हिन्दी के प्रमुख तद्धित प्रत्यय |Hindi's Main Tadhit Suffix

हिन्दी के प्रमुख ' तद्धित ' प्रत्यय Hindi's main 'tadhit' suffix हिन्दी के तद्भव - शब्दों में तद्धित प्रत्यय जोड़कर संज्ञा और विशेषण शब्द बनाये जाते
हिन्दी के प्रमुख ' तद्धित ' प्रत्यय |Hindi's main 'tadhit' suffix

हिन्दी के प्रमुख ' तद्धित ' प्रत्यय Hindi's Main 'Tadhit' Suffix

हिन्दी के तद्भव-शब्दों में तद्धित प्रत्यय जोड़कर संज्ञा और विशेषण शब्द बनाये जाते हैं। हिन्दी के प्रमुख तद्धित प्रत्यय निम्नलिखित हैं: 

आ- इसके योग से संज्ञा से विशेषण और साधारण संज्ञा से भाववाचक संज्ञाएँ बनती हैं। जैसे-

संज्ञा

विशेषण

भूख

भूखा

प्यास

प्यासा

बोझ

बोझा

खटक

खटका

आई- इस प्रत्यय के योग से विशेषणों और संज्ञाओं से भाववाचक संज्ञाएँ बनती हैं। जैसे- 

संज्ञा

विशेषण

विदा

विदाई

भला

भलाई

बुरा

बुराई

अच्छा

अच्छाई

ठाकुर

ठकुराई

अधम

अधमाई

आन- इससे भाववाचक संज्ञाएँ बनती हैं।जैसे- 

संज्ञा

विशेषण

लम्बा

लम्बान

ऊँचा

ऊँचान

चौड़ा

चौड़ान

नीचा

नीचान


आना- इस प्रत्ययानुसार स्थानवाचक संज्ञाएँ बनती हैं। जैसे-

संज्ञा

विशेषण

हिन्दू

हिन्दुआना

राजपूत

राजपुताना

तेलंग

तेलंगाना

बघेल

बघेलाना


आर- इस प्रत्यय के योग से कर्तृवाचक संज्ञाएँ बनती है। जैसे- 

संज्ञा

विशेषण

कुम्भ

कुम्भार

सोना

सोनार

लोहा

लोहार

चर्म

चर्मकार

कभी-कभी इस प्रत्यय से विशेषण भी बनते हैं। जैसे- 

संज्ञा

विशेषण

दूध

दुधार

गाँव

गवार


आरा, आरी- इन प्रत्ययों का प्रयोग भी 'आर' के समान ही होता है। जैसे- 

संज्ञा

विशेषण

हत्या

हत्यारा

घास

घसियारा

भीख

भिखारी

पूजा

पुजारी


आल, आला- इन प्रत्ययों से संज्ञाएँ बनती हैं। जैसे- 

संज्ञा

विशेषण

कृपा

कृपाल

ससुर

ससुराल

दया

दयाला

शिव

शिवाला

छिन्ना

छिनाल ( छिनार )

