Search Suggest

सन्धि परिभाषा | सन्धि प्रकार उदाहरण सहित ,सन्धि और संयोग में अंतर

सन्धि परिभाषा,सन्धि प्रकार उदाहरण सहित,सन्धि और संयोग में अंतर ,संधि किसे कहते हैं?दो वणों के आपस में मिल जाने से जो विकार उत्पन्न होता है,वह सन्धि कह
sandhi-viched , संधि से आप क्या समझते हैं उनके भेदों को समझाइए?,संधि किसे कहते हैं,संधि के कितने भेद होते हैं

सन्धि परिभाषा | सन्धि प्रकार उदाहरण  सहित | सन्धि और संयोग में अंतर 

सन्धि परिभाषा( sandhi definition) संधि किसे कहते हैं?

दो वणों के आपस में मिल जाने से जो विकार उत्पन्न होता है ,अर्थात जब दो वर्ण पास-पास आते हैं तब उनमें जो विकार सहित मेल होता है ,वह ' सन्धि ' कहलाती है । 

 सन्धि और संयोग में अन्तर 

निःसन्देह , दो वणों के मिलाप को ' संयोग ' भी कहते हैं किन्तु सन्धि और संयोग एक ही नहीं है , इनमें अन्तर होता है । 

संयोग में अक्षर ज्यों - के - त्यों रहते हैं परन्तु सन्धि में उच्चारण के नियमों के अनुसार दो अक्षरों के मेल के कारण उनकी जगह कोई भिन्न अक्षर हो जाता है । संयोग का उदाहरण है- क्या , स्तम्भ , मत्स्य , माहात्म्य आदि ।


यह भी पढ़ें-भाषा अर्थ और परिभाषा | bhasha ki paribhasha

 samas | समास परिभाषा भेद उदाहरण सहित | samas in hindi


सन्धि के प्रकार(type of sandhi) 

सन्धि तीन प्रकार की होती है- 

( १ ) स्वर सन्धि 

( २ ) व्यञ्जन सन्धि 

( ३ ) विसर्ग सन्धि । 

१- स्वर सन्धि (svar sandhi definition in hindi) स्वर संधि किसे कहते हैं?

एक स्वर के साथ दूसरे स्वर के मेल से जो परिवर्तन होता है,अर्थात दो स्वरों के संयोजन से स्वर संधि होती है। स्वर सन्धियाँ पाँच प्रकार की होती है :

  • दीर्ध स्वर सन्धि 
  • गुण स्वर सन्धि
  • यण स्वर सन्धि
  • वृद्धि स्वर संधि
  • अयादि स्वर सन्धि  

जैसे - हिम + आलय = हिमालय 

इति + आदि = इत्यादि 

स्वर सन्धि के निम्नलिखित भेद है 

यह भी पढ़ें-वैदिक संस्‍कृत और लौकिक संस्‍कृत भाषा व् भाषा का जीवन्त रूप

१- दीर्घ सन्धि(deergh sandhi definition in hindi) ( सूत्र : अक : सवर्णे दीर्घ :) 

दो सवर्ण स्वर के मिलने से उनका रूप ' दीर्घ ' हो जाता है अर्थात जब दो सवर्णी स्वर पास-पास आते है तो दोनों मिलकर दीर्ध हो जाते है । इसे ' दीर्घ सन्धि ' कहते है । इसके कुछ उदाहरण इस प्रकार है --

