Type Here to Get Search Results !

उपसर्ग अर्थ परिभाषा ,भेद(प्रकार) उदाहरण सहित | upsarg in hindi | उपसर्गो के शुद्ध प्रयोग

उपसर्ग अर्थ परिभाषा ,भेद(प्रकार) उदाहरण सहित | upsarg in hindi | उपसर्गो के शुद्ध प्रयोग  

उपसर्ग 

उपसर्ग ' शब्द दो शब्दों से व्युत्पन्न है । पहला शब्द है , ' उप ' , जिसका अर्थ " समीप ' होता है और दूसरा शब्द है ' सर्ग ' , जिसका अर्थ ' सर्जना ' है । उपसर्गों के लगने से धातुओं के अर्थों में एक विलक्षणता आ जाती है । धातु के साथ उपसर्ग लगने से तीन परिवर्तन होते हैं :

उपसर्ग के उदाहरण,उपसर्ग के भेद कितने होते हैं?,
उपसर्ग अर्थ परिभाषा ,भेद(प्रकार) उदाहरण सहित | upsarg in hindi | उपसर्गो के शुद्ध प्रयोग 

1. क्रिया का अर्थ बिलकुल बदल जाता है । जैसे- विजय - पराजय , उपकार - अपकार । निर्वचना 

2. क्रिया के ही अर्थ का अनुवर्तन हो जाता है ; जैसे- वास अधिवास , उच्च - प्रोच्या 

3. क्रिया के अर्थ में एक प्रकार का वैशिष्टय आ जाता है ; जैसे— गमन अनुगमन , वचन

ये भी पढ़े - samas | समास परिभाषा भेद उदाहरण सहित | samas in hindi

 उपसर्ग अर्थ और परिभाषा (prefix meaning definition)

'उपसर्ग ' वे शब्दांश हैं , जो किसी शब्द के पूर्व में आकर विशिष्ट अर्थ का प्रतिपादन करते हैं । इनका कोई स्वतन्त्र अस्तित्व नहीं होता किन्तु वे शब्दों के साथ आने पर अर्थ - परिवर्तन करने में समर्थ होते हैं । ' उपसर्ग ' उस वर्ण अथवा समूह का नाम है , जिसका स्वतन्त्र प्रयोग नहीं होता है और जिसे किसी शब्द के पूर्व , कुछ आर्थिक विशेषता लाने के लिए जोड़ा जाता है । शब्द के पूर्व लगकर उपसर्ग शब्द का अर्थ बदल देते हैं । 

उदाहरणार्थ- ' मुख ' शब्द का अर्थ अंग - विशेष ' है किन्तु इसमें ' अभि ' उपसर्ग जोड़ दिया जाए तो शब्द बनेगा ' अभिमुख ' , जिसका अर्थ होगा , सामने की ओर । ' हार ' शब्द में प्र , आ , वि तथा परि उपसर्ग लगाकर प्रहार , आहार , विहार तथा परिहार शब्द बनाते हैं । 

सत्य ही कहा है , 

उपसर्गेण धात्वर्थो बलादन्यत्र नीयते । 

प्रहाराहार संहार विहार परिहारवत् ।। 

हिन्दी भाषा में प्रयुक्त होनेवाले उपसर्ग तीन कोटियों में विभक्त किये जा सकते हैं : 

1. संस्कृत उपसर्ग 

2. हिन्दी - उपसर्ग 

3. उर्दू उपसर्ग । 

ये भी पढ़े -  सन्धि परिभाषा | सन्धि प्रकार उदाहरण सहित | सन्धि और संयोग में अंतर

1- संस्कृत - उपसर्ग

संस्कृत में उपसगों की संख्या २२ है किन्तु कुछ विद्वान् निस , निर तथा दुस , दूर् को एक ही मानते हैं । इस प्रकार उपसगों की संख्या २० हो जाती है संस्कृत - उपसर्ग उन तत्सम शब्दों में लगते है , जिनका प्रयोग हिन्दी में होता है । संस्कृत के उपसर्ग अग्रलिखित प्रकार से हैं

