चैत्र नवरात्रि-देवी पूजन के 9 दिन पर विशेष महत्व

0

 

Chaitra Navratri - Special importance on 9 days of Goddess worship,

चैत्र नवरात्रि सभी चार नवरात्रियों में सबसे बड़ी मानी गई है , जो इस वर्ष दो अप्रेल से शुरू हो रही है । इसमें व्रत - उपवास से शरीर और मन , दोनों ही डिटॉक्स होते हैं 

भारतीय पौराणिक मान्यता के अनुसार , सनातन धर्म परंपरा भा में मान्यताओं का व लोक परंपराओं का अलग महत्त्व है । यह भारतीय दर्शन को अलग - अलग तरह से शक्ति के रंगों में उल्लसित करती है । यदि चर्चा करें तो श्रीमद् देवी भागवत महापुराण , वराह पुराण , भागवत पुराण , विष्णु पुराण आदि में सृष्टि के आरंभ तथा सृष्टि के पालन की स्थिति एवं इसके सिद्धांत सूत्र बताए गए हैं । 

चैत्र शुक्ल प्रतिपदा , सृष्टि के आरंभ का दिन है । साथ ही यह बासंती नवरात्र का भी प्रथम दिन है और इसे ज्योतिष दिवस के रूप भी मनाया जाता है । यह भी कहा जा सकता है कि वनस्पति तंत्र में इस दिन की बड़ी उपयोगिता है , क्योंकि सृष्टि के आरंभ में शक्ति की अवधारणा आदिशक्ति जगत जननी जगदंबा के संदर्भ को स्पष्ट करती है । यही कारण है कि भारतीय सनातन धर्म परंपरा में शक्ति को प्रथम स्थान दिया गया है और संपूर्ण ऊर्जा स्रोत भी इन्हें माना गया है ।


नवरात्रि:चैत्र नवरात्र इसी दिन ब्रम्हा जी ने किया था सृष्टि का निर्माण 

चैत्र नवरात्र: कैसे करें हेल्दी व्रत - उपवास नवरात्रों में रखें इन बातों का ध्यान


 भारतीय ज्योतिष शास्त्र एवं पौराणिक गणना के अनुसार सृष्टि के आरंभ का पहला दिन चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को माना गया है । यह कल्प तथा वर्ष को आगे बढ़ाने वाला श्रेष्ठ दिन भी है । इसी से वर्ष का अनुक्रम तैयार होता है । यह कहा जा सकता है कि वर्ष की गणना आरंभ तथा अंतिम अवस्था में इसी दिन से मानी जाती है । 

यह दिन बसंत के मूल केंद्र से मौसम , एवं ऋतु के संचरण का विशेष दिवस है । मानव जीवन में उल्लास के साथ नई ऊर्जा तथा नए विचार का प्रवेश करवाता है । चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से वनस्प रामनवमी पर्यंत पर एक विशिष्ट प्रकार की ऊर्जा मन तथा बुद्धि में नए विचार के रूप में प्रवेश करते हैं ।

भारतीय ज्योतिष में 60 प्रकार के संवत्सर का उल्लेख है । इस दृष्टि से हर 60 वर्ष बाद संवत्सर का पुनरागमन होता है । इस बार नव संवत्सर का नाम नल है जो एक अलग प्रकार की सृष्टि में प्राकृतिक परिवर्तन का संकेत देगा । यह विज्ञान तथा प्रकृति के संदर्भ का संयुक्त चित्रण वर्ष में दिखाई देगा ।

बासंती नवरात्रि नई ऊर्जा से परिपूर्ण रखती है । यह मन बुद्धि में एक विशिष्ट प्रकार का संकल्प का संचालन करती है । यह नए - नए योजना कल्प को भविष्य के विकास से जोड़ती है और ऐतिहासिक सत्यता पर भी निर्भर है । चैत्र मास में शुक्ल पक्ष में प्रतिपदा से आरंभ कार्य जनहित और राष्ट्रहित का आयाम गढ़ता है । 

नवरात्रि , शक्ति की आराधना के साथ - साथ जीवन में आगे बढ़ने के संकल्प के लिए भी विख्यात हैं । शक्ति के संदर्भ का चित्रण करते हुए ऊर्जा को संयुक्त कर नए कार्य का संकल्प लेने का भी यह सही समय है । 

मानव जीवन में बिना प्रेरणा के सफलता की प्राप्ति संभव नहीं है । भागवत महापुराण में देवी कथाएं प्रेरित करती हैं । जीवन को नए पथ पर अग्रसर कर जन्म को सफल बनाने के लिए इस दृष्टि से भी सप्तशती के मंत्र का विधान जीवन को आगे बढ़ाने वाला होता है ।

वैज्ञानिक व आर्थिक युग में नयाचार या नवाचार तथा स्वयं को आगे बढ़ाने के साथ - साथ अन्य क्षेत्रों में यदि नए अविष्कार न करें तो जीवन अधूरा माना जाता है । सृष्टि के आरंभ के ये 9 दिन उन्मेष के मान से विशेष प्राकृतिक ऊर्जा प्रदान करते हैं जिनके माध्यम से नवोन्मेष होता है ।वराह पुराण में देवी के नौ स्वरूपों का अलग - अलग व्याख्यान दिया गया है । शक्ति के 9 विशेष भाग देवी की नौ विशेष नामावली से संचालित होते हैं । साथ ही शक्ति संपन्न भी होते हैं । यही कारण है कि सृष्टि के आरंभ के साथ - साथ शक्ति के माध्यम से जीवन की संकल्पना हुई ।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
एक टिप्पणी भेजें (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top