सवर्ण स्वर : अ - आ , इ - ई , उ - ऊ , ऋ - ऋद 

( क ) अ + अ =आ 

उदाहरण के लिए-

कल्प + अन्त =कल्पान्त 

दिवस + अन्त = दिवसान्त

परम + अर्थ  =परमार्थ

अस्त + अचल = अस्ताचल 

पुस्तक + अर्थी = पुस्तकार्थी

गीत + अंजलि =गीतांजलि 

नयन + अभिराम = नयनाभिराम

अ + आ = आ

उदाहरण के लिए-

गर्भ + आधान = गर्भाधान

विद्या + आलय - विद्यालय

परम +आत्मा = परमात्मा 

शुभ + आगमन = शुभागमन

शिव + आलय = शिवालय

देव + आलय= देवालय

रल + आकर = रत्नाकार 

कुश + आसन = कुशासन

आम + आशय = आमाशय

भय + आकुल = भयाकुल

आ + अ = आ

उदाहरण के लिए

विद्या + अर्थी = विद्यार्थी

विद्या + अभ्यास = विद्याभ्यास

पुरा + अवशेष = पुरावशेष

सेवा +अर्थ = सेवार्थ 

कदा + अपि = कदापि

तथा+अपि = तथापि 

स्व + भाव =स्वभाव

आ + आ=आ

उदाहरण के लिए-
महा + आशय =महाशय 

प्रेक्षा + आगार =प्रेक्षागार

रचना + आत्मक = रचनात्मक

वार्ता + आलाप = वार्तालाप


यह भी पढ़ें- 

उपसर्ग अर्थ परिभाषा ,भेद(प्रकार) उदाहरण सहित | upsarg in hindi | उपसर्गो के शुद्ध प्रयोग

प्रत्यय(अर्थ और परिभाषा) किसे कहते हैं,प्रत्यय प्रकार /भेद और उदाहरण


( ख ) इ + = ई

उदाहरण के लिए-
कपि + इन्द्र = कपीन्द्र

मुनि + इन्द्र = मुनीन्द्र

कवि + इन्द्र = कवीन्द्र

रवि + इन्द्र = रवीन्द्र

अति + इत = अतीत 

धि +इक्षण =अधिक्षण 

इ + ई = ई

हरि + ईश = हरीश
वारि + ईश = वारीश
कवि + ईश = कवीश
परि + ईक्षण = परीक्षण

ई+ इ=

मही + इन्द्र = महीन्द

महती + इच्छा = महतीच्छा

सची + इन्द्र = सचीन्द्र

फणी + इन्द्र = फणीन्द्र

ई+ई= 

जानकी + ईश = जानकीश

नारी + ईश्वर =नारीश्वर

नदी + ईश = नदीश

फणी + ईश्वर = फणीश्वर

(ग ) उ +उ =ऊ 

कटु + उक्ति = कटूक्ति

साधु + उपदेश = साधूपदेश

भानु + उदय =भानूदय

मृत्यु + उपरान्त = मृत्यूपरान्त

उ+ऊ = ऊ 

सिन्धु + ऊर्मि = सिन्धूमि

लघु + ऊर्मि = लघूमि

ऊ + उ =  

वधू + उत्सव = वधूत्सव

भू + उपरि = भूपरि

 +  = 

सरयू + ऊर्मि = सरयूमि

भू + ऊर्ध्व = भूर्ध्व 

( घ ) ऋ + ऋ =ऋ 

मातृ + ऋणम् = मातृणम्

होत + ऋकार= होतृकार

 यह भी पढ़ें- व्याकरण अर्थ परिभाषा और हिन्दी भाषा से अन्तर्सम्बन्ध

(२ ) गुण सन्धि(gun sandhi definition in hindi) 

जब  या के बाद या रहे तो दोनों मिलकर ; या रहे तो दोनों मिलकर : रहे को दोनों मिलकर अर हो जाता है । यह 'गुण सन्धि' कहलाती है ।