उपसर्ग

अर्थ

उदाहरण

अति

अधिक , सीमा से परे

अतिगन्ध , अतिवृद्धि , अतिशय , अतिरिक्त , अत्युक्ति , अत्यधिक , अतिक्रमण , अत्यन्त , अत्याचार , अतिवाद 

अधि

अधिक , ऊपर , श्रेष्ठ , समीपता

अधिकार , अधिकृत , अध्ययन अधिराज , अधिवक्ता , अध्यक्ष , अधिशाषी , अधिभार , अध्यवसाय , अधिष्ठित 

अनु

पीछे , क्रम , समानता

अनुमान , अनुकूल , अनुचर , अनुभव , अनुसार , अनुरोध , अनुशीलन , अनुभाव , अनुरूप , अनुभाव , अनुप्रास , अनुराग

अप

बुरा , अभाव , विपरीत

 अपराध , अपमान , अपव्यय , अपकर्ष , अपकीर्त्ति , अपशकुन , अपशब्द , अपभ्रंश , अपहरण , अपकृत्य , अपसंस्कृत , अपशिष्ट

अपि

निकट

 अपिमान , अपिधान , अपिसार , अपिण्डी 

अभि

सामने , अधिक , अच्छा

अभिमान , अभिसार , अभियोग , अभ्युदय , अभ्यागत , अभिलाषा , अभिवृद्धि , अभिषिक्त , अभिनय , अभिमुख , अभियान 

अव

पतन , हीनता , उलटा

अवनति , अवकाश , अवगुण , अवसर , अवलम्बन , अवतरण , अवचेतन , अवरोध , अवरोह , अवधान , अवतंस , अवमानना

तक , सब तरफ़ से , ओर

 आदर , आगमन , आभार , आजीवन , आकांक्षा , आडम्बर , आक्रमण , आलम्बन , आधार , आचरण , आरोहण , आमूल , आद्यन्त , आभरण , आवरण 

उत् , उद्

ऊपर , अधिक

उत्कर्ष , उद्रेक , उद्भव , उत्तम , उत्पात , उत्पन्न , उद्गार , उद्गम , उद्दीप्त , उत्सन्न , उत्सर्ग , उत्सर्जन , उत्फुल्ल उद्भाव , उत्संग ,

उप

समीप , सहायक , छोटा

उपयुक्त , उपहार , उपकार , उपकूल , उपद्रव , उपवास , उपयोग , उपनिवेश , उपनयन , उपदेश , उपप्रधानमन्त्री , उपसम्पादक

दुः ( दुर् , दुस् )

बुरा , दुष्ट , कठिन

दुर्गम , दुस्साहस , दुर्जन , दुर्जेय , दुर्लभ , दुश्चरित्र , दुःसाध्य दुर्बुद्धि , दुराशय दुष्कर , दुर्द्धर्ष , दुर्लघ्य

नि 

बहुत , नीचे , अलावा

निवास , निकेतन , निवेदन , निक्षिप्त , निबन्ध , निवेश , निदान , निकट

निः ( निस् , निर )

बिना , बाहर , निषेध

 निर्देश ,निर्वेद , निरीक्षण , निर्भय , निराकरण , निर्जीव , निर्मल , निष्कास , निःसाध्य निःश्वास , निःशब्द , निःस्पृह , निर्वाक 

परा 

विपरीत , अनादर

पराधीन , पराकाष्ठा , परामर्श , पराविद्या परावर्त्त , परार्द्ध 

परि 

चारों ओर , आस - पास , अतिशय , त्याग

परिचय , परिणय , परिवर्तन , परिणाम परितोष , परिपूर्ण , परिशीलन , परिक्रमा . परित्राण , परित्याग , परिवेश , परिसर

 प्र

अधिक , ऊपर , आगे , गति

प्रणाम , प्रस्थान , प्रख्यात , प्रपंच , प्रेरणा , प्रगति , प्रवेश , प्रसार , प्रताप , प्रबल , प्रवेग , प्रवंचना , प्रलाप , प्रमाद , प्रयोग , प्रयाग

 

प्रति 

विपरीत , समान , प्रत्येक , परिवर्तन

प्रतिकूल , प्रतिहार , प्रतिमूर्ति , प्रतिबिम्ब , प्रतिदिन , प्रतिध्वनि , प्रतिवाद , प्रतियोगिता , प्रत्येक , प्रतिक्षण , प्रतिहिंसा , प्रतिघात

