सा, Hasta Mudra चिकित्सा and there Benfits

Hasta Mudra Therapy Method Benefits and Precautions

ज्ञान मुद्रा Knowledge Mudra 

अँगूठे को तर्जनी अँगुली के सिरे पर लगा दें । शेष तीनों अँगुलियाँ चित्र के अनुसार सीधी रहेंगी । 

लाभ : - स्मरण - शक्ति का विकास होता है , ज्ञान की वृद्धि होती है , पढ़ने में मन लगता है , मस्तिष्क के स्नायु मज़बूत होते ज्ञान मुद्रा हैं , सिरदर्द दूर होता है तथा अनिद्रा का नाश , स्वभाव में परिवर्तन , अध्यात्म - शक्ति का विकास और क्रोध का नाश होता है । 

Read More:  Health Tips: स्वास्थ्य चालीसा | Health Chalisha for Good Health in Hindi

सावधानी : - खान - पान सात्त्विक रखना चाहिये , पान- पराग , सुपारी , जर्दा इत्यादि का सेवन न करे । अति उष्ण और अति शीतल पेय पदार्थों का सेवन न करे । 

वायु मुद्रा Air Mudra

तर्जनी अँगुली को मोड़कर अँगूठे के मूल में लगाकर हलका दबाएं । शेष अँगुलियाँ सीधी रखें ।  

लाभ : - वायु शान्त होती है । लकवा , साइटिका , गठिया , संधिवात , घुटने के दर्द ठीक होते हैं । गर्दन के दर्द , रीढ़ के दर्द तथा पारकिंसन्स रोग में फायदा होता है ।  

आकाश  मुद्रा Akash Mudra

मध्यमा अँगुली को अँगूठे के अग्रभाग से मिलायें । शेष तीनों अँगुलियाँ सीधी रहें । 

लाभ : - कान के सब प्रकार के रोग जैसे बहरापन आदि , आकाश मुद्रा हाड्ढया की कमजोरी तथा हृदय - रोग ठीक होता है ।

सावधानी : - भोजन करते समय एवं चलते - फिरते यह मुद्रा न करें । हाथों को सीधा रखें । लाभ हो जाने तक ही करें । 

Read More: Healthy tips- स्वस्थ जीवन के 15 सूत्र

पृथ्वी मुद्रा 

अनामिका अँगुली को अँगूठे से लगाएं । 

लाभ : - शरीर में स्फूर्ति , कान्ति एवं तेजस्विता आती है । दुर्बल व्यक्ति मोटा बन सकता है , वजन बढ़ता है , जीवन शक्ति का विकास होता है । यह मुद्रा पाचन क्रिया ठीक करती है , सात्त्विक गुणों का विकास करती है , दिमाग़ में शान्ति लाती है तथा विटामिन की कमी को दूर करती है । 

सूर्य मुद्रा 

अनामिका अँगुली को अँगूठे के मूल पर लगाकर अँगूठे से दबायें । 

लाभ : - शरीर संतुलित होता है , वज़न घटता है , मोटापा कम होता है । शरीर में उष्णता की वृद्धि , तनाव में कमी , शक्ति का विकास , खून का कोलेस्ट्रॉल कम होता है । यह मुद्रा मधुमेह , यकृत् ( जिगर ) के दोषों को दूर करती है ।

सावधानी : दुर्बल व्यक्ति इसे न करें । गर्मी में ज्यादा समय तक न करें । 

वरुण मुद्रा 

कनिष्ठा अँगुली को अँगूठे से लगाकर मिलायें ।  

लाभ : - यह मुद्रा शरीर में रूखापन नष्ट करके चिकनाई बढ़ाती है , चमड़ी चमकीली तथा मुलायम बनाती है । चर्मरोग , रक्त - विकार एवं जल - तत्त्व की कमी से उत्पन्न व्याधियों को दूर करती है । मुँहासों को नष्ट करती और चेहरे को सुन्दर बनाती है. 

सावधानी : - कफ प्रकृति वाले यह प्रयोग अधिक न करें । 

अपान - मुद्रा : - ( विधि )

मध्यमा तथा अनामिका अँगुलियों को अँगूठे के अग्रभाग से लगा दें । 

लाभ : - शरीर व नाड़ी की शुद्धि , कब्ज़ , मल - दोष , बवासीर , वायु - विकार , मधुमेह , मूत्रावरोध , गुदर्दों , दांतों के दोष दूर होते हैं । अपान मुद्रा पेट व हृदय रोग में फायदा होता है तथा यह पसीना लाती है । 

सावधानी - इस मुद्रा से मूत्र अधिक आएगा । 

अपानवायु या हृदय  रोग- मुद्रा 

तर्जनी अँगुली को अँगूठे के मूल में लगाये तथा मध्यमा और अनामिका अँगुलियों को अँगूठे के अग्रभाग से लगा दे । 

लाभ : - दिल कमज़ोर है , उन्हें इसे प्रतिदिन करना चाहिये । दिल का दौरा पड़ते ही यह मुद्रा कराने पर आराम होता है । पेट में गैस होने पर यह उसे निकाल देती है । सिरदर्द होने तथा दमे की शिकायत होने पर लाभ होता है । सीढ़ी चढ़ने से पाँच - दस मिनट पहले यह मुद्रा करके चढ़ें । इससे उच्च रक्तचाप में फायदा होता है ।

सावधानी - हृदय का दौरा आते ही इसका आकस्मिक उपयोग करें । 

प्राण  मुद्रा 

कनिष्ठा तथा अनामिका अँगुलियों के अग्रभाग को अँगूठे के अग्रभाग से मिलायें । 

लाभ : - यह मुद्रा शारीरिक दुर्बलता दूर करती है , मन को शान्त करती है , आँखों के दोषों को दूर करके ज्योति बढ़ाती है , शरीर को रोग - प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाती है , विटामिनों की कमी को दूर करती है तथा थकान दूर करके नव शक्ति का संचार प्राण मुद्रा करती है । लम्बे उपवास - काल के दौरान भूख - प्यास नहीं सताती तथा चेहरे और आँखों एवं शरीर को चमकदार बनाती है ।

Read More: क्या आप जानते हैं - डाक्टर की दुकान है आपकी रसोई 

स्तंभ मुद्रा

चित्र के अनुसार मुट्ठी बाँधें तथा बायें हाथ के अँगूठे को खड़ा रखें , अन्य अँगुलियाँ बँधी हुई रखें । 

लाभ : - शरीर में गर्मी बढ़ाती है । सर्दी , जुकाम , दमा , खाँसी साइनस , लकवा तथा निम्र रक्तचाप में लाभप्रद है , कफ को सुखाती है । 

सावधानी : - इस मुद्रा का प्रयोग करने पर जल , फल , फलों का रस , घी और दूध का सेवन अधिक मात्रा करें । इस मुद्रा को अधिक लम्बे समय तक न करें । 

Read More: शरीर को बलशाली कैसे बनाए | Physical Strength Strong Body

होम पेज

यहाँ क्लिक करें

Getting Info...

एक टिप्पणी भेजें

Cookie Consent
We serve cookies on this site to analyze traffic, remember your preferences, and optimize your experience.
Oops!
It seems there is something wrong with your internet connection. Please connect to the internet and start browsing again.
AdBlock Detected!
We have detected that you are using adblocking plugin in your browser.
The revenue we earn by the advertisements is used to manage this website, we request you to whitelist our website in your adblocking plugin.
Site is Blocked
Sorry! This site is not available in your country.