उदाहरण के लिए

अ + इ  = ए           

देव + इन्द्र = देवेन्द्र 

बाल + इन्दु = बालेन्दु

अ + ई  = ए           

सुर + ईश = सुरेश

परम + ईश्वर = परमेश्वर

आ +इ   = ए          

महा + इन्द्र = महेन्द्र

रसना + इन्द्रिय = रसनेन्द्रिय

आ + ई  = ए         

स्मा + ईश = रमेश

राका + ईश = राकेश

अ  + उ  = ओ        

सूर्य + उदय = सूर्योदय

प्राप्त + उदक  = प्राप्तोदक

अ +  उ  = ओ        जल + ऊमि = जलोर्मि 

आ +  उ =         

महा + उत्सव = महोत्सव

यथा + उचित = यथोचित 

आ  + ऊ  = ओ     

गंगा + ऊर्मि = गंगोर्मि

महा + ऊर्जा = महोर्जा

अ +  ऋ  = अर      

सप्त + ऋषि = सप्तर्षि            

ब्रह्म + ऋषि = ब्रह्मर्षि

आ + ऋ = अर        महा + ऋषि = महर्षि

३- वृद्धि  सन्धि(vrddhi sandhi definition in hindi ( सूत्र : वृद्धिरेचि अथवा वृद्धिरादैच् )

 जहाँ अथवा के पश्चात् अथवा और अथवा का आगमन हो तथा दोने के मेल से क्रमशः   और हो जाए , वहाँ 'वृद्धि सन्धि' होती है । 

उदाहरण- 

अ  +ए = ऐ       

तत्र  + एव = तत्रैव

एक + एव = एकैव

अ + ऐ = ऐ        मत + ऐक्य = मतैक्य      

आ + ए = ऐ

सर्वदा + एव = सर्वदेव

सदा + एव = सदैव

एकदा + एव = एकदैव

तथा + एव = तथैव 

आ.+ ऐ = ऐ        महा + ऐश्वर्य - महेश्वर्य

अ.+ओ = औ

वन + ओषधि = वनौषधि

उष्ण + ओदन = उष्णोदन

जल + ओघ = जलौघ

जल + ओक = जलौक

अ + औ =            

परम + औषण = परमौषध

वन + औषध = वनौषध

आ + ओ = औ        महा + ओज = महौज 

आ + औ = औ          

महा + औदार्य = महौदार्य

महा + औषध = महौषध  

४- यण् सन्धि ( सूत्र : इकोयणचि )

जहाँ हस्व अथवा दीर्घ इ , उ , ऋ के अनन्तर असवर्ण स्वर आता है , वहाँ का य उ का व् तथा का हो जाता है । इसे 'यण सन्धि' कहते हैं ।

उदाहरण - इ + अ = य

अति + अधिक = अत्यधिक

सति + अपि = सत्यपि

यदि + अपि = यद्यपि

प्रति + अर्पण = प्रत्यर्पण

प्रति + अन्तर = प्रत्यन्तर

इ + आ = या

इति + आदि = इत्यादि 

अग्नि + आशय = अग्न्याशय

इ + उ = यु

प्रति + उपकार = प्रत्युपकार 

अभि + उत्थान = अभ्युत्थान

प्रति + उत्तर = प्रत्युत्तर

वि + उत्पत्ति = व्युत्पत्ति

अभि + उदय = अभ्यय

अति + उक्ति = अत्युक्ति

इ + ऊ= यू

नि + ऊन = न्यून

प्रति + ऊष = प्रत्यूष  

इ + ए = ये        प्रति + एक = प्रत्येक

ई + अ = य

नदी  + अर्पण = नद्यर्पण

देवी + अर्थ = देव्यर्थ

ई + आ = या

देवी + आगम = देव्यागम

सखी + आगमन = सख्यागमन

ई + उ = यु

सखी + उचित = सख्युचित

स्त्री + उचित = स्त्र्युचित

ई + ऊ = यू         नदी + ऊर्मि = नद्यूर्मि

ई + ऐ =  यै          देवी + ऐश्वर्य = देव्यैश्वर्य   

उ + अ = व

मनु + अन्तर = मन्वन्तर

अनु + अय  = अन्वय

उ + आ = वा

सु + आगत = स्वागत

मधु + आचार्य = मध्वाचार्य

साधु + आचार = साध्वाचार

उ + इ = वि        अनु + इत = अन्वित

उ + ए = वे         अनु + एषण = अन्वेषण

ऋ + अ = र         पितृ + अनुमति = पित्रनुमति

ऋ + आ = रा

पितृ + आदेश = पित्रादेश

मातृ + आनन्द = मात्रानन्द

पितृ + आज्ञा = पित्राज्ञा

यह भी पढ़ें-  आर्य भाषा प्रकार,वर्गीकरण और विश्व - भाषा का विभाजन एक विश्लेषणात्मक अध्ययन