वि

विशेष , रहित , विपरीत , भिन्न

विहार , विमर्श , विदेश , विवाद , विरह , विपक्ष , विख्यात , विशिष्ट , विराम , विपर्याय , विप्रलम्भ , वितृष्णा , वियोग , विनिश्चित

सम् , सन्

संयोग , पूर्णता

सन्तोष , संचय , संशोधन , संगीत , संस्कार , सम्मुख , समक्ष , संशय , सम्भाषण , समग्र , समालोचना सन्देश , सन्देह , सम्पादक

सु 

अच्छा , सरल

स्वागत , सुकर्म , सुयश , सुरक्षा , सुधार , सुभाषित , सुकवि , सुजन , सुकृत , सुदूर सुकुमार , सुवासित , सुसंघटित , सुअवसर


2-हिंदी उपसर्ग

 

निषेध , अभाव अनजान

अपढ़ , अजान , अथाह , अलग , अनाम , अकाल , अचेत , अमोल , अगाध , अकाज

अध्

आधा

 अधखिला , अधकचरा , अधपका , अधजला , अधकहा , अधपिया

अन् 

अभाव , निषेध , अनजान

अनपढ़ , अनमोल , अनसुनी , अनगद , अनहित , अनिच्छा

उन 

एक कम

उनचास , उनसठ , उनतीस , उनतालीस . उनहत्तर 

( अव )  

हीनता , नहीं

औघड़ , औघट , अवगुण , औढर ,

, कु

बुरा

 कुपूत , कुपात्र , कुठौर , कुढंग , कुकाठ , कुचाल , कुलेख 

, सु 

अच्छा सहित

सुकर्म सुपूत , सुपात्र , सुठौर , सुलेख , सुचाल , सुडौल , सुजान

साथ , सहित

सगोत्र , सरस , सहित , सजग

दु

बुरा , हीन

दुकाल , दुलारा , दुसाध 

 नि

नहीं , अभाव

निधड़क , निडर , निहत्था , निकम्मा


3-उर्दू उपसर्ग

 

कम

हीन , थोड़ा

 कमज़ोर , कमसमझ , कमअक्ल , कमउम्र , कमसिन , कमबख़

गैर

नहीं , अभाव

गैरहाज़िर गैरमिज़ाज , गैरमुमकिन , गैरघर , गैरवाज़िब , गैरसरकारी , गैरक़ानूनी 

खुश

अच्छा

खुशबू , खुशमिज़ाज , खुशदिल ,

दर

में

दरअस्ल , दरबार , दरम्यिान , दरकार , दरवेश , दरहक़ीक़त 

ना

अभाव

 नापसन्द , नादान , नाराज़ , नाबालिग , नामुमकिन , नालायक़ नाउम्मीद , नासमझ

अनुसार में

बनाम,बदस्तूर ,बदौलत, बइजलास ,बकौल

बद

बुरा

बदमाश , बदनाम , बदकिस्मत , बदतमीज़ , बदहजम बदबू , बाक़लमबदहवास , बदुआ , बदशक्ल , बदचलन , बदनियत 

बा 

साथ

बावफ़ा , बामुलाहज़ा , बाइंसाफ़ , बाकायदा

बिला

बिना

बिलाकैद , बिलाकुसूर , बिलाशक , बिलामुलाहज़ा , बिलाख़याल

बे

बिना

बेईमान , बेशर्म , बेदर्द , बेचारा , बेचैन , बेधड़क , बेकाम , बेहोश , बेडौल , बेहतर , बेअक्ल

ला

बिना

लाचार , लावारिस , लाजवाब , लापता , लापरवाह , लाइलाज

सर

मुख्य

सरदार , सरताज , सरगना , सरकार , सरहद

हम

बराबर

हमउम्र , हमसफ़र , हमवतन , हमराज़ , हमदम , हमदर्द , हमक़दम

हर 

प्रत्येक

 हररोज़ , हरसाल , हर आदमी , हरएक ,हरतरह , हरतरफ़ , हरमाह


निम्नलिखित शब्दों के उपसर्ग और मूल शब्द पृथक् - पृथक् दर्शाये गये है -

समालोचना , सुसंगठित , अभिमुख , अभियान , अत्याचार ।

उत्तर के लिए अब हम एक - एक शब्द को लेंगे । इसका उत्तर इस प्रकार से लिखा जाएगा : 

