शिक्षा लघुकथा | Laghukatha sikhsha

0

 शिक्षा लघुकथा

 Laghukatha-प्रदीप माथुर 

हुनर की विरासत का वो जीता - जागता उदाहरण था । उसका उत्साह और लगन जैसे पीढ़ियों का सिलसिला था । 

शिक्षा लघुकथा | Laghukatha sikhsha, लघुकथा,


शिक्षा

मई में माह की दोपहरी , चिलचिलाती धूप और प्रतिदिन की भांति मेरा कोर्ट से वापस घर लौटना । सुनसान सड़क । गतिमान स्कूटर और घर जल्दी पहुंचने का मानसिक दबाव ! इसी बीच एक स्वर उभरा , ' साब ! तरबूज ले जाइए ना ! '

यह भी पढ़े - 

लघुकथा-अनमोल धरोहर

लघुकथा- बहू की जगह 

लघुकथा:समय नहीं रुकता

लघुकथा-अच्छे तो हो न बेटा

आवाज सुन मैंने ब्रेक लगाया और पीछे मुड़कर देखा , फुटपाथ पर तिरपाल के नीचे रखे तरबूजों के ढेर के बीच खड़े छोटे से बालक ने मुझे रोकने के लिए आवाज लगाई थी । मैं उसके नजदीक गया , ' अरे परसों ही तो तुम्हारे पिताजी से लेकर गया था , आज तो बच्चों ने लाने को कहा भी नहीं है । ' वह अपने पिता की भांति ही तपाक से बोला , ' साब ! ले जाइए ना , आज ही नया माल आया है , इस मौसम में तो रोज ही खाना चाहिए , गर्मी में तरावट देता है । ' 

उसकी चातुर्यपूर्ण सेल्समैनशिप के आगे हथियार डालते हुए मैंने कहा , ' अच्छा ला , एक पांच किलो तक वजन का दे दे । ' 

उसने एक तरबूज उठाया और उस पर दूसरे हाथ से थप्पी मारी और वापस रख दिया । फिर दूसरा उठाया और उस पर भी दो - तीन थप्पी मारीं और उसे भी रख दिया । फिर तीसरा तरबूज उठाया और उसी तरह थपका कर बोला , ' साब ! ये लीजिए बढ़िया निकलेगा पूरा लाल और मीठा । ' 

इसी बीच मुझसे बातें करते हुए उसने बड़ी फुर्ती से उसे तराजू पर रख कर तौला और थैली में रख भी दिया और घोषणात्मक मुद्रा में बोला , ' पांच किलो पांच सौ ग्राम है , आप परमानेंट ग्राहक हैं पांच किलो के ही दे दीजिए , एक सौ पच्चीस बनते हैं सौ रुपये दे दीजिए । ' उसकी वाकपटुता में लिपटे इस अहसान को मन ही मन मैंने स्वीकार किया और तरबूज की थैली स्कूटर के हुक में लगाते हुए पूछा , ' आज पिताजी कहां हैं ? वो तो जब भी देते हैं मीठा और लाल ही निकलता है । ' 

' आज भी मीठा और लाल ही निकलेगा , पिताजी के बताए माफिक ही थप्पी मार कर दिया है , चिंता न करो साब ! ' 

एक पिता की दी हुई शिक्षा और आत्मविश्वास से भरपूर सेल्समैनशिप को मन ही मन नमन करते हुए हल्की सी मुस्कान स्वतः ही मेरे चेहरे पर बिखर गई , बेटे में गुरु पिता की छवि देख कर । मैंने स्कूटर स्टार्ट किया और चल दिया अपने गंतव्य की ओर ।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
एक टिप्पणी भेजें (0)

#buttons=(Accepted !)#days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top