अयादि सन्धि(ayaadi sandhi definition in hindi) ( सूत्र : एचोऽयवायांव :)

जहाँ , , तथा औ के पश्चात् जुड़ने पर कोई असवर्ण वर्ण आता है वहाँ का अय् , का आय् , का अव तथा औ का आव हो जाता है । इसे 'अयादि सन्धि' कहते है ।

उदाहरण - ए + अ = अय्       ने  + अन = नयन

ऐ + अ = आय्

गै + अन = गायन

विधै + अक = विधायक 

गै  + अक = गायक

ने + अक =  नायक

विनै + अक = विनायक

ओ + अ = अव

भो + अति = भवति

भो + अन = भवन

ओ + इ = अव्  + इ= अवि     -      पो + इत्र = पवित्र 

ओ + ई = अव् + ई = अवी

गो + ईश = गवीश

नौ + ईश = नवीश

ओ + अ = अव् + अ = अव      -  पो + अन = पवन 

औ + अ = आव् + अ = आव

पौ + अक = पावक

धौ + अक = धावक  

व्यञ्जन सन्धि अथवा हल् सन्धि(vyanjan sandhi  athava hal sandhi definition in hindi) ( सूत्र : स्तोः श्चुनाः श्चुः )

दो वर्णों में सन्धि होती है । यदि इन दो वर्गों में से पहला वर्ण व्यञ्जन हो और दूसरा वर्ण व्यञ्जन अथवा स्वर हो तो उससे जो विकार उत्पन्न होगा , उसे व्यञ्जन सन्धि कहेगे । व्यञ्जन सन्धि को संस्कृत में ' हल सन्धि ' कहते हैं ।

अब इस सन्धि से सम्बन्धित प्रमुख नियमों को सोदाहरण जाने - समझें :

१- यदि क् , च् , ट् , त् , प् के परे वर्गों का तृतीय अथवा चतुर्थ वर्ण ( ग , घ , ज , झ , ड , ढ , द , ध , ब , भ ) अथवा य , र , ल , व अथवा कोई स्वर हो तो क , च , ट् , त् , प् के स्थान पर उसी वर्ग का तीसरा अक्षर ( ग , ज , इ , द् , ब ) हो जाएगा । 

उदाहरण

वाक् + ईश = वागीश

अच् + अन्त = अजन्त

तत् +  इच्छा = तदिच्छा

अच् + आदि = अजादि

सुप् + अन्त = सुबन्त

षट् + आनन = षडानन

सत् + आचार = सदाचार

दिक् + गज = दिग्गज

सत् + गति = सद्गति

भगवत् + भक्ति = भगवद्भक्ति

वृहत् + रथ = वृहद्रथ

अप् + ज= अब्ज

सत् + आनन्द = सदानन्द

जगत् + ईश = जगदीश

वाक् + दान - वाग्दान

तत् + रूप - तद्रूप 

वाक् + ईश्वरी = वागीश्वरी

- यदि किसी वर्ग के प्रथम वर्ण से परे कोई अनुनासिक वर्ण हो तो प्रथम वर्ण के बदले उसी वर्ग का अनुनासिक वर्ण हो जाता है ।