समालोचना- सम् + आलोचना ( इसमें मूल शब्द ' आलोचना ' है और ' सम् ' उपसर्ग । ) 

सुसंगठित- सु + संगठित ( इसमें मूल शब्द ' संगठित ' है और ' सु ' उपसर्ग । ) 

अभिमुख- अभि + मुख ( इसमें मूल शब्द ' मुख ' है और ' अभि ' उपसर्ग । ) 

अभियान- अभि + यान ( इसमें मूल शब्द ' यान ' है और ' अभि ' उपसर्ग । ) 

अत्याचार- अति + आचार ( इसमें मूल शब्द ' आचार ' है और ' अति ' उपसर्ग ।

गति - शब्द

कुछ विशेषण और अव्यय ऐसे हैं , जिनका प्रयोग उपसर्ग के समान होता है । इनका नामकरण ' गति ' किया गया है । प्रमुख गति - शब्द निम्नलिखित हैं 


 

नहीं

 

अज्ञान , अमर , अब्राह्मण , असत्य , अधर्म

पर

 

दूसरा

 

परपक्ष , पराधीन , परलोक , परगृह , परधन , पराश्रय , परमात्मा , परमार्थ

बहू

 

अधिक

 

बहुमूल्य , बहुमुखी , बहुवचन

कटु

 

कडुवा

 

कटुसत्य , कटुवाणी , कटुकथन

 

साथ

 

सजीव , सहृदय , सफल

 

सह

 

साथ

 

सहगमन , सहपाठी , सहयात्री , सहचालक , सहधर्मी , सहचर

 

भर

 

पूर्ण

 

भरपेट , भरसक , भरपूर

सु

 

सुन्दर

 

सुडौल , सुघर , सुबुद्धि , सुचेत , सुयोग , सुलोचना ,सुलेख , सुकर्म , सुभेद , सुपुत्र

उपसर्गों के शुद्ध प्रयोग(pure use of prefixes)

(1) अभिराम सदा नैरोग रहता है ।

( अशुद्ध )

अभिराम सदा नीरोग रहता है ।

( शुद्ध )

(2) )आज़ाद भारतमाता के सच्चे सपूत थे ।

( अशुद्ध )

आज़ाद भारतमाता के सच्चे सुपूत ( सुपुत्र ) थे ।

( शुद्ध )

(3) इति पेटभर मिठाई खायी ।

( अशुद्ध )

इति ने भरपेट मिठाई खायी

( शुद्ध )

( 4 ) यह समाचार सुनकर वह अनचेत हो गया ।

( अशुद्ध )

यह समाचार सुनकर वह अचेत हो गया ।

( शुद्ध )

( ५ ) प्राचीनकाल में हमारा देश धनधान्य से पूर्ण था ।

( अशुद्ध )

प्राचीनकाल में हमारा देश धनधान्य से   परिपूर्ण था ।

( शुद्ध )

( 6 ) मनुष्य को अपनी शक्ति का मान नहीं करना चाहिए ।

( अशुद्ध )

मनुष्य को अपनी शक्ति का अभिमान नहीं करना चाहिए ।

( शुद्ध )

( 7 ) वह हर दिन घूमने जाता है ।

( अशुद्ध )

वह प्रतिदिन घूमने जाता है ।

( शुद्ध )

( 8 ) वह अनपढ़ है ।

( अशुद्ध )

वह अपढ़ है ।

( शुद्ध )

( 9) ' गाँधी जी ' ने कई बार मरण अनशन किया था । '

( अशुद्ध )

गाँधी जी ' ने कई बार आमरण अनशन किया था ।

( शुद्ध )

( 10 ) यह कार्य तुम्हारे लिए अकीर्ति का कारण बनेगा।

( अशुद्ध )

यह कार्य तुम्हारे लिए अपकीर्ति का कारण बनेगा ।

( शुद्ध )


Thanks for visiting Khabar daily update. For more सामान्यहिंदी, click here.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Hollywood Movies