पानी

पनाल, पनाला


आवट- इसके योग से भाववाचक संज्ञाएँ बनती हैं।जैसे- 

संज्ञा

विशेषण

नीम

निमावट 

आम

अमावट


आस- इस प्रत्यय के जुड़ने से विशेषण और भाववाचक संज्ञाएँ बनती हैं। जैसे- 

संज्ञा

विशेषण

मीठा

मिठास

खट्टा

खटास

नींद

निंदास

ऊँघ

ऊँघास

आहट- इस प्रत्यय के योग से भाववाचक संज्ञाएँ बनती हैं। जैसे- 

संज्ञा

विशेषण

चिकना

चिकनाहट

कड़आ

कडुआहट

गरम

गरमाहट

मुस्कान

मुस्कुराहट


 इया- इस प्रत्यय के योग से कर्तृवाचक और स्थानवाचक संज्ञाएँ बनती हैं। जैसे- 

संज्ञा

विशेषण

दुःख

दुखिया

आढ़त

अढ़तिया

बाग़

बगिया

ओसोम

ओसोमिया

भोजपुर

भोजपुरिया

रस

रसिया


ई- इससे भाववाचक संज्ञाएँ बनती हैं। जैसे- 

संज्ञा

विशेषण

खेत

खेती

सुस्त

सुस्ती

सावधान

सावधानी

चोर

चोरी

महाजन

महाजनी

चौकीदार

चौकीदारी


 ईला- इस प्रत्यय के प्रयोग से विशेषण बनते हैं। जैसे- 

संज्ञा

विशेषण

रंग

रँगीला

रेत

रेतीला

रस

रसीला

पत्थर

पथरीला

ज़हर

ज़हरीला

सुर

सुरीला

ऊ'- इससे विशेषण शब्द बनते हैं। जैसे-

संज्ञा

विशेषण

बाज़ार

बाजारू

गवारू

गँवार

टहल

टहलू

गरज

गरजू


एरा- इस प्रत्यय द्वारा विभिन्न शब्द बनते हैं। जैसे- 

संज्ञा

विशेषण

मामा

ममेरा

चाचा

चचेरा

अन्ध

अंधेरा

सॉप

सपेरा

घना

घनेरा

मौसा

मौसेरा

एड़ी- इस प्रत्यय से कर्तृवाचक संज्ञाएँ बनती हैं। जैसे-

संज्ञा

विशेषण

भाँग

भंगेड़ी

गाँजा

गॅजेड़ी

औती- इससे भाववाचक संज्ञाएँ बनती हैं। जैसे-

संज्ञा

विशेषण

काठ

कठौती

मान

मनौती

बाप

बपौती

चूना

चुनौती

ओला- इससे लघुतावाचक शब्दों का निर्माण होता है। जैसे-

संज्ञा

विशेषण

साँप

सँपोला

खाट

खटोला

 - इसके विभिन्न प्रयोग हैं। जैसे-

संज्ञा

विशेषण

ढोल

ढोलक

पंच

पंचक

सप्त

सप्तक

बाल

बालक

 ऐल- इस प्रत्यय से गुणवाचक विशेषण बनते हैं। जैसे-

संज्ञा

विशेषण

झगड़ा

झगड़ैल

दाँत

दंतैल

तोंद

तोदैल

रोब

रौबेल

- इस प्रत्यय के योग से भाववाचक संज्ञाएँ बनती हैं। जैसे-

संज्ञा

विशेषण

संग

संगत

रंग

रंगत

चाह

चाहत

पंग

पंगत

पन- इस प्रत्यय के योग से भाववाचक संज्ञाएँ निष्पन्न होती हैं। जैसे

संज्ञा

विशेषण

मैला

मैलापन

लड़का

लड़कपन

बच्चा

बचपन

ढीला

ढीलापन

छोटा

छोटापन

ओछा

ओछापन

अक्खड़

अक्खड़पन

बड़ा

बड़प्पन

पा- यह ' पन ' का ही दूसरा रूप है। जैसे-

संज्ञा

विशेषण

बहन

बहनापा

बूढ़ा

बुढ़ापा

मोटा

मोटापा

रॉड्र

रँड्रापा

हारा- इसके योग से कर्तृवाचक संज्ञाएँ बनती हैं। जैसे-

संज्ञा

विशेषण

लकड़ी

लकड़हारा

पानी

पनिहारा

घास

घसिहारा

- इसके योग से भाववाचक संज्ञाएँ बनती हैं। जैसे-

संज्ञा

विशेषण

उष्मा

उमस

तम

तमस

ता- इसके योग से भाववाचक संज्ञाएँ निष्पन्न होती हैं। जैसे-

संज्ञा

विशेषण

मधुर

मधुरता

मित्र

मित्रता

कवि

कविता

मानव

मानवता

मनुज

मनुजता

सुन्दर

सुन्दरता

हरा- इसके योग से विशेषण शब्द निष्पन्न होते हैं। जैसे-

संज्ञा

विशेषण

एक

एकहरा

तीन

तिहरा

सोना

सुनहरा

रूप

रूपहरा

वाला- इसके योग से कर्त्तृवाचक संज्ञाएँ बनती हैं। जैसे-

संज्ञा

विशेषण

टोपी

टोपीवाला

धन

धनवाला

पानी

पानीवाला

रूप

रूपवाला

Read More: 

सन्धि 

समास 

उपसर्ग 

प्रत्यय

भाषा किसे कहते है अर्थ परिभाषाएं और प्रकार | What is Language in Hindi

आर्य भाषा प्रकार,वर्गीकरण और विश्व - भाषा का विभाजन एक विश्लेषणात्मक अध्ययन

व्याकरण अर्थ परिभाषा और हिन्दी भाषा से अन्तर्सम्बन्ध

भाषाओं का पारस्परिक प्रभाव,भाषा - शास्त्र का समीक्षण और परीक्षण

वैदिक संस्‍कृत और लौकिक संस्‍कृत भाषा व् भाषा का जीवन्त रूप

भाषा शब्द - शास्त्र का तुलनात्मक अध्ययन

संस्कृत के प्रमुख ' तद्धित ' प्रत्यय | tadhit suffix of Sanskrit

भारतीय संविधान में citizenship क्या है ?नागरिकता acquisition और termination प्रोसेस क्या है ?

मौलिक कर्तव्य क्या है ?मौलिक अधिकार एवं नीति निदेशक तत्व में अन्तर

Rate this article

एक टिप्पणी भेजें