उदाहरण

वाक् + मय = वाङ्मय 

जगत् + नाथ = जगन्नाथ

अप् + मय = अम्मय

षट् + मास = षण्मास

एतत् + मुरारी = एतन्मुरारी

वाक् + मात्र= वाङ्मात्र

दिक् + मण्डल = दिङ्मण्डल

चित् + मय = चिन्मय

-त्  या द् के बाद या हो तो त् या द् के स्थान में हो जाता है ।

उदाहरण-

उत् + चारण = उच्चारण

शरत् + चन्द्र = शरच्चन्द्र 

महत् + छत्र = महच्छत्र

सत् + चित् = सच्चित्

सत् + चरित्र = सच्चरित्र

वृहत् + छत्र = वृहच्छत्र 

-त् या द् के आगे अथवा हो तो त् या द् के स्थान पर हो जाता है ।

उदाहरण

सत् + जन = सज्जन

विपद् + जाल = विपज्जाल

-त्  यदि या द् के बाद या हो तो त्  या  द् के स्थान पर ट् हो जाता है । 

उदाहरण-

तत् + टीका = तट्टीका

सत् + टीका = सट्टीका

- त्  या द् के बाद या हो तो त् या द् के स्थान पर इ हो जाता है ।

उदाहरण

उत् + डयन = उड्डयन

- त् या द् के बाद हो तो त् या द् के स्थान पर हो जाता है ।

उदाहरण

तत् + लीन = तल्लीन

उत् + लास उल्लास

उत् + लेख = उल्लेख 

त्  या  द् के बाद हो तो त् या द् का और का हो जाता है ।

उदाहरण

सत् + शास्त्र = सच्छास्त्र     द्ध  

तत् + श्रुत्वा = तच्छुत्वा

 ९त्  या  द् के बाद हो तो त् या द् के स्थान पर द् और के स्थान पर द्ध हो जाता है ।

 उदाहरण

उत् + हार = उद्धार

उत् + हत = उद्धत

उत् + हरण = उद्धरण

तत् + हित = तद्धित 

पद + हति = पद्धति

१०)- के पहले यदि कोई स्वर हो तो के स्थान पर च्छ हो जाता है ।

उदाहरण

आ + छादन = आच्छादन 

परि + छेद = परिच्छेद  

११- म् के बाद य , र , ल , व , श , ष , स , ह में कोई वर्ण हो तो म् अनुस्वार में बदल जाता है । उदाहरण

किम् + वा = किंवा

सम् + हार = संहार

सम् + योग = संयोग

सम् + वाद = संवाद

१२ - .म् के बाद किसी वर्ग का कोई अक्षर हो तो म् के बदले विकल्प से अनुस्वार अथवा उसी वर्ग का अनुनासिक वर्ण हो जाता है ।

उदाहरण

सम् + कल्प = संकल्प अथवा सङ्कल्प

किम् + चित् = किचित् अथवा किञ्चित्

सम् + तोष = संतोष अथवा सन्तोष

सम् + पूर्ण = संपूर्ण अथवा सम्पूर्ण

सम्+ हिता = संहिता 

१३- ऋ , र , ष् के बाद न हो और इनके बीच में कोई स्वर , कवर्ग , पवर्ग , अनुस्वार , य , व , ह आता हो तो का हो जाता है ।

उदाहरण

भर + अन = भरण

भूष + अन = भूषण

प्र + मान = प्रमाण

तृष + ना = तृष्णा

ऋ + न = ऋण

पोष् + अन = पोषण

१४- . यदि किसी शब्द के पहले के के पूर्व , को छोड़कर कोई स्वर आता है तो के स्थान पर  हो जाता है ।

उदाहरण

नि + सिद्ध = निषिद्ध

वि + सम = विषम

अभि + सेक = अभिषेक

युधि + स्थिर = युधिष्ठिर

विसर्ग सन्धि (visarg sandhi definition in hindi)( सूत्र : विसर्जनीयस्य सः )

विसर्ग के साथ स्वर अथवा व्यञ्जन के मेल से जो विकार उत्पन्न होता है , उसे 'विसर्ग सन्धि' कहते हैं । जैसे

तपः + वन = तपोवन

दु : + कर्म = दुष्कर्म

अब सन्धि से सम्बन्धित प्रमुख नियमों को सोदाहरण जाने - समझें :

१- विसर्ग के बाद या हो तो विसर्ग का श् जाता है । यदि बाद में या हो तो ष और या हो तो श् अथवा स् हो जाता है ।

