सच्ची:निश्छल मुस्कुराहट दिल की सेहत के लिए अच्छी है

पावर ऑफ पॉजिटिविटी: मुस्कुराहट अगर सच्ची है , तभी हम उसका आनंद महसूस कर सकते हैं । कुटिल मुस्कान न सिर्फ नकारात्मकता पैदा करती है , बल्कि शरीर के ऊतक

Power to Positive Thinking: मुस्कुराहट अगर सच्ची है, तभी हम उसका आनंद महसूस कर सकते हैं। कुटिल मुस्कान न सिर्फ नकारात्मकता पैदा करती है, बल्कि शरीर के ऊतकों में रक्त प्रवाह भी बाधित करती है। इसे इस्केमिया कहते हैं। सकारात्मकता की शक्ति एक सच्ची, सच्ची मुस्कान दिल की सेहत के लिए अच्छी होती है। 

Power of Positivity A genuine, sincere smile is good for heart health,पावर ऑफ पॉजिटिविटी: मुस्कुराहट अगर सच्ची है , तभी हम उसका आनंद महसूस कर सकते हैं । कुटिल मुस्कान न सिर्फ नकारात्मकता पैदा करती है ,power of positive in hindi ,

ड्यूक यूनिवर्सिटी में बिहेवियर और कोरोनरी हार्ट डिजीज़ पर एक अध्ययन में 59 वर्षीय विक्टर को शामिल किया गया। एक साल पहले उसे दिल का दौरा पड़ा था। शोधकर्ताओं ने इमेजिंग तकनीक के जरिए विक्टर के दिल पर नजर रखी। उससे सवाल पूछा गया कि जब आप गुस्सा और दुखी होते हैं, तो आसपास के लोगों को इसका पता चल जाता है? 

विक्टर ने तिलमिलाकर कहा कि हां बिल्कुल, उन्हीं लोगों के कारण मुझे गुस्सा आता है। इमेजिंग तकनीक में सामने आया कि गुस्से से जुड़े सवालों के दौरान उसके दिल में रक्त की पंपिंग पर खतरनाक स्तर तक असर पड़ा।शोधकर्ताओं को लगा कि लगातार गुस्से के कारण उसे इस्केमिया हो सकता है, लेकिन वैज्ञानिक ये देखकर भी चौंक गए कि बनावटी या कुटिल मुस्कान से भी इस्केमिया हो सकता है। 

हंसी के दौरान चेहरे की मांसपेशियां काम करती हैं। लेकिन शोध में देखा गया कि जिस मुस्कान में हम आनंदित महसूस नहीं करते, उनमें मांसपेशी का एक हिस्सा ऑर्बीक्युलेरिस ओकुली शामिल नहीं होता। अध्ययन का निष्कर्ष कहता है कि दिल की सेहत अच्छी रखना चाहते हैं, तो आनंद और खुशी से मुस्कुराइए। गुस्से और कपटपूर्ण मुस्कान से बचिए।

Thoughts of the Days

 मैं इस दुनिया में दूसरों की उम्मीद पूरी करने के लिए नहीं बल्कि अपनी उम्मीद पर खरा उतरने के लिए हूं। 

कर्म सही या गलत नहीं होता है। लेकिन जब कर्म आंशिक, अधूरा होता है, सही या गलत की बात तब सामने आती है।- ब्रूस ली 

Today's Positive Challenge

खुशी देने वालों की सूची बनाएं 

खुशी को आदत बनाने का सबसे अच्छा तरीका है, खुशमिज़ाज लोगों की सोहबत में रहें। आनंद और ऊर्जा से भरे लोगों के साथ से व्यक्तित्व विकास भी होता है और जीवन का उद्देश्य मिलता है। ऐसे लोगों की सूची बनाएं, जिनके साथ रहने से आपको वाकई आनंद महसूस होता है। देखें कि उन लोगों को आप भरपूर समय दे पा रहे हैं या नहीं। अगर नहीं तो दिन का कुछ वक्त इनके लिए जरूर निकालिए।

Read More: 

Dalai Lama: खुशी पाने का पहला कदम है निरंतर सीखते रहना

किसी के जीवन में सार्थक प्रभाव डालना चाहते हैं , तो करीब जाएं

अच्छी आदतें डालना मुश्किल होता है, पर उसके साथ जीना आसान

Thanks for Visiting Khabar's daily update for More Topics Click Here


Rate this article

एक टिप्पणी भेजें