विचारों पर नियंत्रण ही हमारे चरित्र को स्वरूप देता है

पावर ऑफ पॉजिटिविटी -विचारों पर नियंत्रण ही हमारे चरित्र को स्वरूप देता है कई शोध - अध्ययनों का निष्कर्ष है कि Thoughts ही पदार्थ हैं । विचार ही जीवन

Controlling Thoughts Shapes Our Character: कई शोध-अध्ययनों का निष्कर्ष है कि थॉट्स  ही पदार्थ हैं। विचार ही जीवन का अंग बनकर चरित्र को विशेष स्वरूप प्रदान करते हैं और चरित्र ही हमारी आदतों पर, इच्छाशक्ति पर नियंत्रण रखता है। चरित्र के मुताबिक ही हमारे काम होते हैं। विचारों में डर, शंका या फिर विश्वास, जो भी मौजूद होगा। हमारा चरित्र भी उसी प्रकार से आकार लेना शुरू कर देगा। 

विचारों पर नियंत्रण ही हमारे चरित्र को स्वरूप देता है , Controlling thoughts shapes our character

अमेरिकन प्रोफेसर डॉ. बारबरा फ्रेड्रिक्सन ने सालों तक सकारात्मकता पर शोध किया। वह लिखती हैं कि विचारों पर नियंत्रण न हो या उनका प्रवाह Negativity की ओर हो, तो एक समय के बाद इसके दुष्प्रभाव न सिर्फ आपके जीवन, कामकाज बल्कि स्वास्थ्य में भी नजर आने लगते हैं।  

Read More: 

भूल को सही साबित करने की बजाय उसे स्वीकार करिए

दिमाग का यह नियम समझ कर अपना जीवन बदल सकते हैं

मशहूर लेखक विद्वान स्टेट मॉर्डेन कहा करते थे आशा और निराशा के दो रूप हैं। और इनमें से एक तीसरा रूप निकलता है वह है अभिलाषा का। Hope और Desire किसी वस्तु का आकृति को गीली मिट्टी में तैयार करके उसे सांचे में ढाल देती है। और कर्म जीवन में उसे सफेद पत्थर जैसा साकार, पक्का बनाकर प्रकट कर देता है। हमारा विश्वास वह उम्मीद और आशा है। 

दुनिया में ऐसी कोई खुशी नहीं जिसके लिए आपकी आत्मा बेचैन हो और वह आपको न मिले। लेकिन मनचाही खुशी तभी मिलेगी, जब आप खुद को उसके लिए योग्य बनाएंगे। इसलिए अपने विचारों पर नियंत्रण रखना जरूरी है। अविश्वास हमारा सबसे बड़ा दुश्मन है। कोरी कल्पना से कुछ नहीं होने वाला। कल्पना, आशा, विश्वास और परिश्रम मिलकर ही सफलता का दरवाजा खोलते हैं।

Read More: 

किसी चीज में शामिल हुए बिना सुधार नामुमकिन है

आत्मानुशासन सफलता के लिए सबसे जरूरी योग्यता है

Thought of the day 

खुशी एक रहस्यमय चीज है जो बहुत कम और बहुत अधिक के बीच पाई जाती है।

हंसने और दया करने में सक्षम होना ही है, जो मनुष्य को पशुओं से बेहतर बनाता है।- रस्किन बॉन्ड 

आज का पॉजिटिव चैलेंज

बचपन में पढ़ी कहानी दोबारा पढ़ें 

बचपन में पढ़ी कोई पसंदीदा कहानी, कविता या किसी किताब का चर्चित अंश याद करके उसे दोबारा पढ़ें। अपने जीवनसाथी या मित्र से भी ऐसा करने के लिए कहें। इसके बाद उस हिस्से को उन्हें सुनाएं और उस पर चर्चा करें।इस तरह पुराना कुछ पढ़ने और उसके बारे में चर्चा करने से आपका एक व्यक्तिगत रिश्ता कायम होगा। इस पर बात करने से एक-दूसरे के साथ रिश्ते में भी निकटता आएगी।

Rate this article

एक टिप्पणी भेजें