उदाहरण

नि : + छल = निश्चल

नि : + चल = निश्चल

कः + चित् - कश्चित्

दुः + ट- दुष्ट

धनु : + टंकार = धनुष्टंकार

मनः + ताप : मनस्ताप

पुरः + कार = पुरस्कार

- विसर्ग के बाद श , ष , स आता है तो विसर्ग ज्यों - का - त्यों रहता है अथवा उसके स्थान में आगे का अक्षर हो जाता है ।

उदाहरण

दुः + शासन = दुश्शासन अथवा दुःशासन

हरिः + शेते = हरिश्शेते अथवा हरि : शेते

निः + सन्देह = निस्सन्देह अथवा नि : सन्देह

नि : + शंक- निश्शंक अथवा निःशंक

नि : + सार = निस्सार अथवा नि : सार

३- विसर्ग के  बाद  क , ख , प , फ आता है तो विसर्ग में कोई परिवर्तन नहीं होता ।

उदाहरण

रज : + कण- रजःकण

पयः + पान - पयःपान

अन्तः + पुर - अन्तःपुर

- विसर्ग के पहले यदि या हो और विसर्ग के बाद क , ख या प , फ हो तो इनके पहले विसर्ग के बदले हो जाता है ।

उदाहरण

नि : + कपट = निष्कट

दुः+ कर्म = दुष्कर्म

निः + फल = निष्फल

दुः + प्रकृति = दुष्प्रकृति

निः + पाप = निष्पाप

दु : + कर = दुष्कर

- यदि विसर्ग के पहले हो और आगे वर्गों के प्रथम तथा द्वितीय अक्षर को छोड़कर अन्य कोई अक्षर या य , र , ल , व , ह हो तो अ और विसर्ग का हो जाता है ।

उदाहरण- 

मनः + ज = मनोज

अधः + गति = अधोगति

मनः + योग = मनोयोग

तेजः + राशि = तेजोराशि

वयः + वृद्ध = वयोवृद्ध

मन: + रथ = मनोरथ

तपः + भूमि = तपोभूमि

यश: + दा = यशोदा 

६- यदि विसर्ग के पहले , को छोड़कर और कोई स्वर हो और बाद में वर्ग का तीसरा , चौथा , पाँचवाँ वर्ण या य , र , ल , व , ह या कोई स्वर हो तो विसर्ग के स्थान पर रहो जाता

उदाहरण

निः + आशा = निराशा

दुः + उपयोग = दुरुपयोग

निः + दय - निर्दय

दुः + आशा = दुराशा

नि : + गुण - निर्गुण

बहि: +  मुख = बहिर्मुख

निः + बल = निर्वल

दु : + दशा = दुर्दशा

७- यदि विसर्ग से पहले अ , आ को छोड़कर अन्य कोई स्वर हो और बाद में र हो तो विसर्ग का लोप हो जाता है और उसके पूर्व का ह्रस्व स्वर दीर्घ कर दिया जाता है ।

उदाहरण

नि : + रस = नीरस

नि : + रोग =  नीरोग

निः + रव =  नीरव

८- यदि अकार के बाद विसर्ग हो और उसके आगे अ को छोड़कर कोई स्वर हो तो विसर्ग का लोप हो जाता है और पास - पास आये हुए स्वरों की फिर सन्धि नहीं होती ।

उदाहरण- अत : + एव = अतएव

९- अन्त्य स के बदले विसर्ग होने पर नियम ( ५ ) अथवा ( ६ ) लागू हो जाता है ।

उदाहरण- अधस् + गति = 

अध :+ गति = अधोगति

निस् + गुण = निः + गुण = निर्गुण

हिन्दी के ' तद्धित ' प्रत्यय

स्त्री प्रत्यय Stree Pratyaya, संस्कृत व हिन्दी के स्त्री प्रत्यय के उदाहरण सहित

Thanks for visiting Khabar daily update. For more सामान्यहिंदी, click here




Rate this article

एक टिप्पणी भेजें