Jay Shetty motivational speech in hindi | जीवन को देखने का तरीका बताते हैं संन्यासी

0

 Jay Shetty motivational speech in hindi: जीवन को देखने का तरीका बताते हैं संन्यासी,हजारों सालों पहले दी गईं संन्यासियों की नसीहतें आज भी उतनी ही प्रासंगिक और प्रभावी हैं । -जय शेट्टी , लेखक और विचारक

Jay Shetty motivational speech in hindi: जीवन को देखने का तरीका बताते हैं संन्यासी,हजारों सालों पहले दी गईं संन्यासियों की नसीहतें आज भी उतनी ही प्रासंगिक और प्रभावी हैं । -जय शेट्टी , लेखक और विचारक

Saints tell how to look at life

जब मैं अठारह साल का था और लंदन के में एक बिजनेस स्कूल में फर्स्ट ईयर में पढ़ रहा था । तब मेरे एक दोस्त ने एक दिन कहा कि मैं उसके साथ एक संन्यासी का लैक्चर सुनने चलूं । मुझे ये अटपटा लगा । मैं अक्सर कैंपस में कंपनियों के सीईओ , मशहूर हस्तियों और दूसरे सफल लोगों के व्याख्यान सुनने जाता रहता था , लेकिन किसी संन्यासी का व्याख्यान सुनने में मेरी रुचि नहीं थी । लेकिन मित्र ने जिद पकड़ ली । 

' प्रेम में पड़ना ' एक ऐसी अभिव्यक्ति है , जिसका इस्तेमाल लगभग हमेशा रोमांटिक संबंधों के संदर्भ में किया जाता है , लेकिन उस रात जब मैंने उस संन्यासी के अनुभव सुने , तो मैं प्रेम में पड़ गया । मंच पर लगभग तीस साल का भारतीय युवक था , बुद्धिमान , वाक्पटु और करिश्माई छवि । 

उन्होंने ' निस्वार्थ त्याग ' के सिद्धांत के बारे में बताया । जब उन्होंने कहा कि हमें ऐसे पेड़ लगाने चाहिए , जिनकी छाया के नीचे हम बैठने की योजना न बना रहे हों , तो मुझे शरीर में एक सिहरन - सी महसूस होने लगी । पहली बार जीवन में बदलाव महसूस हुआ । 

हमें संन्यासियों की तरह सोचने की जरूरत है । संन्यासी की तरह सोचने का मतलब है जीवन को देखने और जीने का एक अलग तरीका । . विद्रोह , अनासक्ति , नई खोज , उद्देश्य , एकाग्रता और अनुशासन और सेवा करने का तरीका । संन्यासी सोच का लक्ष्य एक ऐसा जीवन है , जो अहंकार , ईर्ष्या , लोभ , चिंता से मुक्त हो । हम पिछले तीन हजार सालों में इंसान बिल्कुल भी नहीं बदले हैं । 

निश्चित रूप से शारीरिक रूप से हम बदले हैं , लेकिन क्षमा , ऊर्जा , इरादों , उद्देश्यपूर्ण जीवन और दूसरे विषयों पर दी गईं संन्यासी की नसीहतें आज भी उतनी ही प्रासंगिक और प्रभावी हैं , जितनी कि तब थीं , जब उन्हें लिखा गया था । विज्ञान भी काफी हद तक संन्यासी की बुद्धिमत्ता का समर्थन करता है । - ' संन्यासी की तरह सोचें किताब से साभार -

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
एक टिप्पणी भेजें (0)

#buttons=(Accepted